Latest Health Updates: कोरोना वैक्सीन की तैयारियां तेज, हर डोज पर 500 से 600 रु. होंगे खर्च

वैक्सीन Corona vaccine

कोरोना वायरस (Coronavirus) के लगातार बढ़ते मामलों के बीच सरकार ने कोरोना वैक्सीन (Corona vaccine) को लेकर तैयारियां तेज कर दी हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, केंद्र ने वैक्सीन की खरीदारी और डिस्ट्रीब्यूशन पैटर्न पर काम तेज कर दिया है। केंद्र सरकार ने वैक्सीन (Vaccine) के लिए करीब 52 हजार करोड़ रुपए का फंड तय किया है।  

सरकारी सूत्रों के मुताबिक, देश में हर व्यक्ति पर वैक्सीन का करीब 500 से 600 रुपए (6 से 7 डॉलर) का खर्च आएगा।

1. कोरोना मरीज़ों तक वैक्सीन पहुंचाने का सरकारी प्लान

  • देश में हर व्यक्ति को दो बार वैक्सीन लगाया जाएगा। एक डोज का खर्च करीब 2 डॉलर यानी लगभग 147 रु. आएगा।
  • एक व्यक्ति के वैक्सीन के रख-रखाव और उसके ट्रांसपोर्टेशन पर 2 से 3 डॉलर यानी लगभग 219 रु. का खर्च आएगा।
  • सरकार समर्थित पैनल ने भविष्यवाणी की है कि भारत संक्रमण के चरम पर है, फरवरी तक इसका प्रसार जारी रह सकता है।

2. कोरोना मरीज़ों के इलाज के लिए सीरम इंस्‍टीट्यूट का 2 कंपनियों से करार

Indias serum institute join hands with two companies to develop COVID-19 treatment

कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंड़िया (Serum Institute of India) ने जर्मनी की दिग्‍गज फार्मास्‍युटिकल कंपनी मर्क (Merck)और न्‍यूयॉर्क स्थित गैरलाभकारी स्‍वास्‍थ्‍य अनुसंधान संगठन (non-profit health research organisation) IAVI के साथ करार किया है। 

तीनों साझेदारों की ओर से कहा गया है कि तीनों साझेदारों की ओर से कहा गया है कि वे SARS-CoV-2 को विकसित करने की तैयारी कर रहे हैं जो निष्क्रिय की जाने वाली मोनोक्‍लोनल एंटीबॉडी  (mAbs) हैं ताकि कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों को स्‍वस्‍थ रखा जा सके। 

तीनों साझेदारों (consortium) का कहना है कि वे हर एक साझेदारी की विशेषज्ञता, अधोसंरचना की मदद लेकर इस इलाज को विकसित करना चाहते हैं और इसे पूरी दुनिया तक पहुंचाना चाहते हैं विशेषकर निम्‍न और मध्‍यम आय वाले उन देशों तक जहां यह इलाज लोगों की पहुंच से बाहर है।

लेटेस्ट कोरोना वायरस अपडेट्स और किसी भी बीमारी से संबंधित विशेषज्ञ डॉक्टर से परामर्श के लिए डाउनलोड करें ”आयु ऐप’।

Leave a Reply

Your email address will not be published.