शिंगल्स रोग (त्वचा संबंधित रोग)के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार | Daily Health Tip | Aayu App

skin related problem

कमजोर इम्यून सिस्टम वाले लोगों को शिंगल्स नामक त्वचा सम्बंधित बीमारी हो सकती है। इससे बचने के लिए आप सिरका, एलोवेरा, शहद आदि का इस्तेमाल कर सकते है।

Persons with weaker immune system may lead to skin related disease named shingles. To prevent from this you can use vinegar, aloevera, honey etc.

Health Tips for Aayu App

चिकनपॉक्स वाले बच्चे के संपर्क में आने वाले वयस्कों में दाद या त्वचा रोग शिंगल्स विकसित होने की संभावना कम होती है, लेकिन टीकाकरण से आप चर्म रोगों से खुद को संरक्षित रख सकते है। बचपन में चिकनपॉक्स होने के बाद जब वयस्क होने पर आप हर्पीस जोस्टर वायरस के संपर्क में आते है, तो रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, लेकिन पूर्ण सुरक्षा प्रदान नहीं करता। 

क्या है शिंगल्स बीमारी:

शिंगल्‍स एक त्वचा से संबंधित रोग है। यह रोग उन्हें होता है जिनकी इम्यूनिटी कमजोर होती है। कई बार यह तनाव, कुछ दवाओं के रिऐक्शन या फिर अन्य कारणों से हो सकता है। यह नर्व रुट्स में छिपे वैरिसेला-जोस्टर वायरस के फिर से सक्रिय होने के कारण होता है। वैरिसेला जोस्टर एक प्रकार का हर्पिज वायरस है, जिससे चिकनपॉक्स भी हो सकता है। कई बार चिकनपॉक्स के बाद भी यह वायरस शरीर में रहते है, जो किसी-किसी व्यक्ति में दोबारा सक्रिय हो जाते है। इन्हीं कारण से शिंगल्स रोग होता है। शिंगल्स होने पर शरीर की त्वचा पर फफोले जैसे उभर आते है। 

शिंगल्स की समस्या को दूर करने वाले घरेलू उपचार:

टी ट्री ऑयल: टी ट्री ऑयल के इस्तेमाल से आप शिंगल्‍स की समस्या को दूर कर सकते है। इसमें काफी मात्रा में एंटी-फंगल और एंटी-सेप्टिक गुण होते है, जो इस समस्‍या को जड़ से दूर करते है। इस तेल की कुछ बूंदों को संक्रमित त्‍वचा पर लगाएं।

एप्‍पल साइडर सिरका: एप्‍पल साइडर सिरका शिंगल्‍स की समस्या से छुटकारा पाने का रामबाण घरेलू इलाज है। इसमें एंटी-वायरल होता है, जो दर्द कम करता है। शिंगल्स होने पर पानी में एप्‍पल साइडर सिरका डालकर इसे प्रभावित त्‍वचा पर लगाएं। आप एप्‍पल साइडर सिरके का सेवन भी कर सकते है। दो चम्‍मच सिरका, एक चम्‍मच शहद और एक गिलास गुनगुना पानी लें। इन तीनों को मिलाकर इसे खाने से 20 मिनट पहले दिन में तीन बार लें।

विटामिन सी और शहद: विटामिन सी में इम्युनिटी सिस्टम को मजबूत बनाए रखने की क्षमता होती है। जब आपकी इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग रहेगी, तो आपको कोई भी बीमारी जल्दी से नहीं होगी।अपनी दिनचर्या में विटामिन सी युक्‍त आहार शामिल करें। शहद भी शिंगल्‍स को दूर करने में मददगार है। इसमें मौजूद एंटी-बैक्‍टीरियल और एंटीवायरल गुण शिंगल्‍स का इलाज करने में मदद करता है।

एलोवेरा और मुलेठी: आप शिंगल्‍स को दूर करने के लिए एलोवेरा का उपयोग कर सकते है। शिंगल्स त्‍वचा की कई समस्‍याओं का उपचार कर सकते है। एलोवेरा जैल दाद वायरस के कारण होने वाले त्‍वचा घावों के उपचार में प्रभावी तरीके से काम करता है। मुलेठी में मौजूद एंटीवायरल गुणों के कारण यह शिंगल्‍स के इलाज में प्रभावी है। आप मुलेठी का इस्तेमाल पाउडर या चाय के रूप में कर सकते है। पाउडर का पेस्ट बना लें और प्रभावित त्‍वचा पर लगाएं।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें  

Leave a Reply

Your email address will not be published.