fbpx
दूध के प्रकार, जानें इनके फायदे | Different Types of Milk and their Benefits

दूध के प्रकार, जानें इनके फायदे | Different Types of Milk and their Benefits

बच्चों को जन्म के बाद से ही दूध पिलाना शुरू कर दिया जाता है। यह बच्चों के लिए पोषण का स्रोत है लेकिन क्या आप जानते है कि दूध कैल्शियम का अच्छा सोर्स है। कैल्शियम का हमारे शरीर में बहुत महत्व है। अगर शरीर में कैल्शियम की कमी हो जाए तो हमारी हड्डियां कमजोर होने लगती है।

यह आपको हेल्दी बनाने में मदद करता है। डेयरी प्रोडक्ट का सेवन करने से ऑस्टियोपोरोसिस की बीमारी होने का रिस्क कम हो जाता है। हमारे शरीर को कितने कैल्शियम की आवश्यकता है और कौन-सा दूध हमारे लिए बेहतर है इसके बारे में जानकारी होना आवश्यक है। आइये आपको इस आर्टिकल में बताते है दूध के प्रकार (Types of milk) और उनके फायदों के बारे में।

दूध के प्रकार: Types of Milk:

आइये जानते है दूध के प्रकार (Types of Milk) के बारे में। दूध के प्रकार (Types of Milk) के साथ इनके फायदे भी आपको बताएंगे।

व्होल मिल्क (Whole Milk): व्होल मिल्क में 3.25 प्रतिशत फैट होता है। इसके आठ आउंस के गिलास में 150 कैलोरी होती है साथ ही इस मिल्क की डेयरी वैल्यू 12 प्रतिशत होती है। जिसको फैट की आवश्यकता ज्यादा है, वो व्होल मिल्क (Whole Milk) लें। ग्रोथ के लिए हमारे शरीर को हेल्दी डाइट की जरूरत पड़ती है, ऐसे समय में व्होल मिल्क (Whole Milk) एक बेहतर विकल्प है। जिन लोगों को शरीर के हिसाब से अलग-अलग न्यूट्रीशन की जरूरत होती है, वह अपनी डाइट में लो फैट या रिड्यूस फैट मिल्क शामिल कर सकते है।

स्किम मिल्क (Skim milk): स्किन मिल्क आप फैट कम करने के लिए इस्तेमाल कर सकते है। स्किम मिल्क में 100 एमएल मिल्क में 0.15 g मिल्कफैट होता है। फूड स्टेंडर्ड कोड के अनुसार इस मिल्क को स्किम मिल्क या फैट फ्री मिल्क कहते है।

रिड्यूज फैट मिल्क (Reduced fat and skinny milks): जहाँ तक मिल्क के प्राकर्तिक गुण की बात की जाए तो इसमें फैट कम या ज्यादा हो सकता है लेकिन आजकल कुछ ऐसी तकनीक आ गई है जिससे मिल्क का फैट कम या ज्यादा कर सकते है। जब दूध से फैट को कम किया जाता है तो उसे रिड्यूज फैट मिल्क कहते है।

फ्लेवर्ड मिल्क( Flavoured milk): फ्लेवर्ड मिल्क में अलग-अलग तरह के फ्लेवर को दूध के साथ मिलाया जाता है। कॉफी फ्लेवर्ड मिल्क, ऑलमंड फ्लेवर मिल्क आदि तरह के फ्लेवर मिल्क लोगों को बहुत पसंद आते है।

लेक्टोज फ्री मिल्क (Lactose-free milk): अगर आप इंटोलरेंस की समस्या से जूझ रहे है तो लेक्टोज-फ्री मिल्क आपके लिए अच्छा विकल्प है। दूध को लेक्टेस (lactase) एंजाइम की मदद से उसके ग्लूकोज और गैलेक्टोज में तोड़ दिया जाता है।

दूध में मिलने वाले पोषक तत्व: Nutrients in Milk:

  • कैल्शियम: यह हमारी हड्डियां और दांत मजबूत करता है।
  • प्रोटीन: यह एनर्जी का एक अच्छा स्रोत है, यह हमारी मांशपेशियों की कोशिकाओं को मजबूत बनाता है, साथ ही उनकी मरम्मत करता है। अगर किसी को ज्यादा प्रोटीन लेने की जरूरत है तो दूध में अखरोट या बादाम डाल कर पिएँ।
  • पोटैशियम: पोटैशियम ब्लड प्रेशर ठीक रखता है।
  • फॉसफोरस: फॉस्फोरस ऊर्जा पैदा करता है और हमारी हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है।
  • विटामिन-डी: इससे हड्डियां स्वस्थ रहती है।
  • विटामिन बी 12: यह रेड ब्लड सेल्स और नसों की कोशिकाओं को सेहतमंद बनाता है।
  • विटामिन ए: रोग-प्रतिरोधक क्षमता विकसित करता है, इससे आंखों की रोशनी बढ़ती है और त्वचा स्वस्थ रहती है।
  • बी 2: भोजन से ऊर्जा पैदा करने में सहायक है।
  • नियासिन: शुगर और फैटी एसिड्स को नियंत्रित करता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित इस लेख में सामान्य जानकारी दी गई है। अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐपडाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है। 

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )