fbpx

सिकल सेल बीमारी क्या है? लक्षण और उपचार | Daily Health Tip | Aayu App

सिकल सेल बीमारी क्या है? लक्षण और उपचार | Daily Health Tip | Aayu App

सिकल सेल कई बिमारियों का समूह है जो शरीर में हीमोग्लोबिन को प्रभावित करता है। इससे बचाव के लिए फोलिक एसिड सप्लीमेंट्स का सेवन करें।

To fulfill hemoglobin requirements in the body, use folic acid supplements because sickle cell disease affects hemoglobin in your body.

Health Tip for Aayu App

सिकल सेल बीमारी क्या है?

सिकल सेल एक बीमारी नहीं होती यह कई बिमारियों का समूह है जो हीमोग्लोबिन को प्रभावित करता है। हीमोग्लोबिन शरीर की सभी कोशिकाओं तक ऑक्सीजन पहुँचाने का काम करता है। यह एक वंशानुगत (Genetic) बीमारी है जिसका मतलब ऐसी बिमारी जो माता-पिता से बच्चे में आता है। इसमें हीमोग्लोबिन के असामान्य अणु (Molecule) होते है जिन्हें हीमोग्लोबिन एस कहते है यह लाल रक्त कोशिकाओं का रूप बिगाड़ देती है जिससे वह सिकल या हंसिया (अर्धचन्द्राकार) शेप का हो जाता है।

सिकल सेल के लक्षण:

सिकल सेल बीमारी जन्म के तुरंत बाद से जब बच्चा नवजात होता है तभी से उसके शरीर में हो जाती है। हालांकि नवजात शिशु जब तक 5 या 6 महीने का नहीं हो जाता उसमें बीमारी के लक्षण नजर नहीं आते।

बीमारी के लक्षण:

  • पीलिया
  • आंखों में पीलापन
  • एनीमिया की वजह से ज्यादा थकान होना
  • हाथ और पैर में सूजन हो जाना
  • चक्कर आना
  • सांस लेने में मुश्किल होना
  • चिड़चिड़ापन होना
  • किसी चीज पर ध्यान लगाने में दिक्कत आना

सिकल सेल बीमारी का इलाज:

सिकल सेल बीमारी से पीड़ित सभी लोगों के लिए एक तरह का इलाज नहीं है। इलाज का विकल्प हर मरीज के लिए अलग-अलग होता है और यह इस बात पर निर्भर करता है कि व्यक्ति में बीमारी के लक्षण सिकल सेल बीमारी के लक्षण हल्के या गंभीर हो सकते है। इलाज में कई बार खून चढ़ाना पड़ता है और कई बार बोन मैरो या स्टेम सेल ट्रांसप्लांट भी करवाने की जरूरत पड़ती है।

बोन मेरो ट्रांसप्लांट सिकल सेल बिमारी का एकमात्र इलाज नहीं है। इसके कई तरह के साइड इफेक्ट्स भी होते है कई बार मरीज की मौत हो सकती है। बोन मैरो ट्रांसप्लांट सही तरीके से काम करे इसके लिए बेहद जरूरी है कि डोनर, मरीज का भाई या बहन हो ताकि बोन मैरो का मैच बेहद नजदीकी हो। 

  • बचपन में शिशु को लगने वाले सभी टीकों के अलावा सिकल सेल बीमारी से पीड़ित किशोर बच्चों को फ्लू का टीका लगवाना चाहिए।
  • फोलिक ऐसिड सप्लिमेंट्स का सेवन करें ताकि शरीर में नई लाल रक्त कोशिकाएं बनें।
  • खूब सारा पानी पीते रहना ताकि दर्द से बचा जा सके और अचानक से तापमान में बहुत ज्यादा बदलाव होने से बचें।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें  

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )