मुंह के कैंसर का कारण, लक्षण और उपचार

कैंसर ऐसी बीमारी है जिसका नाम सुनते ही शरीर में सिहरन होने लगता है और रोंगटे खड़े हो जाते हैं. भारत में सबसे ज्यादा लोग मुंह के कैंसर की वजह से अपनी जान गवा बैठते हैं. इसका सबसे बड़ा कारण गुटखा, तंबाकू और पान होता है. लेकिन ऐसा नहीं है कि जो लोग इन सब चीजों का सेवन नहीं करते है ,उनको मुंह का कैंसर नहीं हो सकता. आज हम आपको मुंह में होने वाले कैंसर की वजह, लक्षण, और उपायों के बारे में बताएंगे ताकि आप समय रहते इस बीमारी से खुद की रक्षा कर सकें.

इम्यून सिस्टम भी है कारण

मुंह के कैंसर से वें लोग भी पीड़ित होते हैं, जिनका इम्यून सिस्टम काफी कमजोर होता है. वहीं जो लोग अच्छे से मुंह की सफाई नहीं करते हैं, इससे होनी वाली समस्याओं पर ध्यान नहीं देते हैं, उन लोगों में इस बीमारी का होने का खातरा अधिक होता है. लेकिन इस बात को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है कि यह बीमारी सबसे ज्यादा तंबाकू के सेवन करने वाले लोगों को होती हैं.

विशेषज्ञ डॉक्टरों से अपनी समस्याओं का घर बैठे पाएं समाधान, अभी परामर्श लें 👇🏽

मुंह के कैंसर की पहचान

  • कैंसर की शुरुआत में मुंह के अंदर सफेद छाले या छोटे-छोटे घाव हो जाते हैं. वहीं, इन पर समय से ध्यान नहीं दिया गया तो आगे चलकर इस बीमारी का कारण बन जाता है.
  • मुंह से दुर्गंध आना, आवाज में बदलाव होना, कुछ निगलने में तकलीफ होना आदि इस बीमारी के लक्षण होते हैं. यह कैंसर मुंह के अंदर कहीं भी हो सकता है.
  • मुंह में घाव होना, सूजन होना, लार में खून निकलना, जलन होना, सुन्नता होना, मुंह में दर्द होना आदि इस बीमारी के होने की इशारा करते हैं.
  • मुंह के अंदर कहीं पर भी गांठ महसूस होना इस बीमारी के होने की आशंका होती है. इसके अलावा मुंह के अंदर कोई भी रंग परिवर्तन दिखे तो कैंसर की जांच करा लें.

इन चीजों को बोलें बाय

  • अगर इस बीमारी से बचना है तो जितनी जल्दी हो सके धूम्रपान एवं नशे से दूरी बना लेनी चाहिए.
  • दांतों और मुंह की अच्छी तरह सफाई करने से इस बीमारी से बचा जा सकता है.
  • जंक फूड, प्रोसेस्ड फूड, कोल्ड ड्रिंक्स, डिब्बा बन्द चीजों को कम से कम खाएं. इसके साथ ही ताजे मौसमी फल, सब्जी, सलाद अवश्य खाएं.
  • मुंह के अंदर किसी भी प्रकार का बदलाव दिखे या फिर मुंह में होने वाली समस्या सही न हो रही हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.
//youtu.be/qUHbzgmrw9Q

मुंह के कैंसर का उपचार

  • अगर आप शुरुआती स्टेज में ही मुंह की कैंसर की पहचान कर लेते है तो इस बीमारी को दवाइयों के सेवन से भी ठीक किया जा सकता है.
  • कई बार डॉक्टर इस बीमारी का उपचार रेडिएशन थेरेपी के माध्यम से करते हैं,इस थेरेपी के माध्यम से शरीर में कैंसर की कोशिकाओं को नष्ट किया जाता है.
  • यह बीमारी कई बार बायोप्सी सर्जरी के द्वारा भी ठीक हो जाता है,इस सर्जरी में शरीर में कैंसर युक्त टिशू को अलग किया जाता है.
  • कई बार डॉक्टर इस बीमारी का इलाज करने के लिए कीमोथेरपी को अपनाते हैं, इस प्रक्रिया में कैंसर को नष्ट करके मरीज को ठीक किया जाता है.
  • जब मुंह की इस समस्या से पीड़ित व्यक्ति को उपचार के किसी अन्य तरीकों से आराम नहीं मिलता है, तब उस स्थिति में कैंसर सर्जरी कराने की सलाह दी जाती है.
  • इसमें ट्यूमर एवं उसके आस-पास के टिशू को सर्जिकल तरीके से निकाला जाता है.

आयु आपके सेहत का रखें ध्यान

अगर आप या आपके परिवार का कोई सदस्य मुंह के कैंसर से परेशान हैं तो आज ही घर बैठे स्पेशलिस्ट डॉक्टर से “Aayu” ऐप पर परामर्श लें . Aayu ऐप डाउनलोड करने के लिए नीचे दी गई बटन पर क्लिक करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.