स्पर्म को बनाना है असरदार तो करें ये काम

शेयर करें

पुरुषों के वीर्य में शुक्राणुओं (स्पर्म) की संख्या में कमी का मतलब केवल उनकी प्रजनन क्षमता पर सवालिया निशान नहीं है बल्कि इससे पता चलता है कि कई अन्य तरह की भी स्वास्थ्य समस्याएं हैं.यह शारीरिक सुख के साथ-साथ प्रजनन प्रक्रिया का प्रमुख आधार होता है. आज के समय में हर तीसरे व्‍यक्ति में शुक्राणुओं की कमी होती है जिसकी वजह से वे सफल यौन संबंध नहीं बना पाते है. पुरुषों के वीर्य में शुक्राणुओं की संख्‍या प्रजनन शक्ति को प्रभावित कर स‍कती है. जो की आपकी नामर्दानगी और बांझपन से संबंधित होती है. स्पर्म की कमी होने पर यदि समय पर उचित उपचार किया जाए तो आप आपनी यौन शक्ति को बढ़ा सकते है.

शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाने के उपाए

वजन नियंत्रण

आपका ज्‍यादा वजन आपके शुक्राणुओं की संख्‍या को प्रभावित कर सकता है. यदि आप अपना वजन कम कर सकते है तो यह आपकी प्रजनन क्षमता और शुक्राणुओं की संख्‍या को बढ़ाने में बहुत ही प्रभावी होगा। यौन से संबंधित शोधों से जानकारी मिलती है कि कम वजन वीर्य की मात्रा , गुणवत्‍ता, गतिशीलता और शुक्राणुओं के संपूर्ण स्‍वास्‍थ के लिए बहुत फायदेमंद है.आप अपने स्‍वस्‍थ खान-पान के लिए डॉक्‍टर से परार्मश कर सकते है. नियंत्रित वजन और स्‍वस्‍थ्‍य शरीर आपकी यौन समस्‍या को दूर करने में मदद कर सकता है.

नियमित व्‍यायाम

नियमित व्‍यायाम आपके शरीरिक विकास के लिए महत्‍वपूर्ण होता है. नियमित व्‍यायाम से आप शुक्राणुओं की संख्‍या को बढ़ा सकते है. एक्‍सरसाइज करने से सक्रीय और स्‍वस्‍थ जीवन शैली को अपनाया जा सकता है. वेटलिफ्टिंग, आउटडोर व्‍यायाम और अन्‍य एक्सरसाइज स्‍वस्‍थ शुक्राणुओं की वृद्धि करने में मदद करते है.व्‍यायाम करने से आप अपने वजन को नियंत्रित रखने के साथ स्‍वस्‍थ शरीर और स्‍वस्‍थ शुक्राणुओं के लिए लाभकारी होता है.

विटामिन

शुक्राणुओं में आने वाली कमी को पूरा करने के लिए विटामिनो का उपयोग बहुत ही फायदेमंद होता है. शुक्राणुओं के पोषण के लिए विटामिन D, C, E लाभकारी होते है। विटामिन C से शुक्राणुओं की संख्‍या में किसी प्रकार का परिवर्तन नहीं होता लेकिन यह उनकी कार्य क्षमता को बढ़ा सकता है. जिससे गर्भधारण कराने की शक्ति संभावित रूप से बढ़ सकती है. विटामिन D जो कि हमें प्राकृतिक रूप से सिर्फ सूर्य से मिलता है. इसकी मात्रा मनुष्‍यों में काफी कम होती है. विटामिन D प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है. इसलिए आप अपने शरीर विटामिन की कमी होने पर इनके पूरको का उपयोग करें.

अण्डों का सेवन

पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्‍या को बढ़ाने के लिए अंडों का उपयोग किया जा सकता है. अंण्‍ड़े में विटामिन E और प्रोटीन पर्याप्‍त मात्रा में होते है. इसमें मौजूद विटामिन और प्रोटीन शुक्राणुओं की सुरक्षा के लिए फायदेमंद होते है. फ्री रेडिकल्‍स शुक्राणुओं की संख्‍या को कम कर सकते है. अंण्‍ड़े में उपस्थित पोषक तत्‍व शुक्राणुओं को स्‍वस्‍थ और उनकी संख्‍या में वृद्धि करते है। यह आपकी प्रजनन क्षमता को बढ़ा सकते है.

केले का सेवन

स्‍वादिष्‍ट और स्‍वास्‍थ्‍य वर्धक केला में बहुत सारे पोषक तत्‍व होते है जो शुक्राणुओं के पोषण में मदद करते है। केला विटामिन A,विटामिन C और विटामिन B1 के अच्‍छे उत्‍पादक होते है जो शुक्राणु को स्‍वस्‍थ और उनके उत्‍पादन को बढ़ावा देने में मदद करते है। केले में बहुत ही उपयोगी और कम मात्रा में मिलने वाले एंजाइम होता है जिसे ब्रोमेलेन कहते है। यह शुक्राणुओं की उत्‍पादन और उनकी सक्रीयता में वृद्धि करता है.

गाजर का सेवन

गाजर में विटामिन ए प्रमुख रूप से पाया जाता है जो कि शुक्राणुओं की वृद्धि और उनकी कार्य क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है. यदि आप यौन-सुख की प्राप्‍ती करना चाहते है तो गाजर और अन्‍य खाद्य पदार्थ जो विटामिन ए उपलब्‍ध कराते है उनका नियमित रूप से सेवन करते रहें.

अखरोट का सेवन

ओमेगा-3 फैटी एसिड अच्‍छी मात्रा अखरोट में होती है जो अंडकोष में खून संचरण को बढ़ा कर शुक्राणुओं की मात्रा और उनके उत्‍पादन में वृद्ध करते है. यह आर्जिनिन से परिपूर्ण होते है इनका कार्य भी शुक्राणुओं की वृद्धि करना होता है.अखरोट में एंटीऑक्सिडेंट भी होते है जो आपके खून में उपस्थित विषैले और हानिकारक पदार्थो को दूर करने में सहायक होते है.

जिंक से लाभ

खाद्य पदार्थो के साथ जिंक का सेवन करने से शुक्राणुओं के पोषण और उनकी वृद्धि में मदद मिलती है. लाल मांस, सेम आदि में जिंक पर्याप्‍त मात्रा में होते है. शुक्राणुओं की कमी और उनके निष्क्रिय होने का प्रमुख कारण खनिज पदार्थो की कमी होती है.अन्‍य सभी पोषक पदार्थो के सेवन के साथ-साथ आपके लिए जिंक का सेवन करना भी अनिवार्य होता है. इसलिए कम से कम प्रति दिन 15 मिली ग्राम जिंक का सेवन लाभकारी होता है.

स्पर्म काउंट दुरुस्त रखना है तो ये काम ज़रूर करें

  • बहुत टाइट अंडरवेयर नहीं पहनें और गर्म पानी से भी नहाने से बचें.
  • यौन संक्रमण से बचकर रहें.
  • शराब पीना बिल्कुल बंद करें. शराब के सेवन आपके टेस्टास्टरोन हॉर्मोन्स की सेहत में गिरावट आती है. इस हॉर्मोन का सीधा संबंध यौन क्षमता से होता है.
  • ख़ुद को फिट रखें और तोंद नहीं निकलने दें.
  • कसरत करें, लेकिन बहुत ज़्यादा नहीं करें.
  • आप कितनी नींद लेते हैं इसका सीधा संबंध आपकी सेहत से है. अगर आप हर दिन सात से आठ घंटे भी नहीं सोते हैं तो प्रजनन क्षमता के बुरे दिन शुरू हो जाते हैं.
  • एक स्टडी के अनुसार जो हर दिन 6 घंटे से भी कम नींद लेते हैं उनकी प्रजनन क्षमता में 31 फ़ीसदी संभावना कम देखी गई.
  • अच्छी नींद आपकी सेहत के साथ प्रजनन क्षमता को भी दुरुस्त रखने के लिए काफ़ी ज़रूरी है.
  • गर्म पानी से नहाने से परहेज करें. कई स्टडी में यह बात सामने आई है कि स्पर्म प्रॉडक्शन के लिए कम तापमान का होना उसके हक़ में होता है.
  • गर्म पानी से नहाते वक़्त आपके अंडकोष का तापमान बाधित होता और इससे स्पर्म काउंट पर सीधा असर पड़ता है.
शेयर करें

One Reply to “स्पर्म को बनाना है असरदार तो करें ये काम”

  1. मै प्रजनन क्षमता बढ़ाने के बारे जानना चाहता हूँ

Leave a Reply

Your email address will not be published.