कोलेस्ट्रॉल की वजह क्या है? | Reason of Cholestrol in Hindi

कोलेस्ट्रॉल की वजह क्या है

कोलेस्ट्रॉल बढ़ने की समस्या हृदय रोग सहित कई गंभीर बीमारियों को जन्म देती है, लेकिन खानपान की स्वस्थ आदतें अपनाकर इसे आसानी से नियंत्रित किया जा सकता है।

आइये जानते है कोलेस्ट्रॉल की वजह क्या है?

कोलेस्ट्रॉल की वजह क्या है? Reasons of Cholestrol in Hindi:

कोलेस्ट्रॉल एक तरह का वसायुक्त तत्व है, जिसका उत्पादन लिवर करता है। यह कोशिकाओं की दीवारों, नर्वस सिस्टम के सुरक्षा कवच और हॉर्मोस के निर्माण में अहम भूमिका निभाता है। यह प्रोटीन के साथ मिलकर लिपोप्रोटीन बनाता है, जो फैट को खून में घुलने से रोकता है। हमारे शरीर में दो तरह के कोलेस्ट्रॉल होते हैं: एचडीएल (हाई डेंसिटी लिपोप्रोटीन, अच्छा कोलेस्ट्रॉल) और एलडीएल। एचडीएल यानि अच्छा कोलेस्ट्रॉल काफी हल्का होता है और यह ब्लड वेसल्स (Blood Vessels) में जमे फैट को अपने साथ बहाकर ले जाता है।

बुरा कोलेस्ट्रॉल यानि एलडीएल ज्यादा चिपचिपा और गाढा होता है। अगर इसकी मात्रा अधिक हो तो यह ब्लड वेसल्स और आर्टरी में दीवारों पर जम जाता है, जिससे खून के बहाव में रुकावट आती है। इसके बढने से हार्ट अटैक, हाई ब्लडप्रेशर और ओबेसिटी जैसी समस्याएं हो सकती हैं। इसकी जाँच के लिए लिपिड प्रोफाइल नामक ब्लड टेस्ट करवाया जाता है। किसी स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में कुल कोलेस्ट्रॉल की मात्रा 200 मिग्रा./डीएल से कम, एचडीएल 60 मिग्रा./डीएल से अधिक और एलडीएल 100 मिग्रा./डीएल से कम होना चाहिए।

कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के कारण: Reasons of increased Cholestrol in Hindi:

असंतुलित आहार और खराब दिनचर्या ही इसके बढ़ने का मुख्य कारण है लेकिन इसके साथ और भी कई कारण हैं। आप सभी को कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के लक्षण (Cholestrol Symptoms in Hindi) पता होने चाहिए जिससे अगर आपको उनमें से कोई भी लक्षण दिखें तो आप घरेलू उपाय या ऐलोपैथी पद्धति से इलाज करवाएं।

असंतुलित आहार: शरीर में संतृप्त वसा (Saturated Fat) का पूरा इस्तेमाल शरीर में होने पर भी हाई कोलेस्ट्रॉल पैदा हो सकता है। संतृप्त वसा (Saturated Fat) भोजन ऐसे भोजन में पाया जाता है जिनमें कोलेस्ट्रॉल और फैट ज्यादा होता है। इसको कम करने के लिए आप लाल फैटी मांस, मक्खन, पनीर, केक, घी आदि अधिक वसा वाले खाद्य पदार्थों का सेवन कम कर दें।

वंशानुगत कारण (Genetic Reasons): यदि आपके परिवार में पहले से ही किसी को इसकी समस्या रही है तो यह आपके लिए परेशानी का कारण है। यह आनुवांशिक समय से पहले ब्लॉकेज और स्ट्रोक का कारण बनता है।

शराब का सेवन करना: ज्यादा शराब का सेवन लीवर और हार्ट की मांसपेशियों को नुकसान पहुँचा सकता है जो कि हाई ब्लड प्रेशर का कारण बन सकता है और शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को बढ़ाता है।

तनाव होना: जब लोग तनाव में होते हैं तो अपने आपको सही रखने के लिए स्मोकिंग, शराब का सेवन और फैटी खाने का सेवन करते है इसलिए लंबे समय तक तनाव ब्लड कोलेस्ट्रॉल के बढ़ने का कारण बनता है। (यह भी पढ़ें: तनाव को दूर कैसे करें)

कुछ बिमारियाँ जैसे शुगर और हाइपोथायराइडिज्म आदि भी शरीर में कोलेस्ट्रॉल के लेवल को बढ़ाती है। इस कारण, नियमित रूप से मेडिकल जाँच करवाते रहें।

कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के लक्षण: Causes of increase Cholestrol in Hindi:

सिरदर्द होना: अगर आप सिरदर्द से परेशान रहती हैं या आपको कभी-कभी हल्का सिरदर्द होता है, तो सावधान हो जाएं। दरअसल कोलेस्ट्रॉल के कारण सिर की नसों में सही तरह से ब्लड सप्लाई नहीं हो पाता, जिससे यह समस्या हो सकती है। इसी कारण सिरदर्द और चक्कर आने या संवेदना खोने जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

सांस फूल जाना: अगर थोड़े से काम या मेहनत के बाद आपकी सांस फूलने लगती है। वैसे तो सांस फूलने या थकावट होने के कई कारण हो सकते हैं, मगर अगर ऐसा हो रहा है तो यह कोलेस्टॉल बढ़ने के कारण भी हो सकता है जिस वजह से आप ज्यादा काम किए बिना थकान महसूस करते है। आमतौर पर मोटे लोगों में यह समस्या ज्यादा देखने को मिलती है। (यह भी पढ़ें: सांस फूलने पर क्या करें?)

मोटापा होना: अगर आपको ऐसा लगता है कि आप बिना किसी खास वजह के अचानक से मोटे होने लगे हैं, तो ये बढ़ते हुए कोलेस्ट्रॉल का संकेत हो सकता है। इसके अलावा अगर आप पेट में भारीपन महसूस करते हैं या आपको सामान्य से ज्यादा पसीना आता है और गर्मी भी लग सकती है।

सीने में दर्द या बेचैनी होना: कोलेस्ट्रॉल के बढ़ने से मुख्य रूप से दिल की बिमारियों और स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। इसके संकेत सीने में दर्द महसूस होना, बेचैनी होना या दिल बहुत जोर-जोर से धड़कना। इसे नजरअंदाज करना आपके लिए जानलेवा हो सकता है इसलिए ऐसी स्थिति में तुरंत चिकित्सक से जाँच करवाएं। आँखों के नीचे या गर्दन पर छोटे से बॉईल या स्किन टैग का निकलना भी इस बात का ही संकेत है।

(यह भी पढ़ें: कोलेस्ट्रॉल को घटाने वाले फूड्स)

कोलेस्ट्रॉल को कैसे घटाएं: How to Reduce Cholestrol in Hindi:

हमारे खान-पान का सीधा असर हमारे शरीर पर पड़ता है। दिल की बिमारियों का सीधा संबंध कोलेस्ट्रॉल से है। यह हमारे शरीर के लिए जरूरी है लेकिन इसके बढ़ जाने से हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा कई गुना बढ़ जाता है। अपने खानपान में थोड़ा-सा बदलाव करके आप शरीर में बैड कलेस्ट्रॉल की मात्रा को घटाकर गुड कलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ा सकते हैं।

ऑलिव ऑयल का सेवन करें: कोलेस्ट्रॉल बढ़ने की मुख्य वजह तेल है। ऑलिव ऑयल के इस्तेमाल से सामान्य तेल की अपेक्षा 8 प्रतिशत तक इसे कम किया जा सकता है।

ओट्स का सेवन करें: ओट्स में पर्याप्त मात्रा में फाइबर पाया जाता है और इसमें बीटा ग्लूकॉन भी होता है जो आंतों की सफाई करता है और कब्ज से राहत दिलाता है। नियमित तौर पर नाश्ते में ओट्स खाने से शरीर में इसे 6 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है।

मछली का सेवन करें: मछली में ओमेगा-3 फैटी एसिड पाया जाता है। स्वस्थ रहने के लिए सप्ताह में दो बार स्टीम्ड या ग्रिल्ड मछली खा सकते हैं।

अस्वीकरण: कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर होने वाली परेशानियों का निदान पाने के लिए आयु ऐप पर मौजूद विशेषज्ञ डॉक्टर से अभी संपर्क करें। आयु ऐप डाउनलोड करके आप अपने फोन पर रोज़ाना सेहत की बातें और टेलीमेडिसिन की सुविधा घर बैठे प्राप्त कर सकते हैं।

किसी भी अन्य स्वास्थ्य समस्या की जानकारी के लिए आप हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके एक्सपर्ट डॉक्टर से परामर्श पा सकते हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.