कार्बोहाइड्रेट के स्रोत और प्रकार | Daily Health Tip | 31 March 2020 | AAYU App

sources of carbohydrate

चावल पकाने के बाद उसका पानी ना फेंके क्योंकि यह पानी स्किन, बालों और हेल्थ के लिए फायदेमंद होता है। इसमें भरपूर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट्स और अमीनो एसिड्स होते है, जो एनर्जी देते है।

After Cooking rice, don’t throw its water as it is beneficial for skin, hairs and health. It contains plenty of Carbohydrates and amino acids which provides energy.

Health tips for Aayu App

क्या होता है कार्बोहाइड्रेट :

वे ध्रुवण घूर्णक यौगिक (Polarized Compound) जो पॉलीहाइड्रोक्सी एल्डिहाइड या कीटोन होते है या वे पदार्थ जिनके जल उपघटन से पॉलीहाइड्रोक्सी एल्डिहाइड या कीटोन बनते है उन्हें कार्बोहाइड्रेट कहते है।

कार्बोहाइड्रेट के प्रकार:

कार्बोहाइड्रेट के मुख्यतः तीन प्रकार है:

मोनोसैकेराइडस (Monosaccarides):

ये सेकेराइड की एकलक इकाई (monomer unit) से मिलकर बने होते है। इनका जल-अपघटन नहीं किया जा सकता ये रंगहीन, जल में घुलनशील (water soluble), क्रिस्टलीय होते है। इनका सामान्य सूत्र CnH2nOn या (CH20)होता है। इनके नामकरण के लिए ओज(ose) अनुलग्न (Suffix) लगाते है।

कुछ सामान्य मोनोसेकेराइड:

ग्लूकोज (Glucose):

यह जंतुओं में पाए जाने वाला सबसे महत्वपूर्ण कार्बोहाइड्रेट है। इसको Grape sugar, Blood sugar या Dextrose sugar भी कहा जाता है।

फ्रुक्टोज (Fructose):

यह शहद तथा मीठे फलों में पायी जाती है। इसलिए इसको Fruit sugar या लेवुलोज़ (Laevulose) sugar भी कहा जाता है।

गैलेक्टोज (Galactose):

यह दूध में पायी जाने वाली लैक्टोज, सेरेब्रोसाइड, हेमीसेल्युलोज का घटक है। इसको Brain sugar भी कहा जाता है।

डाईसेकेराइड (Disaccharides):

दो मोनोसेकेराइड (Monosaccharides) इकाईयां जल के एक अणु का निष्कासन करके O- ग्लाइकोसिडिक बंध द्वारा जुड़कर डाईसेकेराइड (Disaccharides) का निर्माण करती है। इनका जल-अपघटन (Hydrolysis) हो सकता है।

सुक्रोज (Sucrose):

यह ग्लूकोज तथा फ्रुक्टोज इकाईयां के जुड़ने से बनती है।

लैक्टोज (Lactose):

यह ग्लूकोज तथा गैलेक्टोज इकाईयां के जुड़ने से बनती है।

पॉलीसेकेराइड (Polysaccharides):

लगभग 10 से अधिक मोनो सेकेराइड इकाईयां जुड़कर जटिल कार्बोहाइड्रेट पॉलीसेकेराइड (Polysaccharides) बनाती है। इनको सामान्यत: ग्लाइकेन (Glycans) भी कहा जाता है। इनका जल-अपघटन हो सकता है। ये जल में अघुलनशील (water insoluble) होती है।

पॉलीसेकेराइड दो प्रकार के होते है:

  • होमोपॉलीसेकेराइड
  • हेटरोपॉलीसेकेराइड 

होमोपॉलीसेकेराइड:

ये एक समान मोनो सेकेराइड इकाईयां जुड़कर बने होते है।

हेटरोपॉलीसेकेराइड 

ये अलग-अलग प्रकार की मोनो सेकेराइड इकाईयों से बने होते है।

कार्बोहाइड्रेट के कार्य:

यह शरीर मे शक्ति उत्पन्न करने का प्रमुख स्रोत है। शरीर को शक्ति और गर्मी प्रदान करने के लिए चर्बी की भांति यह कार्य करता है। कार्बोहाइड्रेट्स चर्बी की अपेक्षा शरीर मे जल्दी पच जाते है। शरीर को कार्बोहाइड्रेट्स दो प्रकार से प्राप्त होते है, पहला माड़ी अर्थात स्टार्च तथा दूसरा चीनी अर्थात शुगर। गेहूं, ज्वार, मक्का, बाजरा मोटे अनाज, चावल और दाल तथा जड़ो वाली सब्जियो मे पाए जाने वाले कार्बोहाइड्रेट्स को माड़ी कहा जाता है। केला, अमरूद, गन्ना, चुकंदर, खजूर, छुआरा, मुनक्का, अंजीर, शक्कर, शहद, मीठी सब्जिया, सभी मीठी खाद्य से प्राप्त होने वाले कार्बोहाइड्रेट्स अत्यधिक शक्तिशाली और स्वास्थ्य के लिय लाभदायक होते है परन्तु इनकी अधिकता अनेक खतरनाक जानलेवा रोगो को भी जन्म देती है जिसमे प्रमुख रूप से मधुमेह रोग है। इसमे अत्यधिक वजन बढ़ जाने से भी जीवन को खतरा उत्पन्न हो जाता है।

कार्बोहाइड्रेट के स्रोत:

गाजर: गाजर में अनेक ऐंटिऔक्सिडेंट्स पाए जाते हैं, और बीटा-कैरोटीन उनमें से एक है। गाजर को जब हम कच्चा खाते हैं, तो हमें उसके पोषण का फायदा और भी ज़्यादा होता है।

राजमा: राजमा खाने से हम दिल के रोग से दूर रहते है। राजमा में ऐल्फा-ऐमिलेस नाम का एक और तत्व पाया जाता है, जो हमारे शरीर में स्टार्च को टूटने से बचाता है और वज़न घटाने में मदद करता है।

गेहूँ का आटा: गेहूँ के आटे में, फाइबर का तत्व भारी मात्रा में पाया जाता है जिसके वजह से हमारा खाना आसानी से हजम हो पाता है।

आलू: इस सब्ज़ी में पोटैशियम पाया जाता है। इसके अलावा, इसमें एक ऐसा मिनरल का तत्व भी है जो हमारे ब्लड प्रैशर को संतुलित रखता है, और दिल के रोग से हमें सुरक्षित रखता है। इसमें मौजूद विटामिन सी के कारण, हमारे शरीर की चुस्ती बढ़ती है और हमें कुछ भी करने के लिए ज़्यादा ताकत भी मिलती है।

केला: केला एक बेहतरीन कार्बोहायड्रेट का स्त्रोत है। केले से हमारे शरीर को बेहद चुस्ती मिलती है, और इसमें पाए गए फाइबर के तत्व के कारण, हमारा पाचन भी स्वस्थ रहता है।

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.