स्वाइन फ्लू के लक्षण और उपचार

swine flu

स्वाइन फ्लू क्या है?

स्वाइन फ्लू एक तरह का संक्रामक सांस रोग है जो देखा जाए तो सूअरों को ही होती है। यह आमतौर पर स्वाइन इन्फ्लूएंजा ए वायरस के H1N1 स्ट्रेंस के कारण होता है। हालांकि H1N2, H3N1 और H3N2 के रूप में अन्य स्ट्रेंस भी सूअरों में मौजूद रहते हैं। हालांकि लोगों में स्वाइन फ्लू होना सामान्य नहीं है, मुख्यतः यह सूअरों के करीब आने से फैल सकता है।

मार्च / अप्रैल 2009 के दौरान, सूअर इन्फ्लूएंजा वायरस की एक नई स्ट्रेन मेक्सिको में उभरी, और मनुष्यों में फैलना शुरू हो गया। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार इन्फ्लूएंजा के नए स्ट्रेन, जिसे इन्फ्लुएंजा ए (H1N1) कहा जाता है, एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है।

स्वाइन फ्लू के लक्षण:

  • नाक से पानी बहना
  • नाक बंद हो जाना
  • गले में खराश
  • सर्दी-खांसी
  • बुखार
  • सिरदर्द
  • शरीर दर्द
  • थकान
  • ठंड लगना
  • पेट दर्द होना
  • दस्त होना
  • उल्टी होना

स्वाइन फ्लू का निदान:

स्वाइन फ्लू में खांसी या गले में खरास के साथ 1000 फारेनहाइट से अधिक तक बुखार हो सकता है। इसका निदान आरआरटी या पीसीआर तकनीक से किए गए लैब टैस्ट से होती है।

हल्का फ्लू या स्वाइन फ्लू बुखार, खांसी, गले में खरास, नाक बहने, मांसपेशियों में दर्द, सिरदर्द, ठंड और कभी-कभी दस्त और उल्टी के साथ आता है।  

हल्के मामलों में, सांस लेने में परेशानी नहीं होती।

लगातार बढ़ने वाले स्वाइन फ्लू में छाती में दर्द, श्वसन दर में वृद्धि, रक्त में ऑक्सीजन की कमी, कम रक्तचाप, भ्रम, बदलती मानसिक स्थिति, गंभीर निर्जलीकरण और अंतर्निहित अस्थमा, गुर्दे की विफलता, मधुमेह, दिल की विफलता, एंजाइना या सीओपीडी हो सकता है।

गर्भवती महिलाओं में, फ्लू भ्रूण की मौत सहित अधिक गंभीर जटिलताओं का कारण बन सकता है।

स्वाइन फ्लू से बचने के घरेलू उपचार:

स्‍वाइन फ्लू से बचाव के लिए आप कुछ घरेलू नुस्‍खे अपना सकते है। गिलोय, हल्‍दी, तुलसी के पत्ते और लहसुन आदि का नियमित सेवन आपको स्वाइन फ्लू जैसी बीमारी से लड़ने में मदद करता है। खुद को स्वस्थ बनाए रखने के लिए रेगुलर एक्सरसाइज करें। अपने आहार का खास ध्यान रखें और स्वाइन फ्लू के खतरे को कम करें।

हल्के-फुल्के मामलों में अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता नहीं होती, लेकिन गंभीर लक्षण होने पर मरीज को भर्ती करने की आवश्यकता होती है।

स्वाइन फ्लू से बचाव:

बार-बार हाथ धोएं: यदि आपने बाहर समय बिताया है, तो अपने हाथों को धोना सुनिश्चित करें, खासकर तब जब आप भोजन या अपने प्रियजनों के संपर्क में आते है। डेटोल लिक्विड हैंड-वॉश एंटी-बैक्टीरियल है और कई तरह के बीमारी पैदा करने वाले कीटाणुओं से बचाते है। इस तरह से हाथ धोने से स्वाइन फ्लू से बचाव में मदद मिलती है।

हैंड-सैनिटाइजर खरीदें: आप एक हैण्ड सैनिटाइज़र भी ले सकते हैं, जिसका उपयोग आप बाहर जाने पर कर सकते हैं। डेटोल हैंड सैनिटाइजर 99.99% तक बैक्टीरिया को खत्म करता है। आप इसे कहीं भी ले जा सकते हैं और किसी भी समय उपयोग कर सकते हैं।

सतर्क रहें: यदि आपने अपने आसपास के क्षेत्र में लोगों को स्वाइन फ्लू से प्रभावित होने के बारे में सुना है और यदि आप बीमार हैं, तो जब तक आप स्वस्थ नहीं हैं तब तक बहुत अधिक किसी के साथ समय बिताने से बचें। बच्चों और वृद्ध लोगों के लिए भी समान रूप से नियम लागू होते है। यदि आप सार्वजनिक स्थानों जैसे स्टेशन, कार्यस्थल या सार्वजनिक विश्रामगृहों में चीजों को छूते हैं, तो अपने हाथ धोने से पहले अपने चेहरे, मुँह, नाक या अपने भोजन को छूने से बचें या पहले एक हैण्ड सेनिटाइज़र का उपयोग करें।

अस्वीकरण: सलाह सहित इस लेख में सामान्य जानकारी दी गई है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है।अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐप डाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ  डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.