केसर के फायदे और नुकसान | Saffron Benefits, Side Effects of Saffron

saffron benefits

केसर का पौधा छोटे आकार का होता है। केसर का उपयोग विभिन्न औषधियों, और खाद्य पदार्थों में किया जाता है। केसर का पौधा (saffron plant) कई सालों तक जीवित रहता है। इसकी जड़ के नीचे प्याज के सामने गांठदार शल्ककन्द होता है। इसके पत्ते लंबे, एवं पतले होते है। आइये इस आर्टिकल में आपको बताते है केसर के फायदे (Saffron Benefits) और केसर के नुकसान (Side Effects of Saffron).

केसर के फायदे: Saffron Benefits in Hindi:

रुसी में केसर का इस्तेमाल:

कई लोग रुसी या डेंड्रफ से परेशान रहते है, और रूसी से छुटकारा पाने के लिए अलग-अलग तरह के उपाय करते है। इसके बाद भी कई बार रूसी की परेशानी खत्म नहीं होती। केसर का प्रयोग लाभदायक होता है। डैंड्रफ को हटाने के लिए मरिच, और केसर को समान मात्रा में मिलाकर, तेल में पका लें। इस तेल से सिर पर मालिश करें। इससे रूसी की समस्या से निजात मिल सकती है।

शरीर में ठंड लगने पर केसर का उपयोग:

केसर (saffron), कस्तूरी, इलायची आदि को अलग-अलग, या एक साथ बारीक पीस लें। इसका लेप करने से ठंड कम होती है। 

सर्दी में है फायदेमंद: छोटे बच्चे अलग-अलग कारणों से बीमार पड़ते हैं। इसी तरह छोटे बच्चों को सर्दी की शिकायत होती है। केसर को पीसकर उसका गर्म दूध बनाकर छाती पर इसका लेप लगाएं। इससे सर्दी ठीक होती है।

जल्दी घाव भरने में फायदेमंद: घाव को भरने में केसर बहुत मदद करता है। अगर आपको घाव हो गया है, और जल्दी भर नहीं पा रहा है, तो केसर के पत्तों को पीसकर घाव पर लगाएं। इससे घाव जल्दी भर जाता है।

आंतों के रोग में फायदेमंद: आंत जब स्वस्थ रहता है, तब पाचन तंत्र सही तरह से काम करता है इसलिए आंतों के रोग में 10-15 मिली केसर का काढ़ा बनाकर उसका सेवन करें। इससे आंतों से संबंधित परेशानी से राहत मिलती है।

महावारी में केसर है फायदेमंद: महिलाओं को मासिक धर्म से संबंधित विकार होते रहते है, लेकिन केसर का सेवन करने से मासिक धर्म संबंधी परेशानियों में आराम मिलता है। इसके लिए केसर तथा अकरकरा को पीस लें। इसकी 125 मिग्रा की गोली बनाएं। इसे खाने से मासिक धर्म विकारों में लाभ मिलता है।

मूत्र रोग में केसर है फायदेमंद:

  • पेशाब के रुक-रुक कर आने, और पेशाब संबंधित अन्य रोग में केसर के प्रयोग से लाभ होता है। इसके लिए 10-15 मिली केसर के काढ़े में थोड़ी मात्रा में नमक मिला लें। इसे पानी के साथ सेवन करने से पेशाब संबंधित विकार में लाभ मिलता है।
  • मूत्र से संबंधित बीमारियों को ठीक करने के लिए केसर को रातभर पानी में भिगो दें। सुबह उसका चूर्ण बना लें, और इस चूर्ण को शहद के साथ पानी में मिलाकर पीने से मूत्र विकार में फायदा होता है।

रक्तस्राव में फायदेमंद:

कुछ लोगों को रक्तस्राव (नाक-कान आदि से खूून बहने की परेशानी) जैसी परेशानी हो जाती है। इसी तरह मुँह, गुदा, योनि आदि इंद्रियों से भी रक्तस्राव होने लगता है। ऐसे में केसर का उपयोग फायदेमंद होता है। केसर को बकरी के दूध (kesar milk) में मिलाकर पीने से रक्तस्राव में लाभ होता है।

जोड़ों के दर्द में फायदेमंद:

जोड़ों के दर्द के कारण लोगों का जीवन दुखदायक हो सकता है। लोगों का चलना मुश्किल हो जाता है। ऐसे में केसर से फायदा मिलता है। केसर के पत्तों को पीसकर जोड़ों पर लगाएं। इससे जोड़ों का दर्द ठीक होता है।

सिरदर्द में फायदेमंद:

जो लोग सिरदर्द से परेशान रहते है, वह घी में केसर से चूर्ण और चीनी को डालकर पकाएं। इस घी को 1-2 बूंद नाक में डालें। इससे सिरदर्द में आराम मिलता है। इससे खून से संबंधित विकार, और आंखों की बीमारी में भी लाभ (saffron benefits) मिलता है।

केसर के नुकसान: Side Effects of Saffron in Hindi:

केसर बड़े खुराकों में असुरक्षित है। यह विषाक्तता पैदा कर सकती है। यदि आप निम्न लक्षणों में से कोई भी ध्यान देते है, तो आपको तत्काल चिकित्सक परामर्श लें सकते है।

  • मल में खून आना
  • लगातार उल्टी आना
  • चक्कर आना
  • मूत्र में रक्त आना
  • पीलिया होना
  • गर्भपात की समस्या होना
  • एलर्जी की परेशानी होना

अस्वीकरण: सलाह सहित इस लेख में सामान्य जानकारी दी गई है। अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐपडाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.