fbpx
पाचन क्रिया को सही रखने वाले सप्लीमेंट्स | Daily Health Tip | Aayu App

पाचन क्रिया को सही रखने वाले सप्लीमेंट्स | Daily Health Tip | Aayu App

अगर आपका पाचन तंत्र गड़बड़ा गया है तो आप मुलेठी, अदरक आदि ले सकते है।

If your digestive system is imbalanced, you should eat liquorice, ginger for better digestion

Health Tips for Aayu App

अनियमित दिनचर्या और खाने में तैलीय और जंक फूड की अधिकता का सबसे अधिक असर पाचन क्रिया पर पड़ता है। इसके कारण पाचन की समस्या आम हो गई है। हर उम्र वर्ग के लोगों को पाचन की समस्या हो सकती है । एक ही जगह घंटों बैठकर काम करना, शारीरिक गतिविधियों का अभाव, नियमित व्‍यायाम न करना, जंक फूड का सेवन करना, तनाव लेना, भरपूर नींद ना लेना, स्‍वस्‍थ आहार से दूरी आदि इस समस्‍या के सबसे प्रमुख कारण है। पाचन क्रिया को सुचारु करने के लिए सप्‍लीमेंट का सेवन कर सकते है, यह खाने को आसानी से पचाने में मदद करता है।

पाचन तंत्र क्या है?

हरे शरीर को स्‍वस्‍थ रखने में पाचन तंत्र का अहम योगदान है। हम जो खाना खाते है, उसे सही रूप से पाचन तंत्र पहुँचाता है। पाचन तंत्र खाने को ऊर्जा में बदल कर शरीर को पोषण और ऊर्जा प्रदान करता है और इसके कारण शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। पाचन तंत्र में गड़बड़ी होने से हम जो खाते है, उसे सही से पचा नहीं पाते। इस वजह से शरीर को आवश्यक विटामिन्स और मिनरल्स नहीं मिलते। इससे हमारे शरीर में हानिकारक तत्व बढ़ने लगते है साथ ही इम्यून सिस्टम भी धीरे-धीरे काम करना बंद कर देता है। इसके कारण कब्‍ज, एसिडिटी, सीने में जलन, सिरदर्द जैसी पाचन क्रिया से संबंधित बीमारियां होती है।

पाचन तंत्र के सप्लीमेंट्स:

प्रोबायोटिक्स: यह एक प्रकार के अतिसूक्ष्‍म जीव होते है जो नैचुरली हमारी आंतों में पाए जाते है। ये हमारे शरीर के फायदेमंद जीवाणु होते है जो हानिकारक जीवाणुओं को बढ़ने से रोकते है। ऐसे सप्‍लीमेंट लेने से शरीर में इनकी कमी नहीं होती और ये पेट संबंधी समस्‍याओं को होने से रोकते है। डेयरी उत्पाद जैसे दूध, दही व कुछ पौधों में प्रोबायोटिक बैक्‍टीरिया होते है। आप प्रोबायोटिक दूध और दही का सेवन कर सकते है।

मुलेठी या डीजीएल: मुलेठी में डीग्‍लाइसिरीजिनेटेड (Deglycyrrhizinated) सप्‍लीमेंट होता है जो पेट की समस्‍याओं से निजात दिलाता है। इसमें एंटीबायोटिक एवं बैक्‍टीरिया से लड़ने की क्षमता पाई जाती है। मुलेठी के प्रयोग से ना सिर्फ आमाशय के विकार बल्कि गैस्ट्रिक अल्सर और छोटी आंत के प्रारम्भिक भाग ड्यूओडनल अल्सर में भी लाभ होता है। खाने को आसानी से पचाकर पाचन क्रिया को सुचारु करने के लिए इसका सेवन फायदेमंद है। इसका सेवन गर्भवती महिलाओं को भी करने की सलाह दी जाती है।

पुदीने का तेल: पेपरमिंट यानि पुदीने का तेल पाचन क्रिया को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाता है। पुदीने का तेल प्रयोग करने से अपच की समस्या नहीं होती। खाने को स्वादिष्ट बनाने के लिए, थोडा सा पुदीने का तेल खाने में डाले या खाने के बाद इस तेल की कुछ बूंदें एक गिलास गर्म पानी में डालकर पीने से पाचन क्रिया दुरुस्‍त होती है। यह तेल कब्‍ज, गैस की समस्या से छुटकारा दिलाता है। पुदीने का तेल, पेट में उठने वाले मरोड़ों और पेट की अन्य समस्याओं का इलाज करता है।

कैमोमाइल यानि बबूने का फूल: बबूने के फूल का तेल का सेवन करने से पेट संबंधी समस्याएं दूर होती है। कैमोमाइल पेट के साथ त्‍वचा के लिए भी बहुत फायदेमंद माना जाता है। यह पेट की मांसपेशियों और तंत्रिकाओं को सुचारु करता है, इससे खाना आसानी से पचता है। कैमोमाइल गैस संबंधी समस्‍या को दूर करता है।

अदरक: पेट का दर्द हो या सीने की जलन, पेट में कब्‍ज हो या गैस की समस्‍या सबके लिए अदरक का प्रयोग किया जाता है। अदरक से मतली और उल्‍टी जैसी पेट से संबंधित बीमारियों का उपचार किया जाता है। पाचन संबंधी किसी प्रकार के उपचार के लिए अदरक का सेवन करें। अदरक का सेवन चाय के साथ या इसका चूर्ण बनाकर किया जा सकता है। नियमित रूप से आप 1 से 3 ग्राम अदरक का सेवन करें।

इसबगोल: इसे सीलियम कहते है, यह पेट के लिए वरदान की तरह है। यह गेहूं के पौधे की तरह दिखता है, इसमें तना नहीं होता, लेकिन पत्तियां होती है। इसके बीज के ऊपर सफेद पाउडर लगा होता है, जिसे भूसी कहते है। पेट से संबंधित बीमारियों को ठीक करने में यह बहुत कारगर है। आंत में दर्द या जलन से परेशान है तो ठंडे पानी के साथ इसबगोल का सेवन करने से आराम मिलता है। अपच, डायरिया और दस्त से परेशान है तो दही में दो चम्मच इसबगोल की भूसी डालकर दिन भर में दो-तीन बार सेवन करने से राहत मिलती है।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें  

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (3)
  • comment-avatar
    Divya Narayan Mishra 7 months

    Very very nice congratulations Jay hind Jay bharat mata ki Jay beautiful congratulations i love my indian doctar

  • comment-avatar
    Raghuveer sharan Shrivastava 7 months

    Sahyog hetu haardik dhanybaad maanyavar. Aapko saadar naman.

  • Disqus ( )