Dengue और Malaria ही नहीं, ये बीमारी भी मानसून में हो जाती है सक्रिय

person holding an umbrella during rain
शेयर करें

बारिश की बूंदे, बादलों से घिरा हुआ आसमा और गरमा-गरम पकौड़े के अलावा और भी कुछ है, जो इस मौसम में मिलाता है. वो है बारिश से होने वालीं बीमारी जो हमारे शरीर पर काफी हावी हो जाती है. आइए जानते है बारिश से होने वाली पांच बीमारियों के बारे में, जिसको पढ़कर आप खुद को और अपने परिवार को स्वस्थ्य रख सकते हैं.

डेंगू | Dengue

  • बरसात के मौसम में डेंगू फैलने की संभावना ज्यादा रहती है.
  • डेंगू, बुखार, वायरल है जो मानसून के दौरान मादा एडिज इजिप्टी नामक मच्छर से फैलता है.
  • इसमें तेज बुखार, सिर दर्द, आंखों के पिछले हिस्से में दर्द, जी मिचलाना और उल्टी आना जोड़ों और मांसपेशियों में ऐठन और अकड़न, त्वचा पर चक्कते उभरना, शारीरिक कमजोरी और थकान आदि के लक्षण होते हैं.

मलेरिया | Malaria

  • बरसात के मौसम में आप पर हमला करने वाले सभी रोगों में सबसे आम मलेरिया है.
  • मलेरिया दुनिया की सबसे जानलेवा बीमारियों में से एक है.
  • म‍लेरिया एक वाहक जनित संक्रामक रोग है जो मादा एनाफलीज मच्छर के काटने से लाल रक्त कोशिकाओं में प्रोटोजोवा नाम का परजीवी पैदा हो जाने के माध्‍यम से यह फैलता है

हैजा | Cholera

  • हैजा एक और बीमारी है जो आपके जीवन के लिए खतरनाक हो सकती है.
  • आमतौर पर यह बीमारी दूषित पानी और भोजन के माध्‍यम से बरसात के मौसम में फैलती है.
  • घर के अंदर और बाहर स्‍वच्‍छता की कमी रोग को फैलने में मदद करती है.
  • इस रोग के होने पर रोगी को दस्त और उल्टियां अधिक आने लगते हैं. पेट में दर्द बढ़ने लगता है। रोगी को बैचैनी तथा प्यास की अधिकता हो जाती है.

ये भी पढ़े-साइनस की समस्या से ना हो परेशान, जानें लक्षण, उपचार व उपाय

टाइफाइड | Typhoid

  • यह बीमारी मानसून के दौरान बेहद तेजी के साथ फैलती है.
  • संक्रमित पानी या आहार से इस रोग के होने की संभावना अधिक होती है.
  • इस बीमारी में तेज बुखार आता है, जो कई दिनों तक बना रहता है.
  • यह बुखार कम-ज्यादा होता रहता है, लेकिन कभी एक जैसा नहीं होता.
  • इस बीमारी की सबसे खतरनाक बात यह है कि व्‍यक्ति के ठीक होने के बाद भी संक्रमण रोगी के पित्ताशय में एक्टिव रहता है.
girl sneezing due to cold,Dengue and malaria

कोल्ड | Cold

  • बरसात के दिनों में सबसे ज्यादा आपके शरीर को प्रभावित कोल्ड करता है.
  • बच्चों से लेकर बुजूर्गों तक को इस बीमारी का सामना करना पड़ता है.
  • कोल्ड की वजह से बार-बार छींक आता है और नाक से लगातार पानी बहता रहता है.
  • गले में खराश होने लगता है और माथा हमेशा भारी रहता है.

ये भी पढ़ेसर्दी-जुकाम में सहायक 5 ओषधीय पौधे

मानसून में सबसे ज्यादा बीमारी पानी की वजह से होती है, इसलिए अपने घर में कही पर भी बारिश के पानी को जमा नहीं होने दें. घर में पानी जमा होने वाले समानों से पानी निकाल कर उसे ऐसी जगहों पर रखें, जहां पर उसमें फिर से पानी जमा न हो सके. इसके आलावा बारिश की बूंदों से भी भीगने से बचे, क्यों की ये बूंंदें आपके स्वास्थ्य के लिए काफी हानिकारक होती है. कई तरह के बीमारियों को भी आमंत्रित करती है.

मेडकॉर्ड्स है आपका सहायक :

बारिश के मौसम में होने वाली बीमारियों से अगर आप भी परेशान है और अनुभवी डॉक्टरों की तलाश है तो आज ही हमारे टोल फ्री नंबर +91-781-681-1111 पर कॉल करें और नज़दीकी सेहत साथी के पास जा कर एक्सपर्ट डॉक्टर से सलाह लें. याद रहे की लक्षण गंभीर होने पर घरेलु इलाजों पर निर्भर न रहें और जल्द से जल्द डॉक्टर से सलाह लें.

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.