कब्ज से होने वाली परेशानियाँ, इसके लक्षण और बचाव

Constipation

अगर आपको कुछ हफ़्तों से कब्ज की शिकायत है और आप सभी तरह के घरेलू नुस्खे अपना चुके है पर आपको आराम नहीं मिल रहा। अगर आपके पेट में दर्द रहता है तो आपकी हेल्थ पर असर पड़ता है। सबसे पहले हम जानते है कब्ज क्या होता है।

कब्ज क्या है (What is Constipation):

कब्ज में हफ्ते में एक या दो बार ही साफ़ होता है। स्टूल के समय काफी दिक्कत होती है। उसके लिए प्रेशर लगाना पड़ता है।

कब्ज के कारण (Causes of Constipation):

  • डाइट में फाइबर की कमी होना
  • पानी कम पीना
  • एक्सरसाइज की कमी
  • ज्यादा समय तक बैठना
  • स्टूल को रोककर रखना
  • डाईबिटीज़, हाइपो थायरॉइड, क्रोनिक किडनी डिजीज़ हो सकती है।
  • न्यूरोलॉजिकल डिजीज़. जैसे पार्किन्सन. इसके कारण भी कब्ज़ होता है
  • इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज और टीबी में कब्ज़ हो जाता है
  • कुछ दवाईयाँ जैसे डाइयुरेट्इक और कैल्शियम चैनल ब्लॉकर जो बीपी के लिए लेते हैं
  • ट्राइसाइक्लिक ऐन्टीडिप्रिसन्ट: इसे साइकियाट्रिक बीमारियों के लिए लेते हैं और मॉर्फिन। इसे पेन किलर के लिए लेते हैं। इनसे भी कब्ज़ हो सकता है।
  • कैल्शियम की मात्रा शरीर में ज़्यादा हो तो उससे भी कब्ज़ हो सकता है
  • बहुत लोगों में कब्ज़ दवाई से ठीक होता है। कुछ लोगों को आगे जाँच करवानी पड़ती है

सीनियर कॉन्स्टिपेशन के संकेत:

  • कब्ज़ लंबे समय के लिए होना
  • कब्ज़ बार-बार होना
  • स्टूल में ब्लड आना
  • शरीर में खून की कमी होना
  • हल्का सा बुखार लंबे समय तक चलना
  • वज़न कम हो जाना
  • जिनकी उम्र 50 साल से ज़्यादा है तो उन्हें जाँच करवानी चाहिए

कब्ज से संबंधित रिस्क फैक्टर:

  • अगर आपको अचानक कब्ज की परेशानी होती है और गैस नहीं निकल पा रही, उल्टियां हो रही हैं, पेट में दर्द है, पेट फूल रहा है, तो तुरंत अपने डॉक्टर से मिलिए।
  • वज़न घट रहा है, अगर भूख कम लग रही है, शौच के आकार में बदलाव आ रहा है, तब एक्सपर्ट की सलाह लेनी चाहिए।

कब्ज का इलाज:

  • 10-15 मिनट मॉर्निंग वॉक कीजिए। इससे आंतड़ियों (Intestine) की चाल बढ़ेगी और शौच निकलने में आसानी होगी।
  • अगर सुबह प्रेशर नहीं बनता तो खाली पेट शौच जाने की जगह नाश्ता कीजिए या गुनगुना पानी पिएँ फिर शौच को जाए।
  • पानी ज़्यादा पिएँ।
  • यदि वेस्टर्न कमोड में समस्या हो रही है तो भारतीय स्टाइल का कमोड इस्तेमाल कीजिए।
  • वेस्टर्न कमोड के सामने स्टूल रखिए और पैर उस पर रखिए और सामने की तरफ थोड़े से झुक जाइए। इससे शौच निकलने में आसानी होगी।
  • अगर एक-दो हफ़्ते में राहत ना मिले तो जाँच करवाए क्योंकि कब्ज गंभीर बीमारी का लक्षण हो सकता है

कब्ज दूर करने के खानपान:

  • आपके हर रोज़ के खाने में 20 से 30 ग्राम तक फाइबर होना चाहिए।
  • पालक, मेथी जैसी हरी सब्जियां, कद्दू, टिंडा जैसी सब्जियाँ खाएं।
  • अनार, सेब, खरबूज़ जैसे फलों का नियमित रूप से सेवन करें।
  • खाने को अच्छे से चबाए। हमारे मुंह में पाचक रस रहते हैं वो ठीक से घुल मिल जाएंगे खाने में और उसका पाचन ठीक होगा।
  • पहले से कब्ज़ है तो रात को सोने के समय दिनभर पानी में भिगोए हुए अंजीर खाकर सोएं।
  • अगर आप चाय, कॉफ़ी ज़्यादा लेते हैं तो उससे आपकी एसिडिटी ज़्यादा बढ़ती है। एसिडिटी हमारे शरीर से ज़्यादा से ज़्यादा पानी बाहर निकालती है। जिससे शरीर डिहाइड्रेट हो जाए उससे कब्ज़ की तकलीफ़ बढ़ जाती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित इस लेख में सामान्य जानकारी दी गई है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है।अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐप डाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ  डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.