PNEUMONIA | निमोनिया प्रकार, निदान व उपचार

Pneumonia

निमोनिया (Pneumonia) एक संक्रमण है जो कि बैक्टीरिया, वायरस, और अन्य रोगाणुओं के कारण होता है। निमोनिया (Pneumonia) होने की स्थिति में  आपको अपने नज़दीकी डॉक्टर से अवश्य परामर्श करना चाहिए ,डॉक्टर आपको निदान के प्रकार के बारे में बताते हैं। सामान्यतया निमोनिया (Pneumonia) कई प्रकार का हो सकता है।

जानें निमोनिया के प्रकार:

बैक्टीरियल (जीवाणु) निमोनिया (Bacterial Pneumonia)–

यह बिमारी मनुष्यों में सामान्यतया जीवाणुओं के कारण होती है| यह बिमारी सभी आयु वर्ग के लोगों को प्रभावित करती है| इसमें मरीज़ का शरीर काफ़ी कमजोर पड़ जाता है जिस कारण से मरीज़ को साँस लेने में काफी परेशानी होती है। इसमें महसूस होने वाले प्रमुख लक्षण है:

नज़दीकी डॉक्टर से सलाह ले कर जानें की आप कौन से बैक्टीरिया से ग्रसित हैं और डॉक्टर द्वारा सुझावित एंटी-बायोटिक्स ही लें।

अस्पताल से लिखी गयी निमोनिया (Pneumonia) की एंटीबायोटिक से स्वस्थ होने की संभावना अधिक होती है।

जीवाणु निमोनिया (Bacterial Pneumonia) का एक हल्का रूप है, डॉक्टर इसे “असामान्य ” निमोनिया (Pneumonia) कहते हैं। इसके लक्षण इतने हल्के होते है कि आप जान भी नहीं पाते। इसमें बुखार, खांसी, कंपकंपी लगती है। इसमें आप एंटीबायोटिक्स लेने के 3 से 5 दिनों में बेहतर महसूस करने लगेंगे, लेकिन खांसी कुछ हफ़्तों तक चल सकती है।

किसी भी स्वास्थ्य समस्या के लिए आज ही “Aayu” ऐप डाउनलोड करें

वायरल निमोनिया

इस प्रकार का निमोनिया (Pneumonia) विभिन्न वायरस के कारण होता है। इसमें बुखार, ठंड लगना, सूखी खांसी और थकान हो सकती है।  एंटीबायोटिक्स वायरल निमोनिया का इलाज नहीं करेंगे क्योंकि वे केवल बैक्टीरिया पर काम करते हैं। उपचार आमतौर पर आपके लक्षणों पर निर्भर करता है। ऐसे में आपको अधिक से अधिक आराम, तरल पदार्थों का सेवन व बुखार की दवा लेना आवश्यक हो जाता है।

types of pneumonia

फंगल निमोनिया–

यदि आप स्वस्थ हैं तो आपको फंगल निमोनिया नहीं हो सकता लेकिन अगर आप कमज़ोर है तो इसके संपर्क में आना संभव है। कुछ कार्यों से जुड़े लोग फंगल निमोनिया के संपर्क में आने की अधिक संभावना रखते हैं,जैसे कि:

  • किसान जो पक्षी,चमगादड़ या जानवरो के आसपास काम करते हैं।
  • मिट्टी के साथ काम करने वाले लैंडस्केपर्स और गार्डनर्स।
  • सेना या निर्माण श्रमिक जो बहुत सारी धूल के आसपास रहते है।

इसके लक्षण अन्य की तरह समान ही होते है जैसे बुखार व खांसी।

अस्पताल से प्राप्त निमोनिया–

अस्पताल में रहने के दौरान आपको निमोनिया (Pneumonia) हो सकता है अगर आप वेंटिलेटर मशीन पर है, अगर आप श्वास-नली-छेदन से सांस लेने के संपर्क में है या फिर रोगाणुओं के खिलाफ लड़ने के लिए आपका शरीर किसी अन्य बीमारी के उपचार से कमज़ोर हो चुका है।

समुदाय द्वारा प्राप्त निमोनिया–

सामुदायिक-अधिग्रहित निमोनिया (Pneumonia) बैक्टीरिया, वायरस और फंगस के कारण हो सकता है। किसी तरल पदार्थ, भोजन, गैस या धूल से होने वाला संक्रमण इस बीमारी का कारण बनते हैं। फेफड़े में सूजन होने के कारण मनुष्य को खांसी, सीने में दर्द, बुखार एवं सांस लेने में कठिनाई जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है।

यदि आपके पास समुदाय-अधिग्रहित निमोनिया है, तो एंटीबायोटिक्स जो आप लेते हैं वो ही आमतौर पर संक्रमण का इलाज करने के लिए पर्याप्त हैं। यदि आपके लक्षण गंभीर हैं, तो आपको अस्पताल में भर्ती हो कर ऑक्सीजन या श्वास उपचार इलाज कराना पड़ सकता है | अस्पताल में नसों द्वारा तरल पदार्थ और एंटीबायोटिक्स देकर आसानी से आपका इलाज किया जाता है।

निमोनिया (Pneumonia) फेफड़ों में होने वाला संक्रमण है, जो बैक्टीरिया, वायरस, और अन्य रोगाणुओं के कारण होता है। यह आमतौर पर बच्चों और बुजुर्गों को अधिक परेशान करता है, जिनका इम्युनिटी सिस्टम कमज़ोर होता है। लक्षण दिखने की स्थिति में आपको डॉक्टर से अवश्य परामर्श करना चाहिए ताकि डॉक्टर आपको निदान के प्रकार के बारे में बता सके।

Pneumonia | निमोनिया और उसके लक्षण |

निदान

जब आप डॉक्टर के पास निमोनिया (Pneumonia) जांच के लिए जाते है तो वह लक्षण जानने के लिए —

  • स्टेथेस्कोप (फेफड़े की व्यवस्था जानने का यंत्र) से फेफड़ों की जांच करते हैं,
  • छाती का एक्स-रे करते हैं,
  • खून,
  • थूक एवं
  • नाड़ी परिक्षण करते हैं  

यदि एक्स-रे दिखाता है कि आपके फेफड़े में चारों तरफ तरल पदार्थ है तो डॉक्टर आपकी छाती में इंजेक्शन द्वारा तरल पदार्थ का नमूना लेते है। इसे प्रयोगशाला में भेजा जाता है और संक्रमण के लक्षणों की जांच की जाती है।

गंभीर मामलों में डॉक्टर ब्रोंकोस्कोपी (श्वासनली की श्वसनीदर्शीयंत्र द्वारा जांच) करते है जिसमें वो फेफड़ों के वायुमार्गों को देखने के लिए ब्रोंकोस्कोप नामक एक उपकरण का उपयोग करते है।

उपचार

आपके कारणों और लक्षणों पर निर्भर करता है कि इलाज कैसा हो?

यदि आपको जीवाणु (बैक्टीरिया) निमोनिया है, तो डॉक्टर आपको एंटीबायोटिक दवाएँ देंगे एवं संक्रमण को रोकने के लिए भी कदम उठायँगे ।

यदि आपका निमोनिया वायरस के कारण हुआ है, तो आराम करना जरूरी है । वायरल निमोनिया आमतौर पर 1 से 3 सप्ताह में बेहतर हो जाता है। लेकिन डॉक्टर बहुत सारे तरल पदार्थ पीने, आराम करने एवं बुखार को नियंत्रित करने के लिए दवाएं दे सकते है।

आयु है आपका सहायक

अगर आपके घर का कोई सदस्य लंबे समय से बीमार है या उसकी बीमारी घरेलू उपायों से कुछ समय के लिए ठीक हो जाती है, लेकिन पीछा नहीं छोड़ती है तो आपको तत्काल उसे डॉक्टर से दिखाना चाहिए. क्योंकि कई बार छोटी बीमारी भी विकराल रूप धारण कर लेती है. अभी घर बैठे स्पेशलिस्ट डॉक्टर से “Aayu” ऐप पर परामर्श लें . Aayu ऐप डाउनलोड करने के लिए नीचे दी गई बटन पर क्लिक करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.