टॉन्सिल के कारण ,लक्षण और घरेलू उपाय

टॉन्सिल (Tonsils)की बीमारी के कारण गले में बराबार दर्द होता रहता है. टॉन्सिल के कारण गले में जलन और सूजन हो जाती है. इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को खाने खाने में भी काफी तकलीफ होती है. समय पर इलाज नहीं लेने पर आपको बुखार भी हो सकता है.

क्या है टॉन्सिल? | What is Tonsils?

हमारे गले के दोनों ओर ओवल शेप के अंग हैं जिन्हें टॉन्सिल्स कहा जाता है. किसी प्रकार के बैक्टीरिया या इंफेक्शन के संपर्क में आने पर इनमें सूजन आना व जलन होना शुरू हो जाती है. आमतौर पर इनका रंग हमारी जीभ जैसा ही होता है. लेकिन इंफेक्शन होने पर यह सुर्ख लाल हो जाते हैं और इन पर सफेद स्पॉट दिखाई देने लगते हैं. टॉन्सिल्स में सूजन भी जा जाती है जिससे खाने व पीने के साथ ही सलाइवा निगलने में दिक्कत होने लगती है.

टॉन्सिल होने के कारण |Tonsils Causes

टॉन्सिलाइटिस होने के कई कारण हो सकते है. पीछे कई कारण जिम्मेदार होते हैं. टॉन्सिलाइटिस की समस्या अक्सर तब होती है जब टॉन्सिल्स कमजोर हो जाते हैं. इसके अलावा इम्युनिटी कमजोर होने पर, बहुत गर्म और स्पाइसी फूड खाने से, बहुत ठंडा खाने पर और मुंह की सही से सफाई न करने पर टॉन्सिलाइटिस हो जाता है. कई बार पेट खराब होने पर, कब्ज होने पर या प्रदूषण, धूल आदि के कारण भी टॉन्सिलाइटिस हो जाता है.

टॉन्सिल के लक्षण |Tonsils Symptoms

गले में खराश होना
गले में खराश आना
गले में दर्द के साथ बुखार आना
जबड़ों के निचले हिस्से में सूजन आना
सांसों में बदबू होना
गले में दर्द होना
खाना खाने या पानी पीने में दर्द होना
खाने का स्वाद न मिलना या स्वाद बदला-बदला लगना

किसी भी स्वास्थ्य समस्या के लिए आज ही “Aayu” ऐप डाउनलोड करें

टॉन्सिल के उपचार |Tonsils home remedies

ग्रीन टी

  • टॉन्सिल की समस्या से निजात पाने के लिए ग्रीन टी एक बेहतर विकल्प है.
  • हर्बल ग्रीन टी को लौंग, काली मिर्च और अदरक के साथ उबालकर पीने से दर्द में राहत मिलती है.
  • इससे बंद नली को भी खुलने में मदद मिलती है।

चुकंदर

  • इसमें संक्रमण को दूर करने का गुण होता है.
  • इसलिए दिन में दो बार एक-एक गिलास चुकंदर का जूस पीने से टॉन्सिल जल्दी ठीक होता है.
  • चुंकदर के जूस में एक आंवला, एक टमाटर और एक नींबू भी मिला सकते हैं.

नींबू

  • नींबू एक बहुत अच्छा घरेलू उपचार है.
  • जो टॉन्सिल की समस्या में आराम पहुँचाता है.
  • गुनगुने पानी में नींबू निचोड़ें और शहद मिला कर कुल्ला करें.

अंजीर

  • सूखे अंजीर का सेवन दूध में मिलाकर करने से शरीर को शक्ति मिलती है.
  • पानी में उबालकर अच्छी तरह से मसलकर इसका लेप गले पर लगा लें.
  • ये गले की सूजन को कम कर दर्द से राहत पहुंचाने का काम करती है.
  • इससे टॉन्सिल की समस्या जल्द ही जड़ से खत्म हो जाती है.

दालचीनी

  • दालचीनी को पीसकर इसका बारीक पाउडर बना लें.
  • अब इसे चुटकी भर लेते हुये रोज शहद के साथ इसका सेवन करें.
  • इसमें तुलसी के पत्ते भी डाल सकते हैं.

खीरा

  • खीरे में विषैले तत्वों को शरीर से बाहर निकालने वाले गुण हैं.
  • इस समस्या के लिए यह एक बहुत अच्छा घरेलू उपचार है.
  • आप इसको आसानी से खा सकते हैं.

लहसुन

  • लहसुन का सेवन हमारे शरीर के लिए काफी लाभकारी होता है.
  • सुबह व शाम को लहसुन के पानी से गरारा व कुल्ला करने से भी आराम मिलता है.
  • इसे बनाने के लिए 7-10 लहसुन की कलियों को छील लें.
  • डेढ़ गिलास पानी में उबाल लें. इसे हल्का ठंडा कर इस्तेमाल करें.

गाजर

  • इसमें बैक्टीरिया नष्ट करने की क्षमता होती है.
  • इसके सेवन से शरीर में विटामिन ए की भी कमी पूरी होती है.
  • टॉन्सिल को ठीक करने के लिए रोज गाजर का एक गिलास जूस पीना चाहिए.
  • बेहतर परिणाम के लिए आप सुबह और शाम दोनों समय जूस पी सकते हैं.

टॉन्सिल से बचाव

हमेशा हाथ धोकर ही खाना खाएं.
टॉन्सिल पीड़ित का टूथब्रश बदल दें.
छींकने और खांसी आने पर टिश्यू पेपर का इस्तेमाल करें .
कफ आने और छींकने के बाद बच्चे का हाथ अच्छी तरह से साफ करें.

Aayu है आपका सहायक

अगर आपको या आपके परिवार में किसी को टॉन्सिल की समस्या है या फिर खाने पीने के दौरान परेशानी हो रही है तो आज ही घर बैठे स्पेशलिस्ट डॉक्टर से “Aayu” ऐप पर परामर्श लें . Aayu ऐप डाउनलोड करने के लिए नीचे दी गई बटन पर क्लिक करें।

3 Replies to “टॉन्सिल के कारण ,लक्षण और घरेलू उपाय

Leave a Reply

Your email address will not be published.