fbpx

Urine Colour: यूरीन के रंग से जानें किस बीमारी के शिकार हैं आप?

Urine Colour: यूरीन के रंग से जानें किस बीमारी के शिकार हैं आप?

Urine Colour: सामान्य यूरिन हल्का-पीले रंग का होता है जो कणों से मुक्त होता है। यूरिन कभी-कभी गाढ़े पीले रंग का हो जाता है। यूरिन कई रंगों में दिख सकता है जो अलग-अलग स्वास्थ्य की स्थिति को दर्शाते है।

गाढ़ा पीला यूरिन डिहाइड्रेशन को दर्शाता है। इस आर्टिकल में आपको अलग-अलग तरह के यूरिन में बदलाव के बारे में बताएंगे साथ ही साथ अलग-अलग कारकों के बारे में बताएंगे जो यूरिन के रंग (Urine Colour) को प्रभावित करती है।

1. यूरिन का पीला होने के लक्षण (yellow colour urine symptoms)

यूरिन का कलर (Urine Colour) गाढ़ा पीला होना B विटामिन की ज्यादा मात्रा होने को दर्शाता है। विटामिन-B के सप्लीमेंट्स लेने से यूरिन का कलर गाढ़ा पीला हो जाता है। यूरिन का कंसन्ट्रेशन बढ़ने पर पेशाब का कलर पीला होता जाता है। यह शरीर से पसीना बहने या ऐसी किसी चीज से भी हो सकता है जिसमें शरीर से तरल पदार्थ बहता हो।

2.यूरिन का पीला कलर कैसे होता है? ( What is the reason of yellow urine colour)

यूरिन में पीला कलर यूरोक्रोम से आता है, यूरोक्रोम एक तरह का वेस्ट प्रोडक्ट है। हीमोग्लोबिन रेड ब्लड सेल्स में पाए जाने वाला प्रोटीन होता है। रेड ब्लड सेल्स का लाखों की संख्या में नवीनीकरण होता है, इसलिए शरीर को पुरानी कोशिकाओं को तोड़ना होता है।

3. यूरिन के अलग-अलग कलर: (Different types of Urine Colour)

इस भाग में यूरिन के अलग-अलग कलर (Urine Colour) के कारणों के बारे में बताएंगे लेकिन आपको किसी-किसी परिस्थिति में डॉक्टर से परामर्श लेना जरूरी है।

(i)ऑरेंज यूरिन-

कुछ तरह के ड्रग्स या दवाईयाँ लेने से ऑरेंज यूरिन आ सकता है। ऑरेंज यूरिन के कारकों के आहार में ज्यादा मात्रा में गाजर लेना शामिल है क्योंकि इसमें कैरोटीन नामक पदार्थ होता है।

(ii)रेड यूरिन-

यूरिन में पाए जाने वाला हेमाटुरिया (Hematuria) यूरिन के रेड होने का मुख्य कारण है। यूरिन का रेड होने का बीटरूट और ब्लैकबेरीज़ को डाइट में शामिल करना भी कारक है।

(iii)पर्पल यूरिन-

एक तरह की अवस्था जिसे पोरफिरिया कहा जाता है यूरिन के पर्पल होने का कारक है। पोरफिरिया एक तरह का चयापचय डिसऑर्डर (Metabolic disorder) है।

4. यूरिन में गंध क्यों आती है? (Does normal urine have an odor?)

  • ज्यादा मात्रा में सड़ी हुई फूलगोभी खाना।
  • यूरिन ट्रैक्ट इन्फेक्शन होना।

किसी भी स्वास्थ्य समस्या के लिए आयु ऐप डाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ डॉक्टरों से परामर्श लें।

5. डॉक्टर को कब दिखाएँ? (when to see a doctor)

कुछ तरह के यूरिन के कलर (Urine Colour) में बदलाव डाइट बदलने से हो जाता है। डॉक्टर को तब दिखाएँ जब डिहाइड्रेशन से बीमार हो जाए या आपको डिहाइड्रेशन की वजह नहीं पता हो। डिहाइड्रेशन वैसे तो किसी के लिए भी खतरनाक हो सकता है लेकिन यह छोटे बच्चों और बूढ़े लोगों के लिए ज्यादा खतरनाक है।

रेड कलर का यूरिन आने पर आपको डॉक्टर की सलाह लेना जरूरी है। अगर आपको यूरिन के कलर (Urine Colour) में बदलाव पर कोई संदेह है तो डॉक्टर से सलाह लें। इसके अलावा अगर आपको 2-3 दिन से ज्यादा बदलाव दिख रहे है तब भी डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

डिस्क्लेमर

चिकित्सक की सलाह लेने के लिए अब आपको अस्पताल जाने की जरूरत नहीं है। अगर आप किसी भी स्वास्थ्य परेशानी से जूझ रहे हैं तो आज ही अपने मोबाइल में डाउनलोड करें आयु ऐप क्योंकि आयु ऐप पर मौजूद 5000 से अधिक विशेषज्ञ डॉक्टर्स। जिनसे आप घर बैठे परामर्श (Online Consultation) ले सकते हैं। आयु ऐप डाउनलोड करें (Download Aayu App)

ये भी पढ़ें

पेशाब पीला आने का क्या कारण है, पीलापन दूर करने के उपाय

⚫ यूरिक एसिड क्या है और इसे कम कैसे करें | Daily Health Tip | Aayu App

⚫ पेशाब में जलन होने के कारण,लक्षण और उपाए

⚫ खराब किडनी के लक्षण और बचाव के उपाय

⚫ गर्भधारण करने का सही तरीका, जानें 9 तरीके| Pregnancy Tips

⚫ UTI: ये होते हैं यूरिन इन्फेक्शन के लक्षण

Yellow Urine: गर्भावस्था के दौरान पीला पेशाब आना, चिंता का सबब या सामान्य बात

 

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )