लंग फाइब्रोसिस क्या है, लक्षण और उपाय | Daily Health Tip | Aayu App

ways to prevent from lung fibrosis

लंग फाइब्रोसिस एक तरह की बीमारी है जिसमें फेफड़ों के अंदर मौजूद टिश्यू सूजने लग जाते है यानि की फेफड़ों में संक्रमण। फेफड़ों से संक्रमण से बचने के लिए ठंडा-बांसी खाना खाने से बचें।

Lung Fibrosis is a type of disease in which tissues inside lungs swollen which is also called as lungs infection. To avoid infection from lungs, avoid eating cold-cooked food.

Health Tip for Aayu App

आजकल कोरोना का समय चल रहा है और कोरोनाकाल में ऐसा देखा गया है कि कुछ लोगों में कोरोना संक्रमण ठीक होने के बाद फेफड़ों (लंग्स) में तकलीफ होती है लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि फेफड़ों में तकलीफ उन लोगों को ज्यादा होती है जिनमें कोरोना का संक्रमण ज्यादा हुआ है।

आपको यह भी बता दें कि जिन मरीजों को कोरोना के चलते निमोनिया हुआ हो उन्हें भी फेफड़ों में तकलीफ होती है। डॉक्टर के अनुसार इसकी मुख्य वजह लंग्स फाइब्रोसिस है। अब आप जानना चाहते होंगे कि लंग फाइब्रोसिस क्या है (What is Lung Fibrosis), लंग फाइब्रोसिस के लक्षण (Lung Fibrosis Symptoms), लंग फाइब्रोसिस का इलाज (Lung Fibrosis Treatment).

लंग फाइब्रोसिस क्या है?

सबसे पहले जानते है आखिर लंग फाइब्रोसिस क्या है? लंग फाइब्रोसिस एक तरह की बीमारी है जिसमें फेफड़ों के अंदर मौजूद ऊतक (टिश्यू) सूजने लगते है। जिससे आपको ऑक्सीजन की कमी हो जाती है। इससे शरीर में खून का बहाव कम होने लगता है। स्थिति गंभीर हो जाने पर दिल सही से काम नहीं कर पाता। जिसके परिणामस्वरूप आपको मल्टी ऑर्गन फेल्योर, हार्ट अटैक जैसी समस्या हो सकती है और ज्यादा गंभीर स्थिति में मरीज की मौत भी हो सकती है।

कोरोना के चलते कुछ मरीजों के फेफड़े में सूजन हो जाती है। जब यह बीमारी ठीक हो जाती है तब सूजन कम होने लगती है। इस कारण सामान्य और फाइबर टिश्यू बनते है जिससे फाइब्रोसिस होता है। यह आपका घाव ठीक होने के बाद होने वाली चमड़ी जैसी है।

लंग फाइब्रोसिस के लक्षण:

अब हमने आपको लंग फाइब्रोसिस क्या है? (What is Lung Fibrosis) यह बता दिया है। आपको जानकर हैरानी होगी कि लंग फाइब्रोसिस के लक्षण (Lung Fibrosis Symptoms) टीबी की तरह ही होते है। आइये जानते है लंग फाइब्रोसिस के लक्षण (Lung Fibrosis Symptoms) कौन-कौन से है?

  • वजन घट जाना
  • सांस फूलना
  • सूखी खांसी
  • भूख कम लगना

लंग फाइब्रोसिस का इलाज:

आपके लिए यह जानना जरूरी है कि लंग फाइब्रोसिस किसी तरह का कैंसर नहीं है लेकिन यह बहुत जानलेवा है। पहले इसका इलाज ना होने की वजह से इससे पीड़ित मरीजों का जीवनकाल पता चलने के 3-4 साल तक ही सीमित रह जाता था लेकिन आजकल कुछ तरह के इलाज से इनका जीवनकाल बढ़ाने में मदद मिलती है।

आइये जानते है कौन-कौन से इलाज संभव है।

कार्टिसोन और अन्य इम्यूनो-सप्रेसेन्ट: इस इलाज में रोग-प्रतिरोधक क्षमता को कम करने वाली दवाएं दी जाती है ताकि बीमारी की गति को धीमा किया जा सकें।

ऑक्सीजन थेरेपी: यह थेरेपी बीमारी तो नहीं रोक सकती, लेकिन सांस से संबंधित तकलीफ को कम कर सकती है।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें  

Leave a Reply

Your email address will not be published.