थाइराइड के कारण बाल गिरने के लक्षण और उपचार

symptoms of thyroid

थाइराइड क्या होता है?

थाइराइड ग्रंथि पर्याप्त मात्रा में हार्मोन का निर्माण नहीं कर पाता। इसकी वजह से व्यक्ति की शारीरिक क्षमता काफी कम हो जाती है और कई स्वास्थ्य संबंधित परेशानियां सकती है।

बाल झड़ने की परेशानी हो सकती है। आज ए‍क-तिहाई पुरुष और महिलाओं में यह बीमारी पाई जाती है। आमतौर पर यह स्‍थायी होती है। थाइराइड के लक्षण में पीडि़त लोगों के सिर और अन्‍य अंगों से बाल झड़ने लगते हैं। कोई बीमारी या बालों की सही ढंग से केयर ना करने का परिणाम भी बाल झड़ने के रूप में सामने आता है। अगर आपको लगता है कि आपके बाल तेजी से गिर रहे हैं तो डर्मटॉलजिस्ट (Dermetologist) से संपर्क करें।

थाइराइड के बीमारी में बाल गिर सकते है: कुछ बीमारियाँ जैसे डायबिटीज, ल्यूपस और थाइराइड भी बाल गिरने का कारण हो सकते हैं। ओवर-एक्टिव और अंडर एक्टिव दोनों थाइराइड में बाल गिर सकते है।

थाइराइड दो तरह का होता है:

  • हाइपो
  • हाइपर

हाइपो में वजन बढ़ने लगता है और भूख कम लगती है। हाथ-पांव में सूजन आ जाती है। मरीज सुस्ती और सर्दी से परेशान रहता है। उसका किसी काम में मन नहीं लगता। कभी-कभी मासिक धर्म और याददाश्त में कमी हो सकती है। 

थाइराइड के लक्षण:

  • शारीरिक व मानसिक विकास का धीमा हो जाना।
  • 12 से 14 साल के बच्चे की शारीरिक वृद्धि रुक जाना।
  • शरीर का वजन बढ़ने लगता है और शरीर में सूजन आ जाती है।
  • सोचने व बोलने की क्रिया धीमी हो जाती है। शरीर का ताप कम हो जाता है, बाल झड़ने लगते हैं तथा गंजापन होने लगता है।
  • हर समय थकावट महसूस होना।
  • अधिक मासिक-धर्म होना।
  • स्मरणशक्ति कमजोर होना।
  • त्वचा और बालों का सूखा और रूखा होना।
  • सर्दी न सह पाना।
  • चिड़ापन या अधैर्यता।
  • ठीक से नींद नहीं आना।
  • थायराइड का बढ़ जाना।
  • आंख की समस्या या आंख में जलन।
  • गर्मी के प्रति संवेदनशीलता।
  • शरीर का ताप सामान्य से अधिक हो जाना।
  • उत्तेजना और घबराहट जैसे लक्षण उत्पन्न हो जाना।
  • शरीर के वजन में असंतुलन पैदा होना।
  • लोगों की हाथ-पैर की अंगुलियों में कम्पन उत्पन्न हो जाना।
  • मधुमेह रोग होने की प्रबल संभावना बन जाती है।

थाइराइड दूर करने के घरेलू उपाय:

साबुत धनिये का उपयोग: एक गिलास पानी में 2 चम्मच साबुत धनिये को रात के समय भिगोकर रख दें तथा सुबह के समय इसे मसलकर उबाल लें फिर चौथाई भाग पानी होने पर खाली पेट इसे पी लें तथा गर्म पानी में नमक डालकर गरारे करें। यह उपचार लगातार करने से थायरायड की समस्या से छुटकारा मिल सकता है।

दही और दूध का सेवन: जिन व्यक्तियों को थाइराइड की समस्या होती है उन्हें दही और दूध का सेवन अधिक से अधिक करना चाहिए। दूध और दही में मौजूद कैल्शियम, मिनरल्स और विटामिन्स थाइराइड से ग्रसित रोगियों को स्वस्थ बनाने में मदद करता है।

मुलेठी का सेवन: जिन व्यक्तियों को थाइराइड की समस्या होती है उन्हें बहुत जल्दी थकान होने लगती है और वह जल्दी थक जाते हैं। मुलेठी का सेवन करना बेहद फायदेमंद होता है। मुलेठी में मौजूद तत्व थाइराइड ग्रंथी को संतुलित बनाते हैं और थकान को उर्जा में बदल देते हैं और थाइराइड की समस्या से छुटकारा दिलाता है।

फलों और सब्जियों का सेवन: थाइराइड के रोगियों को फलों और सब्जियों का इस्तेमाल ज्यादा करना चाहिए। फल और सब्जियों में एंटी-ऑक्सीडेंट्स होते है। यह थाइराइड को कभी बढ़ने नहीं देते। सब्जियों में टमाटर, हरि मिर्च आदि का सेवन करें। इससे थाइराइड की समस्या से छुटकारा मिलता है।

फलों का रस: थाइराइड रोगों का उपचार करने के लिए रोगी व्यक्ति को कुछ दिनों तक फलों का रस (नारियल पानी, पत्तागोभी, अनानास, संतरा, सेब, गाजर, चुकंदर तथा अंगूर का रस) पीना चाहिए, इससे थाइराइड की समस्या को दूर करने में मदद मिलती है।

व्यायाम से थाइराइड को लाभ:

उज्जयी आसन जरूर करें, कम से कम रोजाना 1 बार अवश्य करने से लाभ मिलता है, लंबे समय तक करने से इससे लाभ देखने को मिलता है, उज्जयी आसन से थाइराइड पूरी तरह जड़ से खत्म हो सकता है, इसे नियमित रूप से जीवन का हिस्सा बना लें, अवश्य लाभ मिलेगा।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐप डाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.