रोजेशिया (चेहरे का लाल होना) क्या है, लक्षण और उपचार | Daily Health Tip | Aayu App

rojeshiya

अगर आपके आँखों में जलन या आँखों में दर्द की वजह से चेहरे का रंग लाल पड़ रहा है तो आप रोजेशिया नामक बीमारी से ग्रसित हो सकते हैं। यह ज्यादा तनाव लेने के कारण हो सकता है। इसलिए जितना हो सके तनाव से बचें।

If you are suffering from eye irritation or may have pain in your eyes because of your facial redness, you may suffer from rosacea disease. Try to be stress-free.

Health Tips for Aayu App

रोजेशिया (चेहरे का लाल होना) एक सामान्य त्वचा का रोग है जो 30 साल से अधिक उम्र के लोगों को प्रभावित करता है। यह आपके नाक, गाल, ठुड्डी और माथे पर लाली करता है। कुछ लोगों को उनके चेहरे पर हुए लाल भाग पर उभार और मुंहांसे भी होते हैं। 

रोजेशिया, आपकी आँखों में जलन और आँखों में दर्द भी पैदा कर सकता है। यह लक्षण कुछ हफ्तों से महीनों तक रह सकते हैं और कुछ समय बाद कम हो सकते हैं। रोजेशिया को मुंहासे, एलर्जी प्रतिक्रिया या अन्य त्वचा की समस्याएँ समझा जा सकता है। रोजेशिया किसी को भी प्रभावित कर सकता है लेकिन यह आमतौर पर मध्यम आयु वर्ग के लोगों को ज्यादा प्रभावित करता है।

रोजेशिया के लक्षण:

रोजेशिया की शुरुआत में चेहरे की त्वचा लाल हो जाती है, फिर लाल लाइनें दिखने लगती हैं और सूजन आ जाती है। छोटी-छोटी फुंसिया होने लगती हैं, जिनमें मवाद भर जाता है और अंत में गाल तथा नाक को रक्त की आपूर्ति करने वाली रक्त वाहिकाओं (Blood Vessels) तक फैल जाता है। इसकी मौजूदगी सांवली त्वचा वालों में ज्यादा घातक होती है, क्योंकि उनमें लक्षण कम दिखाई देते हैं या देरी से दिखाई देते हैं।

चेहरे की लाली: रोजेशिया से आमतौर पर आपके चेहरे के बीच के भाग में लाली हो जाती है। आपकी नाक और गालों की छोटी रक्त वाहिकाएं अक्सर फूलकर दिखने लगती हैं।

सूजे हुए लाल उभार: रोजेशिया से ग्रस्त बहुत से लोगों को सूजे हुए लाल उभार हो जाते हैं जो मुंहासों जैसे लगते हैं। इन उभार में कभी-कभी पस होती है। आपको आपकी त्वचा गर्म और नाजुक महसूस हो सकती है।

नेत्र समस्याएं: रोजेशिया से ग्रस्त कुल लोगों में से आधे लोग आँखों का सूखापन, जलन, सूजन और लाली का अनुभव करते हैं। कुछ लोगों को आँख के लक्षण, त्वचा के लक्षणों से पहले आते हैं।

नाक का बढ़ना: कुछ मामलों में, रोजेशिया से नाक की त्वचा मोटी हो सकती है, जिससे नाक बढ़ा हुआ दिखाई देता है। यह महिलाओं की तुलना में पुरुषों को अधिक होता है।

चेहरा लाल होने (रोजेशिया) के कारण:

रोजेशिया का कारण अभी तक जान नहीं पाए है, लेकिन यह आनुवंशिक और पर्यावरणीय कारकों के कॉम्बिनेशन के कारण हो सकता है। यह स्वच्छता की कमी के कारण नहीं होता।

आपकी त्वचा की सतह पर रक्त के प्रवाह को बढ़ाकर कई कारक रोजेशिया को बढ़ा या पैदा कर सकते हैं।

  1. गर्म पेय और मसालेदार भोजन।
  2. शराब।
  3. तापमान में बदलाव।
  4. धूप या हवा।
  5. भावनाएँ।
  6. व्यायाम। 
  7. कॉस्मेटिक सामग्री।
  8. कुछ ब्लड प्रेशर की दवाओं सहित रक्त वाहिकाओं (Blood Vessels) को फैलाने वाली दवाएं।

चेहरा लाल होने (रोजेशिया) से बचाव:

हालांकि, रोजेशिया का इलाज संभव नहीं है लेकिन इसके होने की संभावना आप कम कर सकते है । इसके लिए रोजेशिया के मुख्य जोखिम वाले कामों से बचा जा सकता है।

सूरज की रोशनी: सूरज की रोशनी रोजेशिया का आम कारक है जो इसके लक्षणों को बढ़ाता है। रोजेशिया से पीड़ित लोगों को हमेशा बाहर जाते समय सनस्क्रीम का उपयोग करना चाहिए।

तनाव: तनाव के कारण भी रोजेशिया हो सकता है और रोजेशिया से पीड़ित लोगों को सलाह दी जाती है कि वह योग और व्यायाम करें। लेकिन व्यायाम एक उचित स्तर में ही करें क्योंकि ज़्यादा व्यायाम कुछ व्यक्तियों में लक्षणों को बढ़ाता है।

खाद्य और पेय पदार्थ: शराब पीना और मसालेदार भोजन करना रोजेशिया का कारण बन सकता है। रोजेशिया से पीड़ित लोगों को इनका सेवन नहीं करना चाहिए।

ठंडा मौसम: ठंडा मौसम भी रोजेशिया का कारण बन सकता है। इससे ग्रस्त लोगों को सर्दी में बाहर जाते समय अपने चेहरे को ढककर रखना चाहिए।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें  

Leave a Reply

Your email address will not be published.