PROTECT YOUR SKIN FROM HOLI COLORS | कैसे बचाएं अपनी त्वचा को होली के रंगों से? जानें!

होली (Holi) पर उत्साह व खुशियों को दोगुना करते हैं, होली पर खेले जाने वाले रंग। हमारे त्यौहार हमारी परम्पराओं को जीवंत रखने के प्रमुख साधन है। होली (Holi) हमारे मुख्य पर्वों में से एक है। होली बच्चों से ले कर वृद्धजन सभी को रोमांचित करती है।

लेकिन आजकल व्यावसायिकता के वजह से होली (Holi) के रंगों में भी मिलावट देखी जा रही है। प्राचीन प्राकृतिक रंगों का स्थान कृत्रिम व रासायनिक रंगों ने ले लिया है जिसकी वजह से हमारी त्वचा (Skin) को बहुत नुकसान पहुँचता है।

एलर्जी, जलन, बालों का खराब होना कुछ ऐसी समस्याएं हैं जो इन मिलावटी रंगों के वजह से देखी जाती है।

मेडकॉर्ड्स (MedCords) त्वचा विशेषज्ञ डॉक्टर के अनुसार आप होली (Holi) पर कुछ एहतियात अपना कर अपनी त्वचा (Skin) को बचा सकते हैं व होली का भरपूर आनंद ले सकते हैं।

किसी भी स्वास्थ्य समस्या के लिए आज ही “Aayu” ऐप डाउनलोड करें

आइये जानें क्या है वो उपाय:

1. जब आप अपनी अलमारी से पुराने कपड़े निकालें, तो सुनिश्चित करें कि आप त्योहार के दौरान ऐसे कपड़े पहने  जो आपके शरीर के अधिकतम हिस्से को ढंक सकें ताकि त्वचा (Skin) को कम नुकसान हो। पोलो टी- शर्ट या पूरी आस्तीन वाली शर्ट और पुराने पतलून या डेनिम्स आप चुन सकते हैं।

2. अपने शरीर के खुले हिस्सों पर ज़्यादा कोल्ड क्रीम या तेल लगाएं। तेल की चिकनाई कठोर रंगों को आपकी त्वचा में गहराई से बसने नहीं देगा। ध्यान दें पूरे शरीर पर आप क्रीम या तेल ज़रूर लगाएं, नारियल तेल सबसे ज़्यादा फायदेमंद रहता है।

3. होली (Holi) खेलते वक़्त यह सुनिश्चित करें कि आप वाटरप्रूफ सनस्क्रीन लोशन भी लगाएं क्योंकि यह आपको गंभीर टैन होने से बचाएगा।

4. होली (Holi) खेलने के लिए अगर हो सके तो अधिक से अधिक हर्बल रंगों का उपयोग करें। ये बाजार में आसानी से उपलब्ध हैं।

5. अपने आप को हाइड्रेटेड रखें। इसके लिए पानी, जूस के साथ-साथ ग्लूकोज भी पीते रहें। निर्जलीकरण या डिहाइड्रेशन के कारण आपकी त्वचा (Skin) सूख जाती है और कठोर रसायनों के साथ मिलकर रंग आपकी त्वचा में जा सकते है।

6. अपने कानों और होंठों के लिए, आप उन्हें पूरी तरह से नमीयुक्त रखने के लिए बराबर वैसलीन या लिप-बाम का उपयोग कर सकते हैं। अपने नाखूनों के नीचे वैसलीन का उपयोग करना भी उचित है। शुष्क त्वचा के कारण रोम छिद्र खुल जाते हैं; उन्हें टिंटेड और मॉइस्चराइज्ड रखना आपके लिए अच्छा रहेगा।

7. यदि होली खेलते समय, आपको खुजली और जलन महसूस होती है, तो सुनिश्चित करें कि आप शरीर के हिस्से को तुरंत ठंडे पानी से धो लें। एक बार जब खुजली कम हो जाए, तो इस पर लैक्टो कैलामाइन जैसे ठन्डे व आराम देने वाले लोशन का उपयोग करें। यदि खुजली अभी भी बनी हुई है, तो तुरंत आप किसी त्वचा विशेषज्ञ को दिखाएं।

8. एक बार जब आप होली का आनंद ले चुके होते हैं, तो सबसे कठिन कार्य होता है- रंगों को हटाना। हमेशा यह सलाह दी जाती है कि रंगों को उसके गीले होने की अवस्था में ही हटाने की कोशिश करें क्यूँकि रंगों के सूख जाने के बाद उन्हें निकालना बहुत मुश्किल होता है। हालाँकि, अगर रंग सूख गए हैं तो घबराएं नहीं, यह धीरे-धीरे प्रत्येक स्नान के बाद कम होने के साथ पूरी तरह निकल जाते हैं।

9. गुनगुने नमक के पानी के साथ मॉइस्चराइज्ड साबुन और उसमें बेबी आयल की एक बूंद डालें व उससे स्नान करें। याद रखें, आपको कभी भी अपने चेहरे या शरीर को जोर से नहीं रगड़ना चाहिए। यह रंगों को हटाने में आपकी मदद नहीं करेगा बल्कि आपकी त्वचा (Skin) को नुकसान पहुंचाएगा। दूध के साथ बेसन का मिश्रण भी रंग के निशान को हटाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। उन लोगों के लिए जो मुंहासों से पीड़ित हैं – आप क्लिंडामाइसिन जेल जैसे एंटीबायोटिक जेल से धोएं।

10. नहाने के बाद अपने पूरे शरीर को अच्छी तरह से मॉइस्चराइज करें। आप इसके लिए कैलामाइन, एलो-वेरा तेल या एक अच्छे मॉइस्चराइज़र का उपयोग कर सकते हैं। यह संभव है कि रंग आसानी से न निकले, ऐसी स्थिति में कभी भी चेहरे पर स्क्रबिंग या किसी तरह के सैलून ट्रीटमेंट को ना अपनाएं। ऐसा करने से रंग निकलने के बजाय त्वचा (Skin) में गहराई तक जा सकते हैं।

11. नींबू को प्राकृतिक विरंजक (ब्लीच) माना जाता है। इसलिए नींबू के छिलकों को अपने चेहरे और शरीर पर रगड़ना भी एक अच्छा विकल्प है। हालाँकि, नींबू लगाने के बाद आप अपनी त्वचा (Skin) को अच्छी तरह से मॉइस्चराइज़ करें। टोनर का भी उपयोग करें क्योंकि यह आपकी त्वचा (Skin) में होली के रंगों से होने वाले रासायनिक परिवर्तन को कम करने में आपकी मदद करेगा।

इन साधारण व घरेलु उपायों व सावधानियों से आप होली के रंग में भंग पड़ने से रोक सकते हैं व अपने परिवार व दोस्तों के साथ बिना त्वचा के नुकसान के डर से सुरक्षित होली का आनंद ले सकते हैं।

यदि आप में या आपके परिवार के किसी सदस्य में होली के रंगों से एलर्जी (Allergy) के लक्षण दिख रहे हैं, तो आज ही हमारे टोल फ्री नंबर +91-781-681-1111 पर कॉल करें और नज़दीकी सेहत साथी के पास जा कर एक्सपर्ट डॉक्टर से सलाह लें। याद रहे की लक्षण गंभीर होने पर घरेलु इलाजों पर निर्भर न रहें और जल्द से जल्द डॉक्टर से सलाह लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.