FLU (INFLUENZA) | जानें साधारण फ्लू (इन्फ़्लुएन्ज़ा) के प्रकार व फैलने के कारण

शेयर करें

फ्लू (Influenza) सामान्य तौर पर सर्दी-जुखाम की तरह ही एक संक्रमण रोग है, जो अक्सर खांसने और छींकने वाले शख्स को छूने या फिर उसके करीब रहने से हो जाता है। फ्लू या इन्फ्लूएंज़ा, एक संक्रामक श्वसन संक्रमण है जो विभिन्न प्रकार के फ्लू वायरस के कारण होता है।

फ्लू के लक्षणों में मांसपेशियों में दर्द, गले में खराश, सिरदर्द और बुखार शामिल हैं।

सभी फ्लू (Influenza) के प्रकार के प्रभाव समान नहीं होते है। कुछ प्रकार आपको बहुत बीमार कर सकते हैं, जबकि कुछ से आपको हल्का प्रभाव पड़ता है ।  

फ्लू (Influenza) के विभिन्न प्रकार क्या हैं?

फ्लू वायरस तीन प्रकार के होते हैं:  

  • इन्फ्लुएंज़ाए (A)
  • इन्फ्लुएंज़ा बी (B)
  • इन्फ्लुएंज़ा सी (C)  

ए और बी प्रकार फ्लू का कारण बनते हैं।  प्रकार सी भी फ्लू का कारण बनता है, लेकिन इसके लक्षण कम गंभीर होते है।

  • ए प्रकार फ्लू वायरस ( A Type Flu Virus)–

ये फ्लू वायरस जानवरों को संक्रमित करने में सक्षम हैं, हालांकि लोगों के लिए इस प्रकार के फ्लू से जुड़ी बीमारियों का सामना करना आम बात है। ए प्रकार वायरस सामान्यतया जंगली पक्षियों में होता है। ए प्रकार के वायरस बड़े पैमाने पर मौसमी प्रकोप फैलाते हैं और आमतौर पर फ्लू महामारी के लिए ज़िम्मेदार है। इन्फ्लूएंजा A2 वायरस (और इन्फ्लूएंजा के अन्य प्रकार) उन लोगों द्वारा फैलता है जो पहले से ही फ्लू से संक्रमित हैं।

  • बी प्रकार फ्लू वायरस ( B Type Flu Virus)

बी प्रकार फ्लू वायरस केवल मनुष्यों में पाया जाता है। ये ए प्रकार फ्लू वायरस की तुलना में कम हानिकारक होते है। ये भी बड़े पैमाने पर मौसमी प्रकोप फैलाते हैं लेकिन ये महामारी के लिए पूरी तरह से ज़िम्मेदार नहीं है।

INFLUENZA | साधारण फ्लू (इन्फ़्लुएन्ज़ा) कैसे बन सकता है बड़ी परेशानी? जानें

  • सी प्रकार फ्लू वायरस ( C Type Flu Virus)

इंफ्लुएंज़ा सी वायरस भी मनुष्यों में पाए जाते हैं। आम तौर पर ए और बी इन्फ्लूएंज़ा वायरस प्रकार की तुलना में प्रकार सी वायरस से लोग ज़्यादा बीमार नहीं होते हैं। ये वायरस महामारी का कारण भी नहीं बनते है।

फ्लू (Influenza) सर्दी/जुखाम से अलग होता है-  100 से अधिक विभिन्न वायरस सर्दी पैदा कर सकते हैं, लेकिन केवल ए, बी, और सी इन्फ्लूएंज़ा वायरस प्रकार ही फ्लू का कारण बनते हैं।

  • ए और बी इन्फ्लुएंज़ा  वायरस प्रकार बड़े मौसमी प्रकोप का कारण बनते हैं जबकि सी इन्फ्लुएंज़ा  वायरस प्रकार आमतौर पर सांस सम्बंधित बीमारियों का कारण बनता है।
  • फ्लू टीकाकरण आपको ए और बी प्रकार से बचाने में मदद कर सकता है, लेकिन सी प्रकार वायरस के लिए कोई टीकाकरण नहीं है।
  • ए प्रकार फ्लू वायरस कई अलग-अलग जानवरों में भी पाए जाते हैं, जिनमें बतख, मुर्गियां, सूअर, व्हेल, घोड़े और सील शामिल हैं। बी प्रकार वायरस केवल लोगों को प्रभावित करते हैं।

फ्लू (Influenza) कैसे फैलता है?

किसी संक्रमित व्यक्ति द्वारा छुयी गयी वस्तुओं जैसे कि दरवाजे की  कुंडी, टेलीविजन रिमोट, कंप्यूटर कीबोर्ड या टेलीफोन को छूने के बाद जब आप अपनी आंख, नाक या मुंह को छूते या रगड़ते हैं तो आपकी त्वचा पर फ्लू वायरस आपको संक्रमित कर सकता है।

वायरस आपके शरीर में तब प्रवेश करते है जब आप अपने हाथों से अपनी नाक, आंख या मुंह को स्पर्श करते हैं।

फ्लू (Influenza) वर्ष के किसी भी मौसम में हो सकता है लेकिन ज़्यादातर सर्दियों के मौसम में फ्लू वायरस हमला करते हैं।

सर्दियों में फ्लू के फैलने के कारण —

  • सर्दियों में बाहर की तुलना में अंदर की हवा में कम नमी होती है जिससे वायरस लंबे समय तक जीवित रहते हैं।
  • जब ये जीवित रूप में हवा में होते हैं तो सांस के माध्यम से आपके शरीर में आसानी से चले जाते हैं।
  • सर्दियों के मौसम में हम अधिकतर समय घर के अंदर ही बिताते हैं और एक दूसरे के निकट संपर्क में ज़्यादा रहते हैं। इस तरह से वायरस आसानी से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल जाते है।

फ्लू (Influenza) से बचने के लिए आप –

अपने हाथ साफ़ रखें। कीटाणुओं को खुद से दूर रखने के लिए अक्सर अपने हाथ धोएं और फ्लू टीकाकरण करवाएं।


यदि आप में या आपके परिवार के किसी सदस्य में फ्लू (Influenza) के लक्षण दिख रहे हैं, तो आज ही मेडकॉर्ड्स (MedCords) के टोल फ्री नंबर +91-781-681-1111 पर कॉल करें और नज़दीकी सेहत साथी के पास जाकर एक्सपर्ट डॉक्टर से सलाह लें | याद रहे की लक्षण गंभीर होने पर घरेलु इलाजों पर निर्भर न रहें और जल्द से जल्द डॉक्टर से सलाह लें|

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.