fbpx

7 PCOS Diet Tips: पीसीओएस में क्या खाएं, क्या नहीं

7 PCOS Diet Tips: पीसीओएस में क्या खाएं, क्या नहीं

It is not recommended to eat sugar in high amount if you are suffering from PCOS. You should have a healthy PCOS diet.

“अगर आपको पीसीओएस की समस्या है तो अधिक मात्रा में चीनी के सेवन से बचें। “

Health Tip for Aayu App

पीसीओएस का मतलब क्या है

पीसीओएस (PCOS) का पूरा नाम पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम है।

पीसीओएस क्या है?

पीसीओएस महिला में हॉर्मोन के असंतुलन की वजह से होती है। अनियमित मासिक धर्म इस बिमारी का मुख्य कारण है , जिस वजह से महिलाएं गर्भधारण नहीं कर पाती है।

पीसीओएस महिलाओं में पाई जाने वाली एक आम समस्या है। अक्सर महिलाएं पीसीओएस में क्या खाना चाहिए और इसके लक्षणों की जानकारी न होने के अभाव में इस समस्या का सामना करती हैं।

जब पीसीओएस अनियंत्रित हो जाता है, तो इससे डायबिटीज, बांझपन, अवसाद, चिंता, और हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए हेल्दी डाइट और बेहतर लाइफस्टाइल का पालन करना चाहिए जिससे आप अनियंत्रित होने वाली अवस्था से बच सकें। इसलिए आज हम इस लेख में पीसीओएस डाइट टिप्स (PCOS Diet Tips), पीसीओडी में क्या खाना चाहिए, पीसीओएस में क्या नहीं खाना चाहिए की बात करेंगे जिन्हें अपनाकर आप PCOS से बच सकें।

आइये अब जानते है पीसीओएस की समस्या में आप कौन-कौन से डाइट टिप्स फॉलो कर सकते है।

पीसीओएस डाइट को फॉलो करते समय इनका ध्यान रखना जरूरी है :

  1. सिंपल कार्ब्स और शुगर युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन ना करें।
  2. फाइबर युक्त आहार का ज्यादा मात्रा में सेवन करें।
  3. भरपूर मात्रा में पानी पिएँ और खुद को हाइड्रेट रखें।
  4. एक बार में ढेर सारा खाना ना खाएं।
  5. थोड़ी-थोड़ी देर में कुछ ना कुछ खाते रहें।
  6. सभी पोषक तत्वों का संतुलन में सेवन करें।
  7. एंटीऑक्सीडेंट युक्त खाद्य पदार्थ खाएं।

आइये अब आपको बताते है पीसीओएस में क्या खाएं और क्या ना खाएं।

पीसीओएस में क्या खाना चाहिए (What to take in PCOS Diet)

पीसीओएस में कुछ चीजें ऐसी होती है जो हमारे लिए फायदेमंद होती है और कुछ ऐसी जिन्हे खाने से हमे परेशानी हो सकती है। ऐसी ही कुछ चीजें आपको पता होनी चाहिए जिससे आप ऐसी परेशानी में आकर असमंजस की स्थिति में ना पड़ जाए।

  • सेब का सिरका है फायदेमंद: आप एक गिलास पानी में 1 या 2 चम्मच सेब का सिरका मिलाएं यह आपके पीसीओएस के लक्षणों को कम करता है जैसे मूड स्विंग्स, ऐंठन, जलन, क्रेविंग्स, दर्द, थकान आदि।
  • हरी सब्जियां खाएं: इंसुलिन प्रतिरोध पीसीओएस के आम कारणों में से एक है। इसलिए ऐसे समय में ह्री सब्जियां खाने की सलाह दी जाती है यह इन्सुलिन बढ़ने से रोकते है।
  • मुलहठी खाएं: मुलहठी खाने से महिला के शरीर में पुरुष हार्मोन कम होने लगता है जिससे पीसीओएस में सुरक्षा मिलती है। यह पीसीओएस महिलाओं के लिए हर्बल उपचार है।
  • दालचीनी-जौ खाएं: जौ में ग्‍लाइसेमिक इंडेक्‍स कम होता है और लो जीआई होता है। जिस वजह से इंसुलिन को बढऩे से रोकते हैं जिस वजह से यह पीसीओएस से लड़ने में मदद करते है।

पीसीओएस डाइट में क्या नहीं लेना चाहिए यह भी आपको पता होना चाहिए।

पीसीओएस में क्या नहीं खाना चाहिए (What not to eat in PCOS Diet)

  • रिफाइंड कार्बोहाइड्रेटेड चीजें: रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट जैसे मैदा, सफेद ब्रेड, पास्ता, पेस्ट्री, केक, मफिन्स जैस चीजों से पीसीओएस महिलाओं को दूर रहना चाहिए क्योंकि यह इंसुलिन रेजिस्टेंस और सूजन बढ़ाने के लिए जिम्मेदार हैं। जिस वजह से आपकी परेशानी और बढ़ सकती है।
  • शराब को कहे ना: शराब पीने से आपको पीसीओएस का खतरा बढ़ जाता है। क्योंकि इससे आपके शरीर में वजन बढ़ने लगता है जो पीसीओएस का एक कारण है।
  • सोयाबीन कम खाएं: सोया मिल्क और सोयाबीन के तेल में मौजूद ट्रांस फैट्स पीसीओएस के अलावा हार्ट प्रॉब्लम और मोटापे जैसी बीमारियों को भी बढ़ाते है। मोटापा पीसीओएस का एक कारण है इसलिए पीसीओएस महिलाऐं सोयाबीन से दूरी बनाकर रखें।

पीसीओडी महिलाऐं अपने लाइफस्टाइल में क्या बदलाव करें:

पीसीओएस डाइट (PCOS Diet) लेने के अलावा पीसीओएस ग्रसित महिलाओं को अपनी लाइफस्टाइल में कुछ बदलाव लाना जरूरी है। आइये जानते है पीसीओएस में आपको अपना रूटीन कैसा रखना चाहिए।

  • सही डाइट लेना, रेगुलर एक्सरसाइज करना, पर्याप्त नींद लेना और खुद को हेल्दी रखें।
  • सूर्यनमस्कार आसन करें इससे पूरा शरीर फिट हो जाता है और अंदरूनी अंग बेहतर तरीके से काम करने लगते हैं।
  • तेज चलने वाली एक्सरसाइज जैसे ब्रिस्‍क वॉक, जॉगिंग करने या योगासन आदि करने से वजन कम होता है और आराम मिलता है।

यह लेख केवल आपको सामान्य जानकारी देता है।अगर आपको किसी तरह की तकलीफ है तो हमारे प्लेटफार्म पर कई विशिष्ट डॉक्टर उपलब्ध है जिनसे आप ऑनलाइन परामर्श लें सकते है। आप हमारे टोल फ्री नंबर 781-681-1111 पर भी कॉल करके इसके बारे में जानकारी लें सकते है।

अगर आप इसी तरह की सामान्य स्वास्थ्य संबंधी जानकारी जानना चाहते है तो अभी अपने फोन पर आयु ऐप डाउनलोड कर सकते है। यह आपको इसी तरह की स्वास्थ्य संबंधी जानकारी देता है जिसे आप कही भी किसी भी समय पढ़ सकते है।

 

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )