बवासीर से घर बैठे पाएं निजात | Piles treatment

शेयर करें

बवासीर काफी तकलीफ देने वाली बीमारी होती है. इस बीमारी में स्वेलिंग के साथ ही तेज दर्द भी होता है. रिसर्च के मुताबिक, 50 की उम्र पार करने के बाद 50 फीसदी लोगों को ये शिकायत हो जाती है. इस बीमारी से जुड़ी सबसे बड़ी दिक्कत ये है कि लोग इसके बारे में डॉक्टर से बात करने में झिझकते हैं और इसे छिपाते हैं. छिपाने के चक्कर में अक्सर ये बीमारी बढ़ जाती है और संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है. आइए जानते है इसके लक्षण को ताकि समय रहते आप बवासीर का रोकथाम कर सके.

बवासीर होने के कई कारण हो सकते हैं. कई बार कब्ज, पाचन क्रिया के सही नहीं होने पर, बहुत भारी चीजें उठाने पर, गैस की समस्या होने पर, तनाव लेने पर, मोटापा होने पर और एनल सेक्स की वजह से भी ये बीमारी हो जाती है. यह दो तरह की होती है-खूनी बवासीर और बादी बवासीर. खूनी बवासीर में खून आता रहता है, लेकिन दर्द नहीं होता .जबकि बादी बवासीर में पेट में कब्ज बन जाती है और पेट हमेशा ही खराब रहता है. यह बीमारी 45 साल से 65 साल के लोगों में काफी आम है.

किसी भी स्वास्थ्य समस्या के लिए आज ही “Aayu” ऐप डाउनलोड करें

आंतरिक बवासीर

  • ये गुदा के अंदर पड़े रहते हैं. आप आमतौर पर इन बवासीर को नहीं देख सकते हैं, या महसूस नहीं कर सकते हैं, और वे शायद ही कभी असुविधा का कारण बनते हैं. लेकिन मल गुजरते समय तनाव या जलन एक बवासीर की सतह को नुकसान पहुंचा सकती है, और इसे खून बहती है. कभी-कभी, तनाव गुदा उद्घाटन के माध्यम से एक आंतरिक बवासीर धक्का दे सकता है. इसे एक प्रकोप या प्रकोप वाले बवासीर के रूप में जाना जाता है, और दर्द और जलन पैदा कर सकता है.

बाहरी बवासीर

  • ये आपके गुदा के चारों ओर त्वचा के नीचे हैं. जब खीजा हुआ होता है, तो बाहरी पाइल्स में खुजली या खून बह सकता है.

बवासीर के लक्षण

  • मल त्याग के दौरान दर्द रहित रक्तस्राव
  • गुदा क्षेत्र में खुजली या जलन
  • दर्द या बेचैनी
  • गुदा के चारों ओर सूजन
  • गुदा के पास एक गांठ

वीडियो में देखें इस बीमारी से निजात पाने के तरीके

//youtu.be/0W-rNf3NaUE?list=UUYmUH90TFuJM1XZK9MPkyWA

बवासीर के उपाए

एलोवेरा

एलोवेरा में कई बीमारियों का राज छिपा है. यह सिर्फ स्किन को सॉफ्ट और स्पॉटलेस बनाने के लिए ही इस्तेमाल नहीं किया जाता बल्कि पाइल्स की बीमारी में भी यह काफी आराम देता है. हालांकि पाइल्स के लिए फ्रेश एलो वेरा जैल यानी एलो वेरा की पत्ती से तुरंत निकाला गया जैल यूज करना चाहिए. इस जैल को पाइल्स वाले हिस्से में बाहर की तरफ लगाएं. दिन में कम से 2-3 बार इस जैल को लगाएं.

बर्फ

बर्फ को भी बवासीर की बीमारी में काफी लाभदायक माना गया है. प्रभावित हिस्से पर आइस पैक से सिकाई करें . चाहे तो बर्फ के टुकड़े लेकर उन्हें एक कपड़े में लपेट लें और फिर प्रभावित हिस्से पर लगाएं. रोजाना 5 से 10 मिनट इस तरह सिकाई करने से पाइल्स की समस्या में आराम मिलेगा.

गरम पानी

गरम पानी में नहाने से भी बवासीर यानी पाइल्स में राहत मिलती है. इससे सूजन और खुजली कम हो जाती है. इसके अलावा नारियल का तेल भी फायदा पहुंचाता है. प्रभावित हिस्से पर नारियल तेल लगाने से सूजन और खुजली कम हो जाती है.

फाइबर की मात्रा को बढ़ाए

अधिकांश लोगों को अपने आहार में महिलाओं के लिए एक दिन में 25 ग्राम और पुरुषों के लिए 38 ग्राम प्रति दिन पर्याप्त मात्रा में फाइबर नहीं मिलता है. अध्ययनों से पता चला है, कि मेटाम्यूसिल और साइट्रसल जैसे ओवर-द-काउंटर फाइबर की खुराक, बवासीर से समग्र लक्षण और रक्तस्राव में सुधार करती है. ये उत्पाद मल को नियमित रखने में मदद करते हैं.

व्यायाम करें

कब्ज को रोकने में मदद करने के लिए सक्रिय रहें, और नसों पर दबाव कम करें जो स्थायी या बैठने की लंबी अवधि के साथ हो सकता है. व्यायाम आपको अतिरिक्त वजन कम करने में भी मदद कर सकता है, जो आपके बवासीर में योगदान दे सकता है.

आयु है आपका सहायक

अगर आपके घर का कोई सदस्य लंबे समय से बीमार है या उसकी बीमारी घरेलू उपायों से कुछ समय के लिए ठीक हो जाती है, लेकिन पीछा नहीं छोड़ती है तो आपको तत्काल उसे डॉक्टर से दिखाना चाहिए. क्योंकि कई बार छोटी बीमारी भी विकराल रूप धारण कर लेती है. अभी घर बैठे स्पेशलिस्ट डॉक्टर से “Aayu” ऐप पर परामर्श लें . Aayu ऐप डाउनलोड करने के लिए नीचे दी गई बटन पर क्लिक करें.

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.