National Epilepsy Day: क्यों आते हैं मिर्गी के दौरे? जानें, लक्षण और बचाव के उपाय

National Epilepsy Day

मिर्गी को डॉक्टर की भाषा में एपिलेप्सी के नाम से जाना जाता है। मिर्गी से पीड़ित लोगों के साथ उनके परिवार को भी मिर्गी के प्रति जागरूक करने के लिए हर साल 17 नवंबर को नेशनल एपिलेप्सी डे (National Epilepsy Day) मनाया जाता है। आमतौर पर लोगों को लगता है कि मिर्गी सिर्फ एक ही तरह की होती है लेकिन आपको बता दें कि मिर्गी को एक नहीं बल्कि 4 भागों में बांटा जाता है। आइए जानते है क्या होती है मिर्गी, इसके प्रकार, लक्षण और बचाव के तरीके। 

अगर आपका शरीर अकड़ जाता है तो यह मिर्गी का एक लक्षण हो सकता है। इससे बचने के लिए आप पर्याप्त नींद लें।

If your body numbs, then it could be a sign of epilepsy. To prevent this, take adequate sleep.

Health Tips for Aayu App

मिर्गी के दौरे क्यों पड़ते है?

मिर्गी के कारण और मिर्गी के दौरे पड़ने के कारण ऐसा होता है। मिर्गी के दौरे पड़ने के कारण वो होते हैं जिनके संपर्क में आने से या जिनकी वजह से आपको दौरे पड़ने शुरू होते हैं। पहली बार दौरा पड़ने से व्यक्ति को बहुत अधिक स्ट्रेस हो सकता है। मिर्गी के दौरे पड़ने की वजह अनुवांशिक कारक या दिमाग को नुकसान होना हो सकती है।

अगर आपको मिर्गी की बीमारी है, तो इसका मतलब है आपको दौरे पड़ने की संभावना हमेशा रहती है और शराब, नींद की कमी, दवाएं, कुछ खाद्य पदार्थ, प्रकार के प्रति संवेदनशीलता या स्ट्रेस जैसे कारण दौरों को उत्तेजित कर देते हैं। हर व्यक्ति के लिए मिर्गी का दौरा पड़ने की वजह अलग-अलग होती है।

National Epilepsy Day: मिर्गी क्या है?

मिर्गी एक तरह का न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर है, जिसमें मरीज के दिमाग में असामान्य तरंगें पैदा होती है। मस्तिष्क में गड़बड़ी होने के कारण व्यक्ति को बार-बार दौरे पड़ने लगते है। जिसकी वजह से व्यक्ति का दिमागी संतुलन पूरी तरह से गड़बड़ा जाता है और उसका शरीर लड़खड़ाने लगता है।

इसका प्रभाव शरीर के किसी एक हिस्से पर देखने को मिल सकता है, जैसे चेहरे, हाथ या पैर पर। इन दौरों में अलग-अलग तरह के लक्षण होते है, जैसे कि बेहोशी आना, गिर पड़ना, हाथ-पांव में झटके आना। मिर्गी के दौरे अलग-अलग बिमारियों में आ सकते है।

मिर्गी के प्रकार: 

मिर्गी के दौरान पड़ने वाले दौरों के आधार पर यह 4 तरह की होती है। 
सामान्यीकृत दौरा (Generalized Epilepsy): इस तरह का दौरा तब पड़ता है जब मरीज के पूरे दिमाग में करंट फैलता है और मरीज बेहोश हो जाता है। यह दौरा बहुत सामान्य है।

आंशिक दौरा (Partial (focal) Epilepsy): इस दौरे में रोगी के मस्तिष्क के कुछ हिस्सों में मिर्गी की गतिविधि होती है। इस अवस्था में करंट शरीर के एक हिस्से से निकलकर उसी हिस्से में बना रहता है।

Absence Seizures: इसमें मरीज कोई हरकत नहीं करता। गुमसुम बैठा रहता है। हाथ हिलाने लगता या मुँह हिलाने लगता है लेकिन बात नहीं करता।

Complex Partial Seizures: इसके लक्षण भी कुछ-कुछ एब्सेंस सीजर की तरह होते है।

मिर्गी के लक्षण:

  • आंखों के आगे अंधेरा छा जाना
  • शरीर का अकड़ जाना
  • मुँह से झाग आना
  • अचानक गिर जाना
  • बेहोश हो जाना
  • आंखों की पुतलियों का ऊपर की तरफ खिंचना
  • हाथ या पैर का लगातार चलना या झटके से लगना
  • होंठ या जीभ काट लेना

मिर्गी के दौरान अपनाएं बचाव के उपाय:

  • साइकिल चलाते समय हेलमेट पहनकर रखें। 
  • पर्याप्त नींद लेना
  • अल्कोहल या नशीली दवाओं का अधिक सेवन करने से बचें।
  • तेज चमकती रोशनी से बचें।
  • तनाव से दूर रहें। 
  • टीवी और कंप्यूटर के आगे ज्यादा देर तक ना बैठें।

अस्वीकरण: सलाह सहित इस लेख में सामान्य जानकारी दी गई है। अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐपडाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है। 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.