मुँह में जलन क्यों होती है, लक्षण, कारण, उपचार | Daily Health Tip | Aayu App

burning mouth syndrome

अगर आपको भोजन में स्वाद नहीं आ रहा है तो यह बर्निंग माउथ सिंड्रोम का लक्षण हो सकता है। इसलिए मुँह में जलन होने पर मसालेदार भोजन के सेवन से बचें।

If you are not getting a taste in your food, then it can symptom of burning mouth syndrome. Therefore, avoid spicy food.

Health Tip for Aayu App

मुँह में जलन होना क्या है?

बिना किसी वजह के बार-बार मुँह में होने वाली जलन को चिकित्सकीय भाषा में मुँह में जलन होने की समस्या कहते है। इसके कारण जीभ, मसूड़ों, होंठों, गालों के अंदर, मुँह के ऊपरी हिस्से और पूरे मुँह में परेशानी हो सकती है। मुँह में जलन की समस्या अचानक उभरती है और यह धीरे-धीरे गंभीर हो सकती है।

मुँह में जलन की समस्या का कारण पता लगाया नहीं जा सकता। इसलिए इसका इलाज करना भी बहुत मुश्किल है। अपने डॉक्टर के साथ अपने ध्यान से विचार-विमर्श और इलाज से यह परेशानी कम हो सकती है।  

मुँह में जलन के लक्षण:

मुँह में जलन के कुछ लक्षण है।

  • सामान्य रूप से जीभ में जलन महसूस होती है लेकिन यह होठों, मसूड़ों, तालु, गले या पूरे मुँह में महसूस हो सकती है। 
  • खाने का स्वाद नहीं आना
  • स्वाद बदल जाना, मुँह में कड़वा या धातु जैसा स्वाद रहना
  • मुँह सूखने और ज्यादा प्यास लगने की समस्या होना  

मुँह में जलन की समस्या के कारण होने वाली परेशानी अलग-अलग तरह की होती है। यह रोज हो सकती है जिससे आपको सुबह उठते ही थोड़ी परेशानी महसूस हो सकती है और धीरे-धीरे बेचैनी भी बढ़ सकती है या फिर यह समस्या सुबह से शाम तक भी रह सकती है। 

आपको मुँह में जलन की समस्या जिस भी तरह हो रही हो यह कई महीनों या सालों तक आपको परेशान कर सकती है। बहुत कम मामलों में इस समस्या के लक्षण अपने आप खत्म हो जाते हैं या बहुत कम दिखते है। मुँह में जलन के कारण आपके मुँह में या जीभ में कोई खास परिवर्तन नहीं आता जिसे आसानी से देखा जा सकता हो। 

मुँह में जलन के कारण:

मुँह में जलन के कारणों को दो हिस्सों में बांटा जा सकता है एक प्राथमिक (Primary) और एक द्वितीयक (Secondary)।

मुँह में जलन के प्राथमिक कारण:

जब चिकित्सकीय या लैब जाँच में किसी वजह का पता नहीं चलता तो उसे प्राइमरी या “ईडीओपैथिक” (अज्ञात कारण से एकदम से होने वाली बीमारी) मुँह में जलन की समस्या कहा जाता है। मुँह में जलन की समस्या स्वाद और दिमाग या रीढ़ की हड्डी (Peripheral or Central Nervous System)  की नसों की समस्या से संबंधित है। 

मुँह में जलन के द्वितीयक कारण:

मुँह में जलन अन्य समस्याओं की वजह से हो सकती है। ऐसे में इसे “सेकेंडरी” कहा जाता है। उदाहरण के तौर पर, यह पोषण की कमी की वजह से हो सकती है, जैसे कि शरीर में आयरन, जिंक, विटामिन बी-9, विटामिन बी-1, विटामिन बी-2 की कमी।

इसके अलावा मुँह में जलन परेशानियों की वजह से हो सकती है:

  • मुँह सूखने की समस्या: यह समस्या विभिन्न दवाओं, स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं, लार ग्रंथि से जुडी परेशानियों के कारण या कैंसर के इलाज के असर (Side Effect) से हो सकती है। 
  • नकली दांत: विशेष तौर पर नकली दांत बिल्कुल ठीक ना बैठे हों तो वह कुछ मांसपेशियों और ऊतकों (Tissue) पर जोर डाल सकते हैं  या फिर वह किसी ऐसी चीज से बने हों जिससे ऊतकों (tissue) में जलन पैदा हो सकती है।
  • मुँह की अन्य बीमारियाँ: मुँह में फंगल संक्रमण, “लाइकेन प्लेनस” (Lichen Planus) के कारण जिसमें त्वचा पर चकत्ते पड़ जाते हैं या जियोग्राफिक टंग जिसमें जीभ पर नक़्शे सी आकृति उभर आती है।

कभी-कभी मुँह में जलन अन्य परेशानियों के कारण भी हो सकती है, जैसे कि:

  • पेट में बन रहे एसिड का ग्रासनली में आ जाना (Gastroesophageal Reflux Disease): जब पेट में बन रहा एसिड ग्रासनली (Esophagus) में आ जाता है जिससे जलन शुरू हो जाती है।
  • स्रावी ग्रंथियों (Secretary Glands) से जुड़े रोग (एंडोक्राइन रोग) डायबिटीज और थायराइड बढ़ने जैसे रोग। 
  • एलर्जी: किसी खाद्य पदार्थ, खाने को जायकेदार और सुगन्धित बनाने वाले पदार्थों, रंग या दांतों में इस्तेमाल की गई चीजों से होने वाली एलर्जी।
  • मानसिक परेशानियाँ: चिंता, डिप्रेशन या तनाव।
  • मुँह में अन्य तरह की परेशानी: साफ करने के लिए जीभ को ज्यादा रगड़ना, खुरदरे मंजन, माउथवॉश का ज्यादा इस्तेमाल करना या खट्टे पेय का अधिक सेवन, जैसे नींबू आधारित पेय।
  • कुछ दवाएं: खास तौर से हाई बीपी की दवाएं।
  • कुछ आदतें: जीभ दबाना, जीभ के अगले हिस्से को काटना और दांत पीसना। 

मुँह में जलन से बचाव:

मुँह में जलन रोकने के उपाय का अब तक पता नहीं चल पाया लेकिन तम्बाकू छोड़ दें, खट्टी या एसिडिटी पैदा करने वाली अन्य चीजें ना खाएं, ज्यादा मसाले का सेवन ना करें, कार्बोनेटेड (कार्बन डाइऑक्साइड युक्त) पेय से बचें और ज्यादा तनाव में ना रहें तो मुँह में जलन की परेशानी कम हो सकती है या इसे बढ़ने से रोका जा सकता है।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें  

Leave a Reply

Your email address will not be published.