मसूर की दाल के फायदे | Daily Health Tip | Aayu App

मसूर की दाल के फायदे

अपनी डाइट में मसूर की दाल शामिल करें। इसमें मौजूद हाई फाइबर की मात्रा डाइजेशन प्रोसेस को धीमा कर देती है जो वजन करने में कारगर है।

Include Lentil Pulse in your diet. It contains a high amount of fibre that slows the digestion process which in turn helps in weight loss.

Health Tip for Aayu App

हर घर में लोग मसूर की दाल खाते हैं। कई लोग मसूर की दाल के पकौड़े बनाकर भी खाते हैं। लेकिन क्या आप जानते है रोगों के इलाज में भी मसूर की दाल के फायदे मिलते हैं, और मसूर की दाल से कई बिमारियों से रोकथाम और इलाज मिलता है।

मसूर की दाल के फायदे:

चेहरे की रोनक बढ़ाने में मददगार: चेहरे की रोनक बढ़ाने के लिए आप मसूर को भूनकर, उनका छिलका हटा लें। इसे दूध के साथ पीसें। इसमें मधु और घी मिलाकर मुँह में लेप के रूप में लगाएं। इससे चेहरे के दाग-धब्बे खत्म हो जाते हैं। (यह भी पढ़ें: चेहरे की रोनक कैसे बढ़ाए)

चेहरे की झाई हटाने में फायदेमंद: चेहरे की झाई में मसूर को घी से पीसें। इसमें दूध मिलाए, या दूध से पीसकर चेहरे पर लेप करें। इससे चेहरे की झाई की समस्या ठीक होती है।

छाले में मसूर की दाल के फायदे: मुँह के छाले में मसूर की ना के बराबर मात्रा में कत्था मिलाकर पीस लेंं। इसे मुँह के छाले पर लगाएं। इससे मुँह के छाले मिटते हैं।

पैरों की जलन में फायदेमंद: कई लोगों को पैरों के तलवों में जलन की परेशानी होती है। ऐसा उच्च रक्तचाप के कारण हो सकता है। मसूर को पीसकर पैरों के तलवों पर लगाएं इससे पैरों की जलन मिट जाती है।

त्वचा रोग में मसूर के फायदे: त्वचा रोग में चेहरे या त्वचा पर लाल दाग हो जाते है। रोगग्रस्त अंगों में सूजन के साथ दर्द भी होने लगता है। यह फोड़े के रूप में भी हो सकता है। इसके लिए मसूर की दाल को पीस लें। इसमें घी मिलाकर लगाने से लाभ मिलता है।

उल्टी रोकने में मसूर के फायदे: उल्टी रोकने के लिए मसूर के आटे को 50 ग्राम की मात्रा में लें। इसमें 100 मिलीग्राम अनार का रस मिला लें। इसे मथें और फिर इसे पिएँ। यह उल्टी रोकने में मदद करता है।

दांतों के रोग में मसूर के फायदे: दांतों के रोग में मसूर की दाल का सेवन लाभदायक होता है। मसूर की दाल को पूरी तरह जलाएं। इस भस्म को दांतों पर रगड़ने से दांतों के विकार ठीक होते है।

सांस की बीमारी में मसूर के फायदे: सांसों से संबंधित नलिका (श्वसनतंत्र) से संबंधित परेशानी को ठीक करने के लिए मसूर से बने जूस (दाल का पानी) को 20-40 मिली की मात्रा में सेवन करना चाहिए। इससे श्वसनतंत्र में होने वाला दर्द ठीक होता है। (यह भी पढ़ें: सांस की समस्या से कैसे बचें?)

साइनस रोग में मसूर के फायदे: साइनस रोग में मसूर तथा अनार के छिलके को पीसकर घाव पर लगाएं। इससे साइनस में लाभ मिलता है।

आंखों की बीमारी में मसूर के फायदे: आंखों के रोग में मसूर दाल का सेवन फायदेमंद होता है। ऐसे लोग जिन्हें आंखों से संबंधित कोई परेशानी है वह मसूर की दाल का सेवन कर सकते है।

घाव भरने में मसूर के फायदे: पुराने घावों को मसूर के इस्तेमाल से ठीक किया जा सकता है। मसूर की भस्म बना लें। भस्म में भैंस का दूध मिलाकर सुबह और शाम घाव पर लगाएं। इससे घाव जल्दी भरता है।

स्तनों के दर्द में मसूर के फायदे: अनेक महिलाओं को स्तनों में दर्द की शिकायत रहती है। इस रोग में मसूर का उपयोग फायदेमंद होता है। मसूर को पीसकर स्तनों पर लेप करने से स्तनों का दर्द ठीक होता है।

कमर और पीठ दर्द में मसूर के फायदे: कमर दर्द की परेशानी से कई लोगों को परेशानी हो सकती है। कमर और पीठ दर्द के लिए मसूर को सिरके के साथ पीस लें। इसे हल्का गुनगुना करके कमर और पीठ पर लगाएं। इससे कमर और पीठ का दर्द ठीक होता है। (यह भी पढ़ें: कमर दर्द की समस्या के लक्षण)

कब्ज की समस्या में मसूर के फायदे: मसूर की दाल के फायदे में कब्ज की समस्या भी शामिल है। कब्ज की समस्या में मसूर के दाल का पानी पिएँ। इससे कब्ज की बीमारी ठीक होती है। इसमें सेवन की मात्रा 20-40 मिली होनी चाहिए।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाउनलोड करें । क्लिक करें   

Leave a Reply

Your email address will not be published.