45 से ज्यादा उम्र वाले लोगों में यौन संचारित संक्रमण (STI) का ज्यादा खतरा-रिसर्च

STI

शोधकर्ताओं ने पाया है कि 45 से ऊपर के लोगों को यौन संचारित संक्रमणों (STI) से पहले से कहीं अधिक खतरा है, क्योंकि समाज के लोगों में मध्यम आयु वर्ग और बूढ़े लोगों के यौन संबंध बनाने की अनिच्छा है। अब आप यौन संचारित संक्रमणों क्या है और इससे कैसे करें बचाव।

यौन संचारित संक्रमण (STI) क्या है?

यौन संचारित संक्रमण (STI) यौन संबंध के कारण महिलाओं व पुरुषों को होने वाली बीमारियाँ होती है। यह कई तरह की होती है। इसमें एचआईवी/एड्स, ह्यूमन पेपिलोमा वायरस संक्रमण, हर्पीज, हेपेटाइटिस, शैंकक्रॉइड, प्यूबिक लाइस, एचपीवी आदि शामिल है।

इनमें से कुछ बीमारियों को ठीक किया जा सकता है तो किसी का इलाज जिंदगीभर चलता है। अगर यह इंफेक्शन बढ़ जाए तो व्यक्ति की जान भी जा सकती है। यही वजह है कि डॉक्टर इस बीमारी के इलाज से ज्यादा बचाव के तरीकों पर ध्यान देते है ताकि संक्रमण की स्थिति पैदा ही ना हो।

यौन संचारित संक्रमण (STI) से बचाव के तरीके:

  • यौन संबंध के दौरान कंडोम का इस्तेमाल करें।
  • टॉवल या अंडरगार्मेंट शेयर ना करें।
  • यौन संबंध के पहले और बाद में प्राइवेट पार्ट को जरूर धोएं।
  • हेपेटाइटिस बी का वैक्सीन लगवाएं।
  • रेग्युलर टेस्ट करवाएं ताकि STI है या नहीं इसके बारे में पता लगाया जा सकें।
  • अंजान लोगों के साथ यौन संबंध बनाने से बचें।
  • सिर्फ पार्टनर के साथ यौन संबंध बनाएं। यह STD के खतरे को काफी कम कर देता है।

STD की रोकथाम:

संयम (Abstinence) इन रोगों से बचने का एकमात्र तरीका है। इसके अलावा यौन संचारित रोगों से रोकथाम के लिए सेक्स के समय कंडोम का प्रयोग और सेक्स के बाद साबुन से जननांगों की सफाई सबसे अच्छा उपाय है। इन रोगों की जाँच और उपचार सभी के लिए सुलभ (Accessible) होना चाहिए और आम लोगों को इन रोगों के संबंध में उचित जानकारी देनी चाहिए, जिससे इन रोगों से ग्रस्त लोग डर, शर्म, संकोच आदि त्याग कर चिकित्सक की सलाह ले सकें। अगर संभव हो तो एचपीवी और हेपेटाइटिस का टीका जरूर लगवाएं।

गुप्त रोगों से अपने-आप को निम्न उपायों द्वारा बचाया जा सकता है:

  1. सम्बन्ध बनाने से पहले अपनी और अपने साथी की जाँच करवाएं।
  2. पुरूषों द्वारा लेटैक्स कंडोम के सही प्रयोग से इन रोगों से ग्रस्त होने का खतरा कम हो जाता है। हालांकि महिला कंडोम उतना प्रभावशाली नहीं है जितने पुरूषों के कंडोम। लेकिन यदि पुरूष उपयोग ना करें तो स्री को जरूर उपयोग करना चाहिए।
  3. समय समय पर यौन जाँच करवाते रहें।

ब्रिटेन में यूनिवर्सिटी ऑफ चिचर (University of Chichester) के अध्ययन से पता चला है कि सामाजिक और आर्थिक रूप से वंचित क्षेत्रों (Disadvantaged Areas) में रहने वाले 45 की उम्र से अधिक लोगों को यौन संचरित संक्रमणों (STI) से निपटने का खतरा है।

शोधकर्ताओं के अनुसार, हाल के दशकों में यौन व्यवहार में बड़े बदलावों ने यौन सक्रिय वृद्धों की संख्या में वृद्धि देखी है।

अध्ययन के लेखक इयान टिंडल (Ian Tyndal) ने कहा, “ज्यादातर जोखिम में 45 से अधिक उम्र के लोगों को आमतौर पर रजोनिवृत्ति (Menopause) की अवधि के बाद नए संबंधों में प्रवेश करते है, अक्सर रजोनिवृत्ति (Menopause) के बाद, जब आमतौर पर गर्भावस्था पर विचार नहीं किया जाता, लेकिन एसटीआई (STI) पर थोड़ा विचार किया जाता है।

“जीवन प्रत्याशा (Life Expectancy) में सुधार को देखते हुए, यौन स्वास्थ्य सेवा को वृद्ध वयस्कों (Older Adults) और कमजोर समूहों (Vulnerable Groups) के लिए अपने हस्तक्षेप (Intervention) में सुधार करने की आवश्यकता है ताकि अधिक उपयोग, ज्ञान, दयालु और प्रभावी सेवा प्रदान की जा सके,” टाइन्डल (Tyndal) ने कहा।

SHIFT की लेटेस्ट रिपोर्ट में इंग्लैंड के दक्षिणी तट और बेल्जियम और नीदरलैंड के उत्तरी क्षेत्रों में लगभग 800 प्रतिभागी शामिल थे, जिनमें से लगभग 200 सामाजिक आर्थिक नुकसान का सामना करते है।

प्रारंभिक निष्कर्षों में चार महत्वपूर्ण क्षेत्रों पर प्रकाश डाला गया है, जहां शोधकर्ताओं का मानना ​​है, एक हस्तक्षेप (Intervention) वर्तमान स्वास्थ्य सेवा प्रावधान (Healthcare Provision Awareness) में अंतराल को संबोधित कर सकता है: जागरूकता, पहुंच, ज्ञान और कलंक (Stigma)।

परिणामों से पता चला है कि प्रतिभागियों की एक महत्वपूर्ण संख्या एसटीआई के जोखिमों (Risk of STI) से अनजान थी, जबकि 46 प्रतिशत को अपने स्वास्थ्य सेवा केंद्र के स्थान का पता नहीं था।

निष्कर्षों से यह भी पता चला है कि एक या एक से अधिक सामाजिक आर्थिक नुकसान वाले समूह, जैसे बेघर लोग, यौनकर्मी, गैर-देशी भाषा बोलने वाले और प्रवासी, अपने यौन स्वास्थ्य से अनजान होने और उचित सेवाओं तक पहुँचने में असमर्थ होने का अधिक जोखिम रखते है।

अस्वीकरण: सलाह सहित इस लेख में सामान्य जानकारी दी गई है। अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐपडाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.