Prevention for Pneumonia |निमोनिया को कैसे रोकें?

Prevention for Pneumonia
शेयर करें

निमोनिया फेफड़ों में होने वाला संक्रमण है, जो कि बैक्टीरिया, वायरस या फंगस के कारण होता है ।

निमोनिया अन्य कई गंभीर बीमारियों का भी कारण बन सकता है इसलिए आप स्वस्थ रहने के लिए जो कुछ भी कर सकते हैं, वह करें और अपने और अपने परिवार को निमोनिया से बचाएं।

PNEUMONIA | निमोनिया प्रकार, निदान व उपचार

टीकाकरण करवाएं

स्ट्रेप्टोकोकस (Streptococcus) निमोनिया जीवाणु से बचाव के लिए 2 साल से कम आयु के बच्चों और 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का टीकाकरण किया जाना चाहिए। जो धूम्रपान करते हो या दीर्घकालिक स्वास्थ्य बीमारियों से ग्रसित हो उन लोगों को भी टीकाकरण करवाना चाहिए।

अपने नज़दीकी डॉक्टर या बाल रोग विशेषज्ञ से परामर्श करके ही टीके लगवाएं।

माता-पिता को ध्यान रखना चाहिए कि 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को हिब (Hib) टीका लगा हो, जो हीमोफिलस इन्फ्लूएंजा (Haemophilus influenzae) बैक्टीरिया को रोकता है। अगर आपके बच्चे का जन्म समयपूर्व हुआ हो या कुछ स्वास्थ्य समस्याएं जैसे फेफड़ों का कमजोर होना हो तो डॉक्टर से परामर्श लेते रहना चाहिए। यह रेस्पेरेटरी सिनसिशियल वायरस (RSV) को रोक सकता है, जो निमोनिया होने का कारण बनता है।

स्वच्छता–

स्वच्छता अपने आप को स्वस्थ रखने और बीमार होने से बचने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है। नियमित तौर पर साबुन से कम से कम 20 सेकंड तक हाथ धो के साफ़ तौलिये से अच्छी तरह से पोंछ के ही खानपान का सेवन करें।

धूम्रपान एवं शराब सेवन छोड़े–

धूम्रपान एवं शराब सेवन करने से फेफड़े कमज़ोर होते है। इसको छोड़ने से फेफड़े मजबूत होते है और संक्रमण से लड़ने में बेहतर मदद मिलती है जिससे निमोनिया होने की संभावना कम होती है।

अपना ख्याल रखें–

संक्रमण के खिलाफ आपके सबसे अच्छे बचाव में से एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली है। यदि आप प्रतिदिन नियमित रूप से व्यायाम करें एवं पौष्टिक आहार का सेवन करें तो आप अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकते हैं व कई रोगों से बच सकते हैं।

अस्पताल में अधिग्रहित निमोनिया के संपर्क में आने की संभावना को कैसे कम कर सकते है?

निमोनिया एक संक्रमण है जो कि बैक्टीरिया, वायरस, और अन्य रोगाणुओं के कारण होता है। लक्षणों के दिखने के साथ ही आपको नज़दीकी डॉक्टर से अवश्य परामर्श करना चाहिए। किसी सर्जरी के बाद निमोनिया होना काफ़ी गंभीर हो सकता है।

बचाव के कुछ कदम उठाए जा सकते हैं जैसे कि:-

  • सर्जरी से पहले खानपान पर अपने डॉक्टर के निर्देशों का पालन करें। :आमतौर पर डॉक्टर आपको सर्जरी से पहले आधी रात के बाद खाने या पीने के लिए मना करते है क्योंकि यदि आप सर्जरी के समय निश्चेतना (बेहोशी) अवस्था में जा रहे हैं और आपके पेट में भोजन है, तो तरल पदार्थ या उल्टी आपके अंदर आ सकती है, इससे एस्पिरेशन (aspiration) निमोनिया नामक एक प्रकार का निमोनिया हो सकता है।
  • स्वच्छता के लिए – परिवार, दोस्तों, डॉक्टरों और नर्सों सभी से पूछें: 
  • निमोनिया बैक्टीरिया और कुछ वायरस के कारण हो सकता है, तो आपको यह सुनिश्चित करने की ज़रूरत है कि जो लोग आपको छूते हैं वे कोई भी गंदे रोगाणु नहीं ला रहे हो।
  • पूछें कि आप कब घूमना शुरू कर सकते हैं।:लंबे समय तक पीठ पर समतल लेटने से निमोनिया के विकास का खतरा बढ़ सकता है।
  • सांस लेने के व्यायाम करें।:हर घंटे 10-15 बड़ी,गहरी सांस लेने का प्रयास करें। फेफड़ों की जांच के लिए स्पेरोमीटर (Sperometer) का भी उपयोग कर सकते हैं।
  • धूम्रपान छोडें।: धूम्रपान छोड़ना स्वास्थ्य के लिए अच्छा है, लेकिन अगर आप पूरी तरह से छोड़ने में असमर्थ हैं तो सर्जरी से कम से कम एक या दो सप्ताह के लिए रुकें। अपने फेफड़ों को एक ब्रेक देने से उनमें मज़बूती आएगी और निमोनिया का ख़तरा कम हो जाएगा।

यदि आपको ख़ुद में या अपने परिवार के किसी भी सदस्य में निमोनिया के लक्षण दिख रहे है, तो आज ही हमारे टोल-फ्री नंबर +91-781-681-1111 पर कॉल करें और नज़दीकी सेहत साथी के पास जा कर शहरी डॉक्टर से सलाह लें। याद रहे की लक्षण गंभीर होने पर घरेलु इलाजों पर निर्भर न रहें और जल्द से जल्द डॉक्टर से सलाह लें।

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.