एनीमिया के लक्षण और इलाज | Daily Health Tip | Aayu App

Symptoms of Anaemia

आयरन की कमी की वजह से आपको थकान महसूस हो सकती है और एनीमिया हो सकता है। अपनी डाइट में आयरन से भरपूर चीज़े शामिल करे जैसे गाजर टमाटर आदि।

Iron deficiency can cause Anaemia and you will feel tired throughout the day. Add  Iron rich vegetables like carrot and Tomato to your diet.

Health tips for Aayu App

एनीमिया एक रक्त से संबंधित बीमारी है जिसकी ज़्यादातर औरतें ही शि‍कार होती है। एनीमिया होने पर शरीर में आयरन की कमी हो जाती है और इसके चलते हीमोग्लोबिन बनना कम हो जाता है। इससे शरीर में खून की कमी हो जाती है। जब शरीर में हीमोग्लोबिन कम हो जाता है, तो नसों में ऑक्सीजन का प्रवाह भी कम होता है। इससे खून में एनीमिया की कमी हो जाती है और शरीर को जरूरी ऊर्जा भी नहीं मिल पाती।

एनीमिया होने के कारण:

  • एनिमिया का सबसे बड़ा कारण शरीर में आयरन की कमी होना
  • अगर आप खाने में कैल्शियम बहुत ज्यादा खाते है, इससे भी एनीमिया हो सकता है
  • हरी सब्जियां का ना खाना
  • शरीर से बहुत अधि‍क खून बह जाने से भी एनिमिया हो सकता है।

एनीमिया के लक्षण:

  • ज़्यादा थकान महसूस होना
  • उठने-बैठने पर चक्कर आना
  • त्वचा और आँखों में पीलापन
  • दिल की असामान्य धड़कन होना
  • सांस लेने में तकलीफ होना
  • तलवों और हथेलियों का ठंडा होना

एनीमिया से बचाव और इलाज:

  • वास्तव में खून की कमी होना ही एनीमिया है. इसलिए इससे बचाव के लिए आहार में कुछ बदलाव करना काफी फायदेमंद साबित होता है। शरीर में आयरन की जरूरत को पूरा करने के लिए खाने में चुकंदर, गाजर, ट्माटर और हरी पत्तेदार सब्जियों को शामिल करें।
  • जब भी घर पर सब्जी बनाएं, तो उसे लोहे की कढ़ाई में बनाएं। इससे खाने में आयरन की मात्रा काफी बढ़ जाती है।
  • खाने में गुड, चने का इस्तेमाल करें। यह हीमोग्लोबिन की मात्रा को बढ़ाने में मददगार है।
  • अगर आयरन की कमी ज़्यादा हो जाए तो डॉक्टर से सलाह लें।

एनीमिया किस विटामिन की कमी से होता है?

विटामिन बी12 हमारे शरीर के सेल्स के लिए ज़रूरी विटामिन है। इन सभी सेल्स का नियंत्रण इनमें स्थित न्यूक्लियस के डीएनए और आरएनए द्वारा होता है और यह अनिवार्य विटामिन है। बी12 ना मिले तो यह न्यूक्लियस काम नहीं करता, इसीलिए इसकी कमी हो तो कोई भी सेल सही से काम नहीं करती।

यही विटामिन बी12 हमारे नर्वस सिस्टम की कार्यप्रणाली को दुरुस्त रखने का काम करता है। यानि यह मस्तिष्क और शरीर की सारी तंत्रिकाओं में करंट के बहने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है। अगर इस विटामिन की कमी हो जाए तो हमें कई न्यूरोलॉजिकल प्रॉब्लम पैदा हो सकती हैं। विटामिन बी12 उन सेल्स के मैच्योर होने में भी बहुत जरूरी काम करता है जो रक्त बनाते हैं। इसीलिए शरीर में बी12 ना हो तो हमें अलग तरह का एनीमिया हो सकता है जिसे मेगालोब्लास्टिक एनीमिया कहते हैं।

इस विटामिन के साथ फॉलिक एसिड होता है। यह भी इन सारे कामों में बराबर का रोल निभाते है। इसलिए अगर विटामिन बी-12 की कमी भी ना हो और फॉलिक एसिड की भी कमी हो तब भी वह विटामिन बी-12 की कमी ही मानी जाती है।

इसलिए विटामिन बी-12 के साथ हमेशा फॉलिक एसिड को लेने की सलाह दी जाती है।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें  

Leave a Reply

Your email address will not be published.