इन 5 घरेलू तरीके से करें मांसपेशियों में तनाव का उपचार

मांसपेशियों में तनाव

चेरी के खट्टे जूस में एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है जो मांसपेशियों में तनाव या दर्द को कम करता है।

Cherry sour juice contains antioxidants in it reduces muscle pain or tension.

Health Tip for Aayu App

आजकल हमारी जिंदगी भागदौड़ वाली हो गई है जिस वजह से मांसपेशियों में तनाव होता है। मांसपेशियों को जब उनके क्षमता से ज्यादा काम करना पड़ता है तब मांसपेशियों में दर्द होने लग जाता है। इसके और भी कई कारण हो सकते है जैसे काम में होने वाला मानसिक तनाव होना, कोई चीज पकड़ते समय मांसपेशियों में दर्द होना आदि। आपको यहाँ हम आपको मांसपेशियों में तनाव के लक्षण, मांसपेशियों में तनाव के कारण, मांसपेशियों में तनाव के उपचार।

आइये जानते है मांसपेशियों में तनाव को कैसे पहचाने। जिससे आप किसी गंभीर स्थिति में आने से बच सकते है।

मांसपेशियों में तनाव के लक्षण (Symptoms of Stress muscle pain)

मांसपेशियों का दर्द शरीर की किसी भी मांसपेशी में हो सकता है। अगर आप इसके सही समय पर लक्षण नहीं पहचान पाते तो यह तनाव बढ़ सकता है। इसलिए समय रहते मांसपेशियों में तनाव के लक्षण पता होने चाहिए जिससे आप इन लक्षणों को नजरअंदाज ना करें और गंभीर समस्या से बच सकें।

  • मांसपेशियों में अचनाक दर्द शुरू होना।
  • मांसपेशियों में सूजन आना या उनका लाल पड़ जाना।
  • आराम करते समय दर्द महसूस होना।
  • रोज काम करने की गतिविधियों मेें कमी आना।
  • मांसपेशियों में ऐंठन का महसूस होना।
  • कमजोरी महसूस होना।

अब आपको यह जानना भी जरूरी है कि मांसपेशियों में तनाव क्यों होता है।

मांसपेशियों में तनाव
muscle pain relieve

मांसपेशियों में तनाव के कारण (Causes of muscle stress)

  • शारीरिक गतिविधि करना: कसरत शुरू करते समय आपको मांसपेशियों में दर्द हो सकता है। इसके अलावा, काम करते समय अनुचित तकनीक से दर्द हो सकता है।
  •  जीवनशैली में बदलाव लाना: लंबे समय तक बैठकर अपने फोन पर देखना, झुके रहना कुछ ऐसी आदतें हैं जो मांसपेशियों में दर्द का कारण हो सकते हैं। दर्द किस कारण से हो रहा है यह पहचानना जरूरी है और अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में बदलाव करने से आपको दर्द कम करने में मदद मिलेगी।

मांसपेशियों में तनाव के कुछ असरदार घरेलू उपचार अपना सकते है जिनसे आपको मांसपेशियों में तनाव या दर्द कम होगा।

मांसपेशियों में तनाव के 5 उपचार (5 Tips to cure muscle stress)

  • सेंधा नमक है मांसपेशियों में तनाव का घरेलू उपचार:

इसमें मैग्‍नीशियम सल्‍फेट पाया जाता है जो मांसपेशियों को आराम देने की प्राकर्तिक सामग्री है। मैग्‍नीशियम मांसपेशियों में दर्द पैदा करने वाले टिश्यू से फ्लूइड को बाहर निकालता है।

कैसे करें सेंधा नमक का इस्तेमाल:

एक कप सेंधा नमक लें और उसे गर्म पानी में डालें। अब प्रभावित हिस्‍से को ठंडा पानी होने तक इसी में डुबोएं। इस बात का ध्‍यान रखें कि पानी ज्‍यादा ठंडा नहीं होना चाहिए। आप हफ्ते में तीन बार ऐसा करें।

  • एप्पल साइडर विनेगर का करें इस्तेमाल:

एप्‍पल साइडर विनेगर में एलकेलाइन गुण होते हैं जो सूजन रोधी होते है जो मांसपेशियों में दर्द और सूजन कम करते है।

कैसे करें एप्पल साइडर विनेगर का इस्तेमाल:

एक गिलास पानी में एक चम्‍मच एप्‍पल साइडर विनेगर मिलाकर पिएँ या फिर इसे सीधा प्रभावित हिस्‍से पर भी लगा सकते है।

  • चेरी जूस का करें इस्तेमाल:

खट्टी चेरी के जूस में एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है जो मांसपेशियों में तनाव कम करने में मदद करते है।

कैसे करें चेरी के जूस का इस्तेमाल:

दर्द और जलन को कम करने के लिए चेरी का खट्टा रस पिएँ।

  • ठंडी सिकाई करें:

ठंडी सिकाई से रक्‍त वाहिकाएं संकुचित होती हैं और प्रभावित हिस्‍से में रक्‍त प्रवाह कम होने से सूजन में कमी आती है।

कैसे करें ठंडी सिकाई:

हर 24 से 72 घंटे में 20 से 30 मिनट के लिए ठंडी सिकाई करें।

  • ​हल्दी है फायदेमंद:

हल्दी में कर्क्युमिन तत्व पाया जाता है। ये तत्व मांसपेशियों के दर्द, सूजन और तनाव से राहत दिलाता है।

हल्दी का कैसे करें इस्तेमाल:

एक गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी डालें और इसे 5 मिनट हल्की आंच पर गर्म करें। इस दूध में एक चम्मच शहद मिलाएं और इसे पी लें।

यह लेख केवल आपको सामान्य जानकारी देता है।अगर आपको किसी तरह की तकलीफ है तो हमारे प्लेटफार्म पर कई विशिष्ट डॉक्टर उपलब्ध है जिनसे आप ऑनलाइन परामर्श लें सकते है। आप हमारे टोल फ्री नंबर 781-681-1111 पर भी कॉल करके इसके बारे में जानकारी लें सकते है।

अगर आप इसी तरह की सामान्य स्वास्थ्य संबंधी जानकारी जानना चाहते है तो अभी अपने फोन पर आयु ऐप डाउनलोड कर सकते है। यह आपको इसी तरह की स्वास्थ्य संबंधी जानकारी देता है जिसे आप कही भी किसी भी समय पढ़ सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.