World Heart Day: हार्ट को कैसे रखें स्वस्थ, जानें तरीका

world heart day

वर्ल्ड हार्ट डे (World Heart Day) हर साल 29 सितम्बर को मनाया जाता है। इसका उद्देश्य लोगों में दिल की बिमारियों के प्रति जागरूकता फैलाना।

व्यायाम और अच्छा खानपान दोनों जरूरी है। यह आपका दिल तंदरुस्त रखता है। इसके लिए आपको कुछ सुझाव दिए जाते है जिन्हें आपको अपनाना चाहिए।

भोजन की मात्रा पर ध्यान दें: मोटापे से रक्तचाप (बीपी) बढ़ता है जिससे दिल की बिमारियों के होने का अंदेशा रहता है इसलिए जब आपको जरूरत हो तभी खाना खाएं। मैदा इत्यादि का सेवन कम करें। सब्जियाँ और फलों की मात्रा बढ़ाएँ।

घर पर बने हुए खाने को खाएँ: घर का भोजन ज्यादा पौष्टिक होता हैं, क्योंकि आप खुद से ही सब्जी, मसाले, चिकनाई एवं पकाने की विधि का चयन करते हैं। आप खाने को ज्यादा स्वादिष्ट बनाने के लिए उसमें विभिन्न प्रकार के मसाले डालते हैं और नमक एवं चीनी जैसे हानिकारक तत्वों की मात्रा कम कर सकते हैं।

अधिक फाइबर वाला खाना खाएँ: साबूत दालें, अनाज, सब्जियाँ जैसे गाजर, टमाटर आदि में ना घुलने वाला फाइबर होता है। दलिया, सूखे मेवे और फल जैसे सेब, नींबू, नाशपति, अनानास आदि में घुलनशील फाइबर होते हैं। ज्यादा से ज्यादा फाइबर युक्त खाना खाएँ

खाने में नमक कम से कम खाएँ: भोजन में अधिक नमक की मात्रा होने से रक्तचाप (बीपी) बढ़ सकता है। इस कारण हृदय में कई बीमारियाँ होने की संभावना बढ़ जाती है।

दिल की बिमारियों के कारण: Causes of Heart Disease

आजकल लोग आधुनिक जीवनशैली को अपनाने की वजह से अपनी सेहत के साथ खिलवाड़ करते है। बाहर का खाना जैसे फास्ट-फूड, जंक फूड का सेवन, शराब का सेवन, अतिरिक्त फैट वाला भोजन करना आदि आपकी सेहत के साथ खिलवाड़ कर सकते है। शारीरिक गतिविधियों में भाग ना लेना, जरूरत से ज्यादा तनाव लेना आदि भी इसमें शामिल है। यह सब हमारे दिल के लिए अच्छा नहीं है।

हार्ट अटैक के कारण: Causes of Heart Attack in Hindi

जब ह्रदय ठीक से पंप नहीं कर पाता तो हमें ह्रदय की बीमारी घेर लेती है। इसमें कोरोनरी धमनियों (arteries) में ब्लाकेज हो जाता है जिसकी वजह से रक्त में ऑक्सीजन का प्रवाह होना कम हो जाता है जिससे मनुष्य को हार्ट अटैक आ सकता है।

हार्ट अटैक के लक्षण: Symptoms of Heart attack

हार्ट अटैक (Heart attack) के लक्षण हर शरीर में अलग-अलग तरीके के होते हैं। कुछ लोगों के सीने में धीमा दर्द उठता है जबकि कुछ लोगों को एकदम से तीव्र दर्द होता है। हार्ट अटैक (Heart attack) आने पर किसी को कोई लक्षण समझ में नहीं आते हैं जबकि किसी को कार्डियक अरेस्ट की परेशानी हो जाती है। हार्ट अटैक (Heart attack) आने से पहले सीने में हल्का दर्द होता है या सीने में हल्का दबाव महसूस होता है जो थोड़े आराम के बाद ठीक हो जाता है।

हार्ट अटैक से बचने का उपाय: Method to prevent of heart attack

बहुत लोग सीने में होने वाले दर्द या दिल की तकलीफ को सही से समझ नहीं पाते। अगर आपको ऐसी किसी तरह की परेशानी महसूस हो रही है तो तुरंत ही मेडिकल इमरजेंसी को फोन करें। अगर आपके पास कोई मेडिकल मदद नहीं पहुँच पा रही है तो किसी की मदद से आप तुरंत अस्पताल जाएँ।

रोजाना की व्यस्त जीवनशैली और खान-पान में अनियमितता ने आज लोगों को कई बीमारियों की ओर बढ़ा दिया है। इन बीमीरियों में हार्ट अटैक यानि दिल का दौरा एक ऐसी बीमारी है जो बहुत तेजी से बढ़ रहा है। दिल की बीमारी (Heart Disease) से बचने के प्रति जागरुक करने के लिए हर साल के 29 सितंबर को विश्व हृदय दिवस (World Heart Day) मनाया जाता है। हार्ट अटैक एक ऐसी स्थिति है, जिसमें अधिकतर लोग इसके लक्षणों को नहीं पहचान पाते और इस बीमारी का शिकार हो जाते हैं।

कोलेस्ट्रॉल कम करें: कोलेस्ट्रॉल एक केमिकल कंपाउंड है जो हमारे लिवर में होता है। यह हमारे शरीर में नई कोशिकाओं और हॉर्मोंस को व्यवस्थित रखने में मददगार है। हमारे शरीर को जब कोलेस्ट्रॉल की जरूरत होती है तो लिवर इसे निकाल देता है और शरीर अपनी जरूरत को पूरा कर लेता है।

लेकिन जो भी अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल हमारे शरीर में जमा होता है वह शरीर के लिए नुकसानदायक है। इस कोलेस्ट्रॉल को एलडीएल कहते हैं। एलडीएल हमारे शरीर के रक्त प्रवाह को बाधित कर देता है, जिससे दिल और दिमाग पर बुरा असर पड़ता है। एलडीएल जानलेवा हो सकता है इसलिए डेयरी उत्पाद या अन्य फैट युक्त चीजों के अधिक प्रयोग से बचना चाहिए, जिससे कोलेस्ट्रॉल का स्तर नियंत्रित रहें।

तनाव कम लें: अत्यधिक तनाव या डिप्रेशन दिल के लिए नुकसानदायक है। तनाव ह्रदय रोगों के लिए जिम्मेदार है। इसलिए हमेशा प्रयास कीजिए कि आपके अंदर तनाव की स्थिति पैदा ना हो। तनावमुक्त रहने से ह्रदय का खतरा कम हो जाता है। योग, व्यायाम, वॉकिंग आदि शारीरिक गतिविधियों से भी तनाव को कम कर सकते हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित इस लेख में सामान्य जानकारी दी गई है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है।अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐप डाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ  डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.