सेरोटोनिन क्या है? सेरोटोनिन की कमी से होने वाले रोग और सेरोटोनिन हॉर्मोन बढ़ाने के उपाय

Serotonin

हम आपको इस आर्टिकल में सेरोटोनिन क्या है? सेरोटोनिन की कमी से होने वाले रोग और इस हॉर्मोन को बढ़ाने के उपायों के बारे में बताएंगे।

सेरोटोनिन क्या है?

सेरोटोनिन एक न्यूरोट्रांसमीटर है जिसे खुशी के हार्मोन के रूप में जाना जाता है। यह रसायन आंतों के स्तर द्वारा निर्मित किया जाता है और भावनात्मक स्थिति को नियंत्रित करता है। एक सामान्य सेरोटोनिन स्तर एक अच्छे मूड को सुनिश्चित करता है, ऊर्जा और अवसाद के नुकसान से भी बचाता है। यदि शरीर में हार्मोन की मात्रा अनुमेय स्तर (Permissible Level) से नीचे आती है, तो ना केवल मूड बिगड़ता है, बल्कि शारीरिक गतिविधि भी होती है, जो जीवन और खेल पर नकारात्मक प्रभाव डालती है।

सेरोटोनिन की दर क्या होनी चाहिए?

मानव शरीर में सामान्य सेरोटोनिन स्तर 0.22-2.05 μmol / L की सीमा में अलग होता है।

सेरोटोनिन की कमी से होने वाले रोग:

  • यौन रोग।
  • सेक्स ड्राइव और गतिविधि में कमी।
  • पाचन तंत्र के काम में समस्याएं उत्पन्न होना।
  • रक्तचाप में अचानक वृद्धि।

इसके अतिरिक्त आपकी मानसिक और भावनात्मक स्थिति भी बिगड़ जाती है। एक न्यूरोट्रांसमीटर में कमी से अवसाद और वजन में बदलाव होता है।

सेरोटोनिन बढ़ाने के तरीके:

ध्यान करें: वेलनेस प्रैक्टिस में मनोविश्लेषणात्मक अभ्यास शामिल है जो आपको उत्साह और आनंद की स्थिति में प्रवेश करने में मदद करते है। ऐसे व्यक्ति शांत और आराम महसूस करता है, जिससे तंत्रिका (Nerves) तनाव कम होता है और नींद में सुधार आता है। रात में आराम के दौरान, अधिक मेलाटोनिन का उत्पादन होता है, जो सीधे सेरोटोनिन से संबंध रखता है। खुशी के हार्मोन का स्तर भी बढ़ जाता है।

खेलें: व्यायाम मूड में सुधार करता है। यह इस तथ्य के कारण है कि नियमित व्यायाम ट्रिप्टोफैन के उत्पादन को बढ़ावा देता है, जो रक्त में खुशी के हार्मोन की सामग्री को बढ़ाता है। यह पदार्थ शरीर के फैट के जलने के दौरान सबसे अधिक सक्रिय रूप से जारी करता है। उन लोगों के लिए जो शरीर में सेरोटोनिन के स्तर को बढ़ाने के तरीके नहीं जानते, वह नियमित रूप से व्यायाम शुरू करें।

चिकित्सा: सर्दियों में, सेरोटोनिन सामग्री घट जाती है, जो शरीर के लिए सूर्य के प्रकाश की कमी से जुड़ी होती है। यह कारक कुछ लोगों में मौसमी अवसाद की घटना को उकसाता है। समस्या को हल करने के लिए, दिन में एक बार एक निश्चित अवधि के लिए एक दिन के दीपक को चालू करने की सिफारिश की जाती है। गर्मियों में सेरोटोनिन बढ़ाने के लिए, अधिक बार बाहर चलना पर्याप्त है।

सामाजिक गतिविधि: अन्य लोगों के साथ नियमित रूप से संचार करने से ट्रिप्टोफैन का उत्पादन बढ़ जाता है, जिससे शरीर में आनंद का हार्मोन बढ़ता है।

थीनिन लें: अपने सेरोटोनिन के स्तर को बढ़ाने के बारे में जाने बिना, विशेष दवाएँ खरीदने की जरूरत नहीं है। यह चाय पीने के लिए पर्याप्त है, जिसमें थीनिन होता है। यह अमीनो एसिड शरीर में सेरोटोनिन और डोपामाइन की मात्रा बढ़ाता है। थीनाइन इंजेक्शन का इस्तेमाल नहीं किया जाता क्योंकि यह खुशी के हॉर्मोन में कमी लाते है।

सेरोटोनिन की कमी कैसे होती है?

बहुत लोग मस्तिष्क में एक छोटी सी पीनियल ग्रंथि (Pineal Glands) के अस्तित्व के बारे में नहीं जानते। यह छोटी ग्रंथि (Small Glands) व्यक्ति की नींद, मूड में बदलाव, यौन और सामान्य गतिविधि की लय को प्रभावित करती है। खुशी के हार्मोन का उत्पादन करने के लिए, इस अंग को अमिनो एसिड ट्रिप्टोफैन की आवश्यकता होती है, जो सेरोटोनिन के संश्लेषण (Synthesis) के लिए एक सब्सट्रेट है। इसकी पर्याप्त मात्रा के बिना, शरीर में कई तरह के अलग-अलग अभिव्यक्तियाँ उत्पन्न करती है।

सेरोटोनिन की कमी के लक्षण:

  • खराब मूड की प्रबलता के साथ भावनात्मक परेशानियाँ
  • स्पष्ट कारण के लिए स्थायी अवसाद
  • एकाग्रता और याददाश्त का बिगड़ना
  • अनुपस्थित मन, कठोरता
  • निराशा की भावनाएं आना
  • नींद की लय बिगड़ना
  • ज्यादा मिठाई खाने की इच्छा होना

सेरोटोनिन की कमी से होने वाले रोग:

  • माइग्रेन: अपर्याप्त ट्रिप्टोफैन का सेवन अक्सर बीमारी की जड़ में होता है।
  • पाचन धीमा करें: सेरोटोनिन की कमी से कैल्शियम के उत्पादन में कमी आती है। ऐसी स्थितियों में पाचन तंत्र की मांसपेशियाँ कमजोर हो जाती है, जिससे क्रमाकुंचन (Peristalsis) की लहर कम हो जाती है। इसके अलावा, सेरोटोनिन की कमी आंत (Intestine) में स्राव प्रक्रियाओं में गिरावट का कारण बनती है।
  • चिड़चिड़ापन: आंत्र सिंड्रोम आधुनिक मनुष्यों में सबसे आम समस्याओं में से एक है। यह अक्सर दर्दनाक क्रमाकुंचन और पुरानी आंतों के विकारों के साथ होता है।
  • प्रतिरक्षा प्रणाली की खराबी: यह नियमित रूप से एआरवीआई, क्रोनिक थकान सिंड्रोम, कुछ भी करने की अनिच्छा, और कम मांसपेशियों की टोन से प्रकट होता है।
  • महिलाओं में पीएमएस की परेशानी: महिलाओं में पीएमएस के अप्रिय अभिव्यक्तियों और लक्षणों को मजबूत करना चाहिए।
  • एकाग्रता और स्मृति समस्याएँ: एकाग्रता और स्मृति समस्याएँ होती है।

सेरोटोनिन हॉर्मोन बढ़ाने के उपाय:

  • अच्छी नींद: दिन के अंधेरे घंटों के दौरान सोना बहुत जरूरी है। इस प्रकार, दवाओं के उपयोग के बिना सेरोटोनिन और मेलाटोनिन के संश्लेषण (Synthesis) को सामान्य किया जा सकता है। रात में फिल्में देखना या सुबह तक क्लब में नाचना आपके खुशी के हार्मोन के स्तर को कम कर देता है। रोग के सभी लक्षण लक्षण धीरे-धीरे विकसित होते है।
  • योग, ध्यान, व्यायाम और सेक्स: ऐसी कोई भी गतिविधि जो किसी व्यक्ति को अच्छी लगती है (पसंदीदा शौक, संगीत वाद्ययंत्र बजाना, संगीत सुनना, दिलचस्प फिल्में देखना) सेरोटोनिन का स्तर बढ़ा सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित इस लेख में सामान्य जानकारी दी गई है। अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐपडाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.