SINUS | साइनस की समस्या से ना हो परेशान, पढ़ें लक्षण, उपचार व उपाय

साइनसाइटिस (Sinusitis) या साइनस (Sinus) पेरानेज़ल साइनस की एक आम सूजन है, वो गुहा जो नाक के मार्ग के लिए आवश्यक म्यूकस (एक चिकना द्रव्य) को प्रभावी ढंग से बनाने में मदद करता हैं।

साइनस (Sinus) गंभीर या पुराना हो सकता है, और यह वायरस, बैक्टीरिया, कवक, एलर्जी या यहां तक ​​कि एक स्व-प्रतिरक्षी प्रतिक्रिया के कारण हो सकता है।

हालांकि असहज और दर्दनाक, साइनसाइटिस (Sinusitis) अक्सर बिना चिकित्सकीय इलाज के दूर हो जाता है। हालांकि, यदि लक्षण 7 से 10 दिनों से अधिक समय तक रहें, बुखार या सिरदर्द हो तो आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

साइनसाइटिस से जुड़े कुछ तथ्य: ( Facts about Sinusitis)

  • प्रत्येक व्यक्ति में चार जोड़ी साइनस (Sinus) होते हैं जो चेहरे की हड्डियों के पीछे के खोखले स्थान हैं।
  • साइनस (Sinus) में सूजन एलर्जी, बैक्टीरिया या वायरस से हो सकती है।
  • यह आमतौर पर उपचार के बिना चला जाता है, लेकिन कभी-कभी चिकित्सिकीय सहायता की आवश्यकता होती है।
  • क्रोनिक साइनसिसिस (Chronic Sinusitis) 12 सप्ताह से अधिक रहता है।

साइनसाइटिस क्या है? (What is Sinusitis)

नाक के मार्ग में दर्द साइनसाइटिस (Sinusitis) का संकेत हो सकता है।

साइनस (Sinus) नाक में एक खोखला स्थान होता है। साइनस के कई प्रकार होते हैं, लेकिन साइनसाइटिस (Sinusitis) पेरानेज़ल साइनस को प्रभावित करता है।

पेरानेज़ल साइनस (Paranasal Sinus) में नाक के समान श्लेष्म झिल्ली होती है। वे एक चिकना स्राव बनाती हैं जिसे म्यूकस कहते है। यह नाक के मार्ग को नम रखता है और गंदगी के कणों और कीटाणुओं को रोकता है।

साइनसाइटिस (Sinusitis) तब होता है जब म्यूकस बनता है और साइनस में सूजन आ जाती हैं।

चिकित्सक अक्सर साइनसाइटिस (Sinusitis) को राइनोसाइनसाइटिस (Rhinosinusitis) भी कहते हैं, क्योंकि साइनसाइटिस की सूजन लगभग हमेशा राइनाइटिस के रूप में नाक की सूजन के साथ होती है।

साइनस के लक्षण (Symptoms of Sinus)

संक्रमण की अवधि और गंभीरता पर लक्षण निर्भर करते हैं।

यदि रोगी में निम्नलिखित लक्षणों में से दो या अधिक होते हैं और नाक से गाढ़ा, हरा या पीला नाक स्राव होता है, तो उन्हें तीव्र साइनसाइटिस हो सकता है।

  • चेहरे का दर्द और दबाव
  • बंद नाक
  • नाक बहना
  • सूंघने की क्षमता कम हो जाना 
  • खांसी

कई गंभीर मामलों में, निम्नलिखित लक्षण भी मौजूद हो सकते हैं:

  • बुखार
  • दुर्गंध, या दुर्गंधयुक्त सांस
  • थकान
  • दांत दर्द
  • सिरदर्द

यदि ये लक्षण 12 सप्ताह या उससे अधिक समय तक जारी रहते हैं, तो यह क्रोनिक साइनसाइटिस (Chronic Sinusitis) हो सकता है।

साइनस के कारण (Causes of Sinus)

साइनसाइटिस या साइनस (Sinus) विभिन्न कारकों से हो सकता है:

  • वायरस: वयस्कों में, साइनस (Sinus) के 90 प्रतिशत मामलों में वायरस होता है
  • बैक्टीरिया: वयस्कों में, 10 में 1 मामला बैक्टीरिया के कारण होता है
  • प्रदूषण: हवा में रसायन व प्रदूषण से हो सकता है 
  • कवक या फंगस: साइनस (Sinus) या तो हवा में मौजूद कवक से होते हैं, जैसे कि एलर्जी फंगल साइनसाइटिस (एएफएस), या वे सीधे कवक द्वारा संक्रमण से होते हैं, जैसे पुरानी अपच साइनसाइटिस।

जोखिम (Risk Factors)

निम्नलिखित व्यक्ति में साइनस (Sinus) विकसित होने का खतरा बढ़ सकता है:

  • पुराने रोग जैसे श्वसन पथ के संक्रमण व आम सर्दी से प्रभावित व्यक्ति 
  • नाक पॉलीप्स, या नाक मार्ग में छोटे विकास जो सूजन को जन्म दे सकते हैं
  • कमजोर प्रतिरक्षा वाले व्याक्तियों में 
  • धूल, पराग और जानवरों के बालों जैसे पदार्थों से एलर्जी वाले लोगों में 
  • नाक में संरचनात्मक समस्याएं, उदाहरण के लिए सेप्टम का मुड़ना 

सेप्टम हड्डी और उपास्थि है जो नाक को दो नथुने में विभाजित करता है। जब यह एक तरफ झुकता है, तो चोट या वृद्धि के माध्यम से, यह बार-बार संक्रमण और सूजन पैदा कर सकता है।

साइनस के प्रकार (Types of Sinus)

साइनस (Sinus) में हमेशा नाक में सूजन और बलगम का निर्माण होता है, लेकिन ये विभिन्न प्रकार के होते हैं, और वे अलग-अलग अवधि तक रह सकते हैं।

ये प्रकार हैं:

  • तीव्र साइनसाइटिस (Acute Sinusitis): यह 4 सप्ताह तक रहता है और सबसे आम प्रकार है।
  • सबएक्यूट साइनसाइटिस (Subacute Sinusitis): लक्षण 4 से 12 सप्ताह के बीच की अवधि तक रहता है।
  • क्रोनिक साइनसाइटिस (Chronic Sinusitis): लक्षण 12 सप्ताह के बाद भी बने रहते हैं, या लगातार लौटते हैं। इसे और अधिक गहन उपचार और संभवतः सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।

रिकवरी समय और उपचार साइनस (Sinus) के प्रकार पर निर्भर करता है।

निदान (Diagnosis)

मेडकॉर्ड्स (MedCords) डॉक्टर के अनुसार साइनस (Sinus) के निदान के लिए शारीरिक जांच के साथ मरीज़ के लक्षणों पर ध्यान दिया जाता है। आमतौर पर निदान करने के लिए यह पर्याप्त है।

यदि लक्षण बने रहते हैं, तो डॉक्टर साइनसाइटिस (Sinusitis) वाले व्यक्ति को कान, नाक और गले के विशेषज्ञ (ईएनटी) से अधिक गहराई से जांच के लिए रेफर कर सकता है।

वे नाक में एक एंडोस्कोप डालते हैं जो एक छोटी, पतली, लाइट और कैमरे से जुड़ी ट्यूब होती है। यह प्रभावित क्षेत्र काअधिक विस्तृत चित्र प्रदान करता है।

लगातार या गंभीर साइनसिसिस के मामलों में, सीटी स्कैन की आवश्यकता हो सकती है।

Read Next: COMMON COLD | साइनस का ख़तरा शुरू होता है साधारण जुखाम से, कैसे बचें?

साइनस का इलाज (Treatment of Sinus)

एंटीबायोटिक्स (Antibiotics)

जीवाणु साइनस संक्रमण के लिए एंटीबायोटिक्स एक अचूक उपचार हैं। एंटीबायोटिक दवाओं को आमतौर पर 3 से 28 दिनों तक लिया जाता है, जो एंटीबायोटिक के प्रकार पर निर्भर करता है। क्योंकि साइनस (Sinus) हड्डियों में गहरे बैठा होता है, और रक्त की आपूर्ति को सीमित कर देता है। लंबे समय तक चलने वाले या गंभीर मामलों वाले लोगों के लिए लंबे समय तक उपचार किया जाता है।

एंटीबायोटिक दवाओं के अति प्रयोग और दुरुपयोग से एंटीबायोटिक के प्रति शरीर की प्रतिरोधकता बढ़ जाती है। इसलिए, साइनस (Sinus) के लक्षणों वाले रोगियों को केवल एंटीबायोटिक तब लेनी चाहिए, यदि लक्षण 7 या उससे अधिक दिन तक बने रहें।

नाक खोलने वाले स्प्रे (Nasal Decongestant Sprays

नेज़ल स्प्रे तीन से चार दिनों के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। ये दवाएं सूजन को कम करती हैं, जिससे साइनस से जल निकासी की सुविधा होती है। 

एंटिहिस्टामाइन्स (Antihistamines)

एंटिहिस्टामाइन्स एलर्जी के कारण होने वाली सूजन को रोकता है ताकि वे एलर्जी के लक्षणों से लड़ने में मदद कर सकें जिससे नाक और साइनस मार्ग में सूजन को कम किया जा सके।

नेज़ल कॉर्टिकोस्टेरॉइड (Topical nasal corticosteroids)

ये नेज़ल स्प्रे, साइनस संक्रमण से जुड़ी सबसे बड़ी समस्या यानि सूजन को रोकते हैं। 

नेज़ल सेलाइन वाश (Nasal Saline Wash)

यह नाक के मार्ग से निकलने वाले गाढ़े स्राव को साफ करने में मदद करता है।

सर्जरी (Surgery)

यदि दवा उपचार विफल हो गए हैं, तो अंतिम उपाय के रूप में सर्जरी की जाती है। 

चिकित्सक हड्डी में दोषों को ठीक करते है, नाक के मार्ग को ठीक करते है, नाक के कीटाणुओं को हटाते है, और बंद छिद्रों को खोलते है। साइनस सर्जरी के बाद मरीज़ अक्सर उसी दिन घर जा सकते हैं।


रोकथाम Prevention of Sinus)

निम्नलिखित उपाय साइनसाइटिस (Sinusitis) को रोकने में मदद कर सकता है:

  • हाथ साफ़ रखें
  • धूम्रपान से बचें
  • समय पर टीकाकरण करवाएं 
  • जुकाम और अन्य श्वसन संक्रमण वाले लोगों से दूर रहें।
  • घर पर हवा को नम करने के लिए एक ह्यूमिडिफायर का उपयोग करें, और इसे साफ रखें। 
  • धूल को इकट्ठा होने से रोकने के लिए एयर कंडीशनिंग इकाइयों को ठीक रखें।
  • एलर्जी से बचें

घरेलू उपचार (Home Remedies)

साइनस (Sinus) के कम गंभीर या बार-बार होने वाले मामलों का इलाज घर पर डॉक्टर की सलाह के बिना भी किया जा सकता है।

ये उपाय दर्द को कम करने के साथ  साइनस (Sinus) को अनब्लॉक कर सकते हैं। साइनसाइटिस (Sinusitis) के घरेलू उपचार में शामिल हैं:

  • नाक की सफाई: साइनस सफाई, साइनस कुल्ला, या साइनस लवेज के रूप में भी जाना जाता है, इस घरेलू प्रक्रिया में नमक के पानी या नमकीन घोल के साथ नाक मार्ग को साफ किया जाता है।
  • वार्म कॉम्प्रेस: ​​चेहरे के प्रभावित क्षेत्रों पर धीरे-धीरे एक गर्म सेक लगाने से सूजन और परेशानी से कुछ राहत मिल सकती है।
  • दर्द निवारक: ये दर्द और बुखार के लक्षणों को कम कर सकते हैं।
  • स्टीम लेना: गर्म, नम हवा को सांस लेने से कंजेशन में राहत मिल सकती है। घर पर, गर्म पानी की एक कटोरी से भाप, संभवतः आवश्यक मेन्थॉल या नीलगिरी के तेल की कुछ बूंदों के साथ, साइनस को हटाने में मदद कर सकता है। 
  • डीकंजेसटेन्ट गोलियां और स्प्रे: ये सूजन को कम कर सकते हैं और साइनस को खत्म करने में मदद करते हैं। मरीजों को 3 दिनों से अधिक समय तक स्प्रे का उपयोग नहीं करना चाहिए। 
  • हाइड्रेशन और आराम: नियमित रूप से तरल पदार्थ पीना और अतिपरिश्रम से बचना लक्षणों को कम कर सकता है।

सही इलाज व उचित उपचार से साइनस को नियंत्रण में रखा जा सकता है। मरीज़ को कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए जो इस लेख में बताई गयी है। साइनस (Sinus) को रोकने में ये काफ़ी प्रभावशाली साबित होती है।

यदि आपमें या घर के किसी सदस्य में साइनस (Sinus) के लक्षण दिख रहे हैं, तो आज ही हमारे टोल फ्री नंबर +91-781-681-1111 पर कॉल करें और नज़दीकी सेहत साथी के पास जा कर एक्सपर्ट डॉक्टर से सलाह लें। याद रहे की लक्षण गंभीर होने पर घरेलु इलाजों पर निर्भर न रहें और जल्द से जल्द डॉक्टर से सलाह लें।

डॉ. कुलदीप सिंह राणा 
वरिष्ठ विशेषज्ञ
(कान, नाक, गला)



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *