कोरोना वायरस के समय पेरेंट्स अपने बच्चों को क्या टिप्स दें

कोरोना वायरस के तेजी से फैलने को लेकर देशभर में काफ़ी चर्चा हो रही है। इस समय बच्चों पर भी बुरा असर पड़ रहा है। ऐसे समय में माँ-बाप को बच्चों को सही जानकारी देनी चाहिए। कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए पैरेंट्स अपने बच्चों को इस खतरनाक वायरस के प्रति जागरूक करें।

क्या है कोरोना वायरस या COVID-19

कोरोना वायरस बहुत ही खतरनाक है, यह जानवरों और इंसानों को बीमार कर सकता है। ये एक RNA वायरस है, यह एक शरीर के अंदर कोशिकाओं में टूट जाता है और उनका उपयोग खुद को पुन: उत्पन्न करने के लिए करता है। कोरोना वायरस से संक्रमित (Coronavirus Infection) व्यक्ति के खांसने और छींकने के साथ थूक के बेहद बारीक कण हवा में फैलते है। इन कणों में कोरोना वायरस के विषाणु होते हैं। संक्रमित व्यक्ति के नज़दीक जाने पर ये विषाणुयुक्त कण सांस के रास्ते आपके शरीर में प्रवेश कर सकते हैं।

Also Read: कोरोना महामारी से कैसे बचें, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जारी की गाइडलाइन

पेरेंट्स बच्चों को करें जागरूक

  • लगातार हाथ धोने की बोले और सेनिटाइज़र का सही तरह से इस्तेमाल करना सिखाएं।
  • बच्चों को भीड़-भाड़ वाली जगह ना ले जाएं। उन्हें समझाएं की अभी साफ-सफाई कितनी ज़रूरी है।
  • खांसते और छीकते समय टिश्यू का इस्तेमाल करने को कहें।
  • बिना हाथ धोए अपने चेहरे को ना छुएं।
  • किसी भी व्यक्ति को खांसी या झुकाम हो रहा हो तो उनसे दूर रहने को कहें।
  • बच्चों को इस समय किसी के साथ खाना शेयर ना करने के लिए बोले।
  • बीमार व्यक्ति से दूरी बनाए रखने को कहें।

आयु कार्ड से साल-भर घर बैठे विशेषज्ञ डॉक्टर से फ्री परामर्श लें-👇

वर्कप्लेस पर कोरोना वायरस से कैसे बचें-

बच्चों को भरोसा दिलाएं

अभिभावक अपने बच्चों के साथ इस मुद्दे पर, ‘खुल कर बात करें। बच्चों को कोरोना वायरस से कैसे बचा जा सकता है यह बताएं।

बच्चों की चिंता दूर करें

सबसे जरूरी है कि कोरोना वायरस को लेकर बच्चों की चिंता दूर करें। मां बाप को यह बताना होगा कि कोरोना वायरस वैसा ही वायरस है, जैसा वायरस आप को खांसी-जुकाम होने या डायरिया और उल्टी होने पर हमला करता है। 

बच्चों को फेक न्यूज़ से बचाएं

अक्सर छोटे बच्चे मां-बाप और दोस्तों से फ़िक्र भरी बातें करते सुनकर ही ज्यादा प्रभावित हो रहे है। बच्चों के स्कूलों में बहुत तरह की बातें हो रही है और बहुत सी फ़ेक न्यूज़ सोशल मीडिया पर भी फैल रही है जिसकी वजह से छात्र और भी ज्यादा डर रहे है। अभिभावकों को अपने बच्चों के आस-पास रहते हुए अपने बर्ताव पर बहुत सावधानी बरतनी चाहिए। 

कोरोना वायरस के लक्षणों की पहचान कराएं

  • इंसान के शरीर में पहुंचने के बाद कोरोना वायरस उसके फेफड़ों में संक्रमण करता है। इस कारण सबसे पहले बुख़ार, उसके बाद सूखी खांसी आती है, बाद में सांस लेने में समस्या हो सकती है। 
  • कोरोना वायरस उन लोगों के शरीर में अधिक फैलता है जिनमें इसके संक्रमण के लक्षण दिखाई देते है लेकिन कई जानकार मानते हैं कि व्यक्ति को बीमार करने से पहले भी ये वायरस फैल सकता है। 
  • मांसपेशियों में दर्द, सामान्य सर्दी ज़ुकाम जैसे होते है इसीलिए टेस्ट करना ज़रूरी होता है ताकि पुष्टि हो सके कि संक्रमण कोरोना वायरस यानी कोविड-19 का ही है। 

आयु है आपका सहायक

कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते आज विश्व टेलीमेडिसिन को अपना रहा है। भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने भी आमजन से टेलीमेडिसिन के साथ-साथ स्वदेशी अपनाने की बात कही है। भारत का नंबर वन हेल्थकेयर प्लेटफॉर्म आयु पर आप घर बैठे देश के सर्वश्रेष्ठ डॉक्टरों से इलाज़ और परामर्श पा सकते हैं। आज ही डाउनलोड करें स्वदेशी स्वास्थ्य ब्रांड आयु ऐप. हमेशा देश के बेहतर स्वास्थ के लिए अग्रसर |

Leave a Reply

Your email address will not be published.