मसूडों से खून निकलने के कारण | Pyorrhoea

शेयर करें

दांतो को सेहत और सुंदरता का आईना माना जाता है, अगर आपके दॉत साफ है और बदबू नहीं आती है तो इससे आपका विश्वास भी बढ़ता है. लेकिन दांतों की साफ-सफाई में आप जरा सा भी लापरवाही बरतते है तो आप के मसूड़ों से खुन निकलने लगते है और मुंह से बदबू आने लगता है तो इसका असर आपके सेहत के साथ-साथ आपके कॉन्फिडेंस पर भी पड़ता है… आज हम आपको मसूडों की बीमारी पायरिया के लक्षण और उपाए के बारे में बताने जा रहें है, ताकि आप इस बीमारी से खुद का बचाव कर सकें.

कैसे होता है पायरिया

दांतों की साफ-सफाई का ध्यान नहीं रखने की वजह से दांतों और मसूड़ों के बीच एक परत जम जाता है. फिर मसूड़ों में संक्रमण होने लगता है.आपके दांतों पर मसूड़ों का पकड़ ढ़ीला पड़ जाता है, दांतो के बीच मसूडों से खुन निकलने लगता है. साथ ही आपके मुंह से बदबू आने लगता है. बच्चे से लेकर बुजूर्ग तक इस बीमारी के चपेट में आ जाते है.

पायरिया के लक्षण

  • दांतों में दर्द, खून आना
  • मसूड़ों में सूजन या उनका फूल जाना
  • दांतों में गैप आना या दांतों का हिलना
  • दांतों और मसूड़ों के बीच पॉकेट का बन जाना
  • हरे, पीले, काले या ग्रे रंग के टार्टर का दांतों पर जमा हो जाना
  • दांतों की जड़ें दिखने लगना तथा मसूड़ों का सिकुड़ जाना

पायरिया के कारण

  • मुंह की साफ-सफाई का ध्यान नहीं रखना
  • दांतों के बीच खाने के कण फंसे रह जाना
  • ठीक से ब्रश न करना या बहुत कड़क ब्रिसिल्स वाले ब्रश का उपयोग करना
  • कैविटी का बनना
  • जल्दी-जल्दी टूथपेस्ट बदलना
  • गुटखा, तंबाकू, सिगरेट, शराब, पान, सुपारी की लत होना
  • दांतों को बार-बार कुरेदना
  • बार-बार पेट की समस्या होना
  • पायरिया का घरेलू उपचार

नमक मिटाएगा परेशानी

आपके घर में मौजूद नमक में एंटीसेप्टिक और एंटीबैक्टीरियल मौजूद होते हैं. चुटकी भर हल्दी में नमक और सरसों का तेल मिलाकर उससे अपने दांतों पर लगाकर कुछ देर के लिए छोड़ दें. कुछ समय के बाद आपके मुंह से लार बनना शुरू हो जाएगा ,जिसे आप थूक दें. ऐसा करने से पायरिया में राहत मिलता है. इसके अलावा आप एक ग्लास पानी में दो चम्मच घोल लें और उसे गुनगुना कर लें. फिर इस गुनगुने नमक के पानी से कुल्ला करें. रोजाना ऐसा करने से आपको अपनी परेशानी से काफी हद तक राहत मिलेगी.

आपकी दांतों के लिए काफी फायदेमंद है नीम

नीम के औषधीय गुणों से हर कोई वाकिफ है. पुराने समय में लोग नीम की दातून का इस्तेमाल करते थे, जिसके कारण उनके दांत काफी मजबूत होते थे. नीम का दातून पायरिया के लिए काफी लाभदायक होता है. इसके अलावा आप नीम के पत्तों की राख में कोयले का चूरा और कपूर मिलाकर रोज रात को लगाकर सोने से पायरिया में लाभ होता है. इसके अलावा यह पाउडर मसूड़ों से रक्तस्राव और पस के निर्माण पर नियंत्रण रखता है, और मुंह से दुर्गन्ध हटाने में भी सहायता करता है.

पायरिया से निजात दिलाता है नींबू

पायरिया बीटीमिन सी की कमी की वजह से भी होता है, नींबू में वीटामिन सी भरपुर मात्रा में मौजूद होता है. आप रोजना नींबू का सेवन कर अपने मसूड़ों को मजबूत बना सकते है. इसके लिए आप नींबू का रस निकालकर उसे अपने मसूड़ों पर लगाएं. फिर उसके रस को चूस लें. ऐसा करके आप पायरिया से निजात पा सकते है.

अमरूद है लाभदायक

अमरूद न सिर्फ औषधीय गुणों से युक्त होता है, बल्कि यह आपकी बहुत सी परेशानियों को भी दूर करने में मदद करता है. जब आपको पायरिया की परेशानी होती है तो आप अमरूद के पेड़ के कुछ पत्तों को तोड़कर धो लें और इन पत्तियों को चबाकर थूक दें. अगर आप अमरूद के पत्तों को चबाने में सहज महसूस नहीं करते तो आप ताजा अमरूद को चार टुकड़ों में काट लें. अब इन पर नमक छिड़क कर धीरे-धीरे चबाकर खाएं.

अरंडी का तेल

अरंडी का तेल, कपूर और शहद मिलाकर एक पेस्ट बना लें और रोजान सुबह नीम के दातुन के साथ पेस्ट की तरह उपयोग करें. कुछ दिनों तक इसका इस्तेमाल करने से राहत मिलती है. पायरिया के लिए यह एक बेहतर इलाज माना जाता है.

गेंहू के दाने

गेंहू के दानों को पानी में भिगो कर इसके पानी से कुल्ला करें. कुल्ला करने के बाद इसके पानी को पी लें. यह पानी मुंह में मौजूद सभी बैक्टिरीया को मारकर पायरिया को दूर करता है.

प्याज

प्याज के एक टुकड़े को तवे पर गर्म करके दांतों के बीच 15 मिनट तक रखें और उसके बाद कुल्ला कर लें. दिन में 3 बार और एक हफ्ते तक इसका इस्तेमाल पायरिया की समस्या को खत्म कर देगा.

मेडकॉर्ड्स हैं आपकी सेहत का असली साथी

आपको या आपके परिवार के किसी सदस्य के मसूडों से खून आता है तो इसे गंभीरता से लें. मेडकॉर्ड्स ऐप से घर बैठे अनुभवी डॉक्टरों से ई-परामर्श और सलाह लें. आज ही मेडकॉर्डस हेल्प लाइन नं- 781-681-1111 पर करें कॉल

शेयर करें

3 Replies to “मसूडों से खून निकलने के कारण | Pyorrhoea

Leave a Reply

Your email address will not be published.