fbpx

पथरी का किडनी पर प्रभाव और इससे बचाव | Daily Health Tip | 5 March 2020 | AAYU App

पथरी का किडनी पर प्रभाव और इससे बचाव  | Daily Health Tip | 5 March 2020 | AAYU App

पेठा गर्मियों में शरीर 👩को ठंडा रखता है। इसमें विटामिन B1 और B3 भी पाया जाता है। यह ब्लड प्रेशर को नॉर्मल करने में और किडनी स्टोन को शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है

Ash Gourd keeps your body 👩 cool. Vitamin B1 and B3 are found in ash guard. It cures Kidney Stone and Blood Pressure.”

Health Tips for Aayu App

पथरी का रोग बहुत से मरीजों में दिखाए देनेवाला एक महत्वपूर्ण किडनी का रोग है। पथरी के कारण असहनीय पीड़ा, पेशाब में संक्रमण और किडनी को नुकसान हो सकता है। इसलिए पथरी के बारे में और उसे रोकने के उपायों को जानना जरुरी है।

क्या है पथरी:

पेशाब में कैल्शियम ऑक्जलेट या अन्य क्षारकणों (Crystals) का एक दूसरे से मिल जाने से कुछ समय बाद धीरे-धीरे मूत्रमार्ग में कठोर पदार्थ बनने लगता है, जिसे पथरी के नाम से जाना जाता है।

पथरी होने के मुख्य कारण:

  • कम पानी पीने की आदत
  • बार-बार मूत्रमार्ग में संक्रमण होना
  • मूत्रमार्ग में अवरोध होना
  • विटामिन ‘सी’ या कैल्शियम वाली दवाओं का अधिक सेवन करना
  • हाइपर पैराथायराइडिज्म की तकलीफ होना

पथरी के लक्षण:

  • पीठ और पेट में लगातार दर्द
  • उल्टी आना
  • पेशाब में जलन होना
  • पेशाब में खून का आना
  • पेशाब में बार-बार संक्रमण होना
  • अचानक पेशाब का बंद होना

पथरी का किडनी पर असर:

  • कई मरीजों में पथरी गोल अण्डाकर और चिकनी होती है। प्रायः ऐसी पथरी के कोई लक्षण नहीं दिखाई देते है। ऐसी पथरी मूत्रमार्ग में अवरोध कर सकती है। जिसके कारण किडनी में बनता पेशाब सरलता से मूत्रमार्ग में नहीं जा पाता।
  • यदि इस पथरी का समय पर उचित उपचार नहीं हो पाया तो लम्बे समय तक फूली हुई किडनी धीरे-धीरे कमजोर होने लगती है और बाद में संपूर्ण रूप से काम करना बंद कर देती है। किडनी खराब होने के बाद पथरी निकाल भी दी जाए, तब भी किडनी के काम करने की संभावना बहुत कम रहती है।
  • बिना दर्द की पथरी के कारण किडनी खराब होने का भय अधिक रहता है।
stones
Health Tips- Aayu App

पथरी का रोकथाम:

अधिक मात्रा में पानी पीना:

  • 3 लीटर अथवा 12 से 14 गिलास से अधिक मात्रा में पानी और तरल पदार्थ प्रतिदिन लेना चाहिए।
  • पथरी बनने से रोकने के लिए पीने के पानी की गुणवत्ता से ज्यादा दैनिक पानी की कुल मात्रा ज्यादा महत्वपूर्ण है।
  • प्रतिदिन दो लिटर से ज्यादा पेशाब हो इतना पानी जरूर पीना चाहिए।
  • पेशाब पुरे दिन पानी जैसा निकले तो इसका मतलब यह है कि पानी पर्याप्त मात्रा में लिया गया है। पिला गाढ़ा पेशाब होना यह बताता है कि पानी कम मात्रा में लिया गया है।
  • पानी ज्यादा पीना पथरी के उपचार के लिए और उसे फिर से बनने से रोकने के लिए बहुत जरूरी होता है।
  • पानी के अलावा अन्य पेय पदार्थ जैसे कि नारियल का पानी, जौ का पानी, शरबत, पतला मट्ठा, बिना नमकवाला सोडा, नींबू इत्यादि का ज्यादा सेवन करना चाहिए।

आहार नियंत्रण:

  • खाने में नमक कम मात्रा में लेना चाहिए और नमकीन, पापड़, अचार जैसे ज्यादा नमकवाले खाघ पदार्थ नहीं खाने चाहिए।
  • पर्याप्त मात्रा में पानी लिया जा रहा है इसका सबूत पुरे दिन पानी जैसा साफ पेशाब होना है।
  • नींबू पानी, नारियल पानी, मौसंबी का रस, अन्नानास का रस, गाजर, करैला, बिना बीज के टमाटर, केला, जौ, जई, बादाम इत्यादि का सेवन पथरी बनने से रोकने में मदद करते है।
  • खाने में पर्याप्त मात्रा में लिया गया कैल्शियम खाघ पदार्थ के ऑक्ज्लेट के साथ जुड़ जाता है। इससे पेट में आँतों द्वारा ऑक्ज्लेट का शोषण कम हो जाता है और इससे पथरी बनने से रोकने में मदद मिलती है।

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें

CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (3)
  • comment-avatar

    किडनी की जानकारी के लिए बहुत धन्यवाद

  • comment-avatar
    jasveer garg 2 years

    Mareej ko vdrl ciflish positive hai uska. Treatment batao

  • comment-avatar
    राम दयाल मौर्य 2 years

    मेरी वाइफ को किडनी में 8 एमएम की पथरी है कृपया इसका इलाज कैसे किया जाए सलाह हमें दें l

  • Disqus ( )