रात में खर्राटे हो सकता है ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया | Obstructive Sleep Apnea in Hindi

Obstructive Sleep Apnea in Hindi

Obstructive Sleep Apnea in Hindi: स्लीप एपनिया (Sleep Apnea) नींद से जुड़ी एक गंभीर समस्या है। हम आपको यहाँ पर स्लीप एपनिया के एक प्रकार ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (Obstructive Sleep Apnea in Hindi) के बारे में बताएंगे।

पहले जानते है स्लीप एपनिया में क्या होता है? आपको बता दें इस बीमारी में सोते समय 10 सेकंड के लिए सांस रुक जाती है। इससे रक्त में ऑक्सीजन का स्तर गिरता है और कुछ सेकंड में मस्तिष्क मांसपेशियों को संकेत देने में विफल हो जाता है यानि मस्तिष्क ना के बराबर हो जाता है। रात में कई बार यह समस्या होती है। सुबह के वक्त यह समस्या ज्यादा होती है।

स्लीप एपनिया के प्रकार: Types of Sleep Apnea:

ऑब्स्ट्रक्टिव स्लीप एपनिया (Obstructive sleep apnea in Hindi):

यह सबसे सामान्य प्रकार का स्लीप एपनिया है। ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (Obstructive Sleep Apnea in Hindi) तब होता है जब नींद में गले की मांसपेशियों की शिथिलता के चलते श्वसन मार्ग आंशिक या पूर्ण रूप से अवरुद्ध होने लगता है। इससे अक्सर लोग ज्यादा जोर से खर्राटे लेते है।

सेंट्रल स्लीप एपनिया (Central Sleep Apnea):

यह स्लीप एपनिया कम पाया जाता है। इसमें मस्तिष्क सांस लेने को नियंत्रित करने वाली मांसपेशियों को संकेत देने में विफल रहता है। इससे ग्रस्त लोग भी खर्राटे लेते है। इसमें सेंट्रल नर्वस सिस्टम प्रभावित होता है।

कांपलेक्स स्लीप एप्निया (Complex sleep apnea):

यह ऑब्स्ट्रक्टिव स्लीप एपनिया और सेंट्रल स्लीप एपनिया का मिला-जुला रूप होता है।

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया के लक्षण: Obstructive Sleep Apnea Symptoms:

  • दिन में नींद आना
  • जोर से खर्राटे लेना
  • नींद के समय साँस लेने में कठिनाई होना
  • अचानक जग जाना
  • गले में खराश
  • सुबह सिरदर्द होना
  • ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई होना
  • मूड में बदलाव आना
  • उच्च रक्तचाप
  • रात में पसीना आना
  • सेक्स करने में अनिच्छा होना

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया के घरेलू उपचार: Obstructive Sleep Apnea Treatment at home in Hindi:

  • ऑबस्ट्रक्टिव स्लीप एपनिया (Obstructive Sleep Apnea in Hindi) में मोटापा मुख्य कारण है। यह अनुमान लगाया जाता है कि 10 प्रतिशत वजन का बढ़ना भी एपनिया और हाइपोएपनिया की स्थिति को और गंभीर बना देता है। ऐसी स्थिति में 10 प्रतिशत वजन घटने से एपनिया और हाइपोएपनिया की स्थिति को काफी हद तक कम कर सकता है इसलिए एक स्वस्थ जीवनशैली और आहार जो वजन कम करता है, उससे ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (Obstructive Sleep Apnea) में सुधार लाया जा सकता है।
  • ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (Obstructive Sleep Apnea) से पीड़ित ज्यादातर लोग खुद को थका हुआ पाते है, उनके पास व्यायाम करने की उर्जा नहीं होती। मरीज का व्यवहार और जटिल हो जाता है, जब वह ज्यादा थक जाता है, तब व्यायाम कम कर पाता है जिससे वजन और अधिक बढ़ जाता है और तब ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (Obstructive Sleep Apnea) की स्थिति और गंभीर हो जाती है। इसलिए ऐसे उपायों पर ध्यान देना चाहिए जिससे वजन कम किया जा सकें।
  • अपने बेडरूम में शोर और प्रकाश को कम करने की कोशिश करें
  • बिस्तर पर टीवी देखने और पढ़ने की आदत छोड़ दें
  • सोने के पहले खाना ना खाएं और ना ही व्यायाम करें
  • बेडरूम का इस्तेमाल सिर्फ सोने के लिए ही करें
  • काम संबंधी गतिविधि बेडरूम से बाहर करें

स्लीप एपनिया से बचाव: Prevention of Sleep Apnea in Hindi:

  • अतिरिक्त वजन कम करना: थोड़ा वजन कम करने से भी गले के संकुचन में आराम दिलाने में मदद मिलती है। अगर स्वस्थ वजन बनाकर रखा जाए तो कुछ मामलो में स्लीप एपनिया से पूरी तरह छुटकारा पाया जा सकता है। वजन फिर से बढ़ने के साथ-साथ स्लीप एपनिया के भी फिर से विकसित होने की संभावनाएं बढ़ जाती है।
  • नियमित व्यायाम करना: नियमित रूप से व्यायाम करना ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया के लक्षणों (Obstructive Sleep Apnea Symptoms) को काफी कम कर देता है। 30 मिनट तक शरीर को मध्यम गतिविधि देने का प्रयास एक अच्छा लक्ष्य होता है। हफ्ते के ज्यादातर दिन ब्रिस्क वॉक करें।
  • शराब और अन्य ट्राइंक्विलाइजर जैसी दवाओं का सेवन करने से बचें: इनका सेवन करने से श्वास मांसपेशियां और गले का पिछला भाग शिथिल (Relax) हो जाता है, जिससे सांस लेने की प्रक्रिया में हस्तक्षेप होता है।
  • पीठ के बल सोने की बजाए पेट के बल या एक तरफ मुंह करके सोएं: पीठ के बल सोने के कारण जीभ और नरम तालु शिथिल होकर गले में पीछे की तरफ झुक जाती है, जिससे वायुमार्ग में रुकावट होती है। पीठ के बल सोने की आदत से छुटकारा पाने के लिए अपने पजामें के पिछले हिस्से के ऊपरी भाग में एक टेनिस बॉल सील कर पाया जा सकता है।
  • रात को सोते समय अपने नाक द्वार खोल कर रखें: रात के समय अपनी नाक को खोल कर रखने के लिए सेलाइन नेजल स्प्रे का प्रयोग करें। किसी भी प्रकार के डिकॉन्जेस्टेंट और एंटीहिस्टामिन नेजल स्प्रे का प्रयोग करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें क्योंकि आमतौर पर यह दवाईयाँ थोड़े समय तक उपयोग करने के लिए ही सुझाई जाती है।
  • धूम्रपान छोड़ें: धूम्रपान का सेवन ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (Obstructive Sleep Apnea) की स्थिति को और गंभीर कर सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित इस लेख में सामान्य जानकारी दी गई है। अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐपडाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.