अल्जाइमर रोग का कारण क्या है, पढ़ें 3 मिनट में..

शेयर करें

अल्जाइमर वृद्धावस्था में होने वाला एक ऐसा रोग है जिसमें मरीज की स्मरण शक्ति कमजोर होती जाती है. जैसे-जैसे उम्र बढ़ती जाती है, वैसे-वैसे यह रोग भी बढ़ता जाता है. याददाश्त कमजोर होने के अलावा रोगी की सोच-समझ, भाषा व व्यवहार पर भी इस बीमारी का प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है.

अल्जाइमर के कारण | Alzheimer’s causes

अल्जाइमर रोग दिमाग की कोशिकाओं को नष्ट करता है. अल्जाइमर से पीड़ित मरीजों की उम्र आमतौर पर अधिक होती है. लेकिन यह उम्र बढ़ने का सामान्य लक्षण नहीं है. अल्जाइमर का सही कारण अब तक ज्ञात नहीं है.

अल्जाइमर रोग के चपेट में अधिकांश लोग 65 वर्ष या उससे अधिक आयु के होते हैं.
कुछ जीन अल्जाइमर रोग से जुड़े हुए होते है.
उच्च रक्तचाप के कारण भी यह बीमारी हो सकती है.
सर में चोट के कारण भी अल्जाइमर हो सकता है.
डिप्रेशन की वजह से भी लोग इस बीमारी की चपेट में आ सकते हैं.

अल्जाइमर के लक्षण | Alzheimer’s symptoms

  • चीजों को भूलना.
  • सोचने-समझने में मुश्किल होना.
  • खासतौर पर शाम के समय मानसिक रूप से भ्रमित होना.
  • एकाग्रता में कमी, नई चीजें सीखने की क्षमता में कमी.
  • लोगों को पहचानने में मुश्किल होना.
स्वास्थ्य से संबंधित समस्या के लिए “Aayu”ऐप अभी डाउनलोड करें

अल्‍जाइमर की जांच | Alzheimer’s tests

अल्जाइमर रोग के लिए कोई निश्चित परीक्षण नहीं है. आपका डॉक्टर आपके निदान को निर्धारित करने के लिए कई परीक्षण करेगा. ये मानसिक, शारीरिक, तंत्रिका विज्ञान और इमेजिंग परीक्षण हो सकते हैं. इसके बाद, वे एक फिजिकल टेस्‍ट ले सकते हैं.

अल्जाइमर से बचने के उपाय |Alzheimer’s remedy

  • कई शोधों ने यह साबित किया है कि मस्तिष्क भी मांसपेशियों के समान ही कार्य करता है.
  • जितना ज्यादा आप इसका इस्तेमाल करेंगे, उतना ही यह शक्तिशाली होगा.
  • मानसिक व्यायाम नई मस्तिष्क कोशिकाओं के निर्माण में मदद कर मानसिक स्वास्थ्य को दुरुस्त रखते हैं.
  • नई जटिल चीजें सीखें जैसे कोई नई भाषा, चुनौतीपूर्ण खेल जैसे शतरंज वगैरह खेलें.
  • मरीज को बौद्धिक गतिविधियों पढ़ाई, खेलकूद जैसे क्रास वर्ड व अन्य दिमागी शक्ति लगने वाली गतिविधियों से जुड़ा रहना चाहिए.
  • रोजाना व्यायाम व योग करके अल्जाइमर के प्रभाव को कम किया जा सकता है.
  • मेडीटेशन करने से भूलने की समस्या पर काबू पा सकते हैं.

अल्जाइमर का घरेलू इलाज |Alzheimer’s home remedies

चेरी

  • चेरी में दो ऐसे गुण पाए जाते हैं जो शरीर के लिए महत्वपूर्ण है.
  • इसमें भरपूर मात्रा में एंडीऑक्सीडेंट और इंफ्लमेशन मौजूद होता है.
  • ये फल हृदय रोग और मानसिक रोग के खतरे को कम करने में अहम भूमिका निभाता है.

टमाटर

  • टमाटर लाइकोपेन से भरपूर होता है.
  • ये शरीर की कोशिकाओं को बचाता है.
  • साथ ही अल्जाइमर के खतरे को भी कम करता है.

अंडे

  • अंडे में विटामिन बी-12 और कोलाइन प्रचूर मात्रा में पाए जाते हैं.
  • यह मस्तिष्क की कोशिकाओं का निर्माण करता है, जिससे याददास्त बढ़ती है.

दही

  • दही में पाए जाने वाला अमीनो एसिड तनाव कम करता है.
  • तनाव से ही मस्तिष्क की कोशिकाओं की उम्र जल्दी ढल जाती है.

आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया हो तो प्लीज इसे लाइक करें और अपने दोस्तों तक इस लेख को सबसे पहले पहुंचाने के लिए शेयर करें. साथ ही कोई सुझाव देना चाहे तो प्लीज कमेंट करें. अगर आपने हमारा पेज अब तक लाइक नहीं किया हो तो कृपया इसे जल्दी लाइक करें, जिससे लेटेस्ट अपडेट आप तक पहुंचा सके.

Aayu है आपका सहायक

आज ही घर बैठे स्पेशलिस्ट डॉक्टर से “Aayu” ऐप पर परामर्श लें . Aayu ऐप डाउनलोड करने के लिए नीचे दी गयी बटन पर क्लिक करें.

आप हमारे टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर 781-681-1111 पर भी कॉल कर सकते हैं और एक्सपर्ट डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं. याद रहे की लक्षण गंभीर होने पर घरेलु इलाजों पर निर्भर न रहें और जल्द से जल्द डॉक्टर से सलाह लें.

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.