लॉकडाउन के दौरान किन-किन बातों का ध्यान रखें

why social distancing is necessary

भारत में कोरोना वायरस तेजी से फैलता जा रहा है, ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग इस वक्त बेहद ज़रूरी है। आमजन को कोरोना वायरस गंभीरता को समझकर इस वायरस को फैलने से रोकने के लिए देशहित में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना चाहिए।

सोशल डिस्टेंसिंग का मतलब सामाजिक दूरी से है। संक्रमण के फैलने को कम करने के लिए खुद को भीड़ से अलग रखना, क्योंकि कोरोना वायरस बूंदों के माध्यम से फैलता है, इसलिए सामाजिक दूरी बनाने से आप संक्रमण से को फैलने से रोक सकते हैं।

क्या बाहर जाना सच में जरूरी है?

लोगों को सलाह दी जा रही है कि वे महत्वपूर्ण कार्य को स्थगित कर दें और बाहर तभी निकलें जब यह बेहद ज़रूरी हो। जी, हां लगातार घर पर बैठने से बोरियत ज़रूर हो जाती है, लेकिन खाली समय इस समय घर से बाहर ना निकलें।

खुद को बचाना अब आपके ही हाथों में है-

हमेशा यह याद रखें कि आपकी सुरक्षा आपके ही हाथों में है। अगर आप स्वच्छता या सफाई का ख्याल नहीं रखेंगे, तो न सिर्फ आपके संक्रमित होने की संभावनाएं बढ़ जाएंगी बल्कि आपकी वजह से बाकी कई लोग भी बीमार पड़ सकते है। हमेशा अपने साथ सेनिटाइज़र और वाइप्स रखें साथ ही छींकते या खांसते वक्त अपना मुंह ढकें। अगर मार्केट जाते है तो दरवाज़े का हैंडल या किसी सतह को न छुएं। 

खुद को करें सेनीटाइज़ 

अपने जूतों से लेकर फोन और बैग तक, ये सभी चीज़ें बाहर से घर पर कीटाणू ला सकती है। इसलिए घर आते ही, सभी चीज़ों को डिसइंफेक्ट कर लें। घर में घुसते ही जूतों, चश्मे या बैग को अच्छी तरह साफ कर लें चाहें तो आप नहा भी सकते है। 

घबराएं नहीं:

ये सच है कि सारा वक्त घर पर बैठने और सिर्फ कोरोना वायरस से जुड़ी ख़बरें पढ़-पढ़कर सभी के दिलों में घबराहट और डर बढ़ रहा है। पूरे देश और पूरी दुनिया में रह रहे लोग आपकी तरह की ही एहसास से गुज़र रहे है। इसलिए घबराएं नहीं। अपने मन को शांत करने के लिए ध्यान करें। स्वच्छता का ध्यान रखें, सेहतमंद खाना खाएं और डरे नहीं।

कोरोना गाइड के लिए अभी आयु ऐप डाउन्लोड करें । क्लिक 👆

Leave a Reply

Your email address will not be published.