KIDNEY STONE | गुर्दे की पथरी ना कर दें गुर्दे ख़राब, पहचाने जल्दी

शेयर करें

गलत खान-पान व पानी कम पीना आपके लिए ख़तरनाक बन सकता है। इन आदतों के चलते अगर आपके पेट में असहनीय दर्द होता है तो ये इशारा है गुर्दे की पथरी यानी किडनी स्टोन (Kidney Stone) का। किडनी स्टोन (Kidney Stone) या पथरी आजकल बहुत आम समस्या बन गयी है।

आपके गुर्दे, मूत्र को बनाने के लिए आपके रक्त से अपशिष्ट और तरल पदार्थ निकालते हैं। कभी-कभी, जब आपके शरीर में अधिक अपशिष्ट पदार्थ होते हैं और रक्त में पर्याप्त तरल नहीं होता है, तो ये अपशिष्ट आपके गुर्दे में इकठ्ठा हो कर चिपक सकते हैं। अपशिष्ट के इन गुच्छों को गुर्दे की पथरी (Kidney Stone) कहा जाता है।

भारत में 11 % लोग इस समस्या से पीड़ित हैं। पुरुषों में इसके होने की संभावना ,महिलाओं से 3 गुना अधिक होती है। पथरी की संभावना 30 से 50 वर्ष आयु के पुरुषों में ज़्यादा होती है।

पथरी (Kidney Stone) होने पर पेट, पेट के निचले हिस्से या पीठ के एक तरफ बहुत तेज़ दर्द उठता है। ये दर्द अचानक शुरू होता हे व असहनीय हो जाता है। कभी कुछ मिनट के बाद ये गायब हो जाता है। अगर आपको इस दर्द के साथ कुछ और लक्षण दिखाई दें तो आप तुरंत चिकित्सक को दिखाएं। ये लक्षण हैं:

symptoms of kidney stone

पथरी (Kidney Stone) के कई कारण हो सकते हैं जैसे:

  • पानी कम पीना
  • अधिक प्रोटीन व नमकयुक्त खाना
  • पारिवारिक इतिहास
  • अधिक दवाएं लेना
  • अधिक ओक्सेलट वाला आहार (जैसे पालक, साबूत अनाज आदि)
  • कई अन्य बीमारियाँ जैसे हाई ब्लड प्रेशर, थाइरोइड आदि

मेडकॉर्ड्स डॉक्टर के अनुसार किडनी स्टोन (Kidney Stone) को रोकने के लिए कई तरह के उपाय किये जा सकते हैं। कई बार पथरी केवल अधिक पानी पीने व दवाओं से मूत्र के साथ निकल जाती हैं जबकि उसका आकार बड़ा होने पर सर्जरी करनी पड़ सकती है। ध्यान दें कि आप पथरी (Kidney Stone) को उसके शुरूआती स्तर पर पहचान लें व इसको केवल पानी व दवाओं से उपचारित कर लें।

पथरी अथवा किडनी स्टोन से कैसे बचें:

1. अधिक मात्रा में पानी पियें

2. भोजन में नमक व प्रोटीन की मात्रा कम करे दें

3. कैल्शियम अधिक मात्रा में लें

4. पथरी बनाने वाले खाद्य पदार्थ जैसे पालक, चॉकलेट, चाय, चुकंदर आदि से बचें

5. निर्जलीकरण करने वाले पेय जैसे कोल्ड ड्रिंक्स, कॉफ़ी आदि ना लें

पथरी का इलाज:

  • छोटे आकार  की पथरी अधिक पानी पीने से घुल कर मूत्र के साथ निकल जाती है।
  • अन्य मामलों में दवाइयों द्वारा पथरी को घोल के निकाला जाता है।
  • कई गंभीर मामलों में पथरी का आकार बहुत बड़ा होने पर सर्जरी करनी पड़ सकती है जो आपकी स्थिति के आधार पर निम्न प्रकार की होती है:
  1. लिथोट्रिप्सी: ध्वनि तरंगों द्वारा बड़ी पथरी को तोड़ा जाता है।

  2. पर्क्युटेनिअस नेफ्रोलिथोटोमी: चीरे के माध्यम से पथरी को हटाया जाता है।

  3. यूरेटेरोस्कोपी: एक उपकरण यूरेट्रोस्कोप द्वारा पथरी को निकाला जाता है।

पथरी (Kidney Stone) को सामान्य ना लें और किसी भी तरह के पेट या पीठ दर्द होने पर तुरंत चिकित्सक को दिखाए। डॉक्टर कुछ टेस्ट्स द्वारा इसका पता करके आपको समय पर उचित इलाज़ देगा।

HYPERTENSION | हाइपरटेंशन हो सकता है ख़तरनाक, जानें नियंत्रण के तरीके

ध्यान दें आपकी किडनी आपके शरीर के अवशिष्ट को साफ़ करने का कार्य करती है अतः उसका स्वस्थ रहना बहुत ज़रूरी है। इसको अनदेखा करने पर किडनी फेलियर जैसे दुष्परिणाम भी हो सकते हैं।


मेडकॉर्ड्स अब तक 3 लाख लोगों को पथरी या किडनी स्टोन (Kidney Stone) से समबन्धित मामलों में परामर्श दे चुका है।

यदि आपको स्वयं में या आपके परिवार के किसी सदस्य में पथरी ( Stone) के लक्षण दिखाई देते हैं, तो आज ही हमारे टोल फ्री नंबर +91-781-681-1111 पर कॉल करें और नज़दीकी सेहत साथी के पास जाकर हमारे एक्सपर्ट डॉक्टर से सलाह लें। याद रहे की लक्षण गंभीर होने पर घरेलु इलाजों पर निर्भर न रहे और जल्द से जल्द डॉक्टर से सलाह लें।

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.