Karwa Chauth vrat: करवा चौथ के व्रत के पहले और बाद में बेहतर स्वास्थ्य के लिए खास टिप्स

Karwa Chauth vrat precaution during pregnancy

Karwa Chauth vrat 2020: करवा चौथ का व्रत पति की लंबी आयु के लिए रखा जाता है। करवा चौथ (Karwa Chauth vrat ) का व्रत सूर्योदय होने के साथ शुरू हो जाता है और चांद निकलने के बाद इस व्रत को खोला जाता है।

निर्जला व्रत होने के कारण इस व्रत को करने में खास सावधानी भी बरतनी होती है। धार्मिक ही नहीं स्वास्थ्य के लिहाज से भी व्रत खोलने के बाद पारन में खास चीजें खाने का महत्व होता है।

इस बार करवा चौथ 4 नवंबर (karwa chauth 2020) को पड़ रहा है। यह सुहागिन स्त्रियों का त्‍योहार है और अमूमन हर स्‍त्री इस दिन अपने पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखती है। हालांकि, गर्भवती महिलाओं को व्रत रखने के लिए मना किया जाता है। गर्भावस्था में करवा चौथ व्रत में ध्यान रखने योग्य बातें और नुकसान

1. करवा चौथ के व्रत में सावधानियां (Precautions during Karva Chauth vrat)

  • व्रत रखने से पहले ऊर्जा देने वाला खाना खाएं
  • व्रत खोलने के बाद एकाएक ढेर सारा पानी न पीएं
  • ऑयली और तेज मिर्च मसाले वाला खाना व्रत के बाद न खाएं

ये सबसे कठिन व्रतों में से एक माना जाता है। इस दिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र और अच्छे स्वास्थ्य के लिए ये व्रत रखती हैं। दिनभर वो पूरी श्रद्धा से अपने पति की लंबी उम्र और जीवन में तरक्की के लिए प्रार्थना करती हैं।

करवा चौथ पर अपने पति और परिवार को ‘आयु कार्ड’ से दें बेहतर स्वास्थ्य का वरदान- 👇

Buy Aayu Card from Aayu App

2. व्रत खोलने से पहले इन बातों का रखें ध्यान

करवा चौथ (Karwa Chauth vrat ) का व्रत कर रही महिलाएं व्रत खोलते समय आपको प्रोटीन युक्त भोजन से अपने खाने की शुरुआत करनी चाहिए। इसके लिए 200 ग्राम पनीर बेहतर होगा। 

यदि बार-बार प्यास लग रही हो तो फलों के रस में थोड़ा काला नमक या सेंधा नमक डाल कर पीएं। ये आपको दिनभर एनर्जेटिक रहने में मदद करेगा। और प्यास को शांत भी करेगा।

व्रत (Karwa Chauth vrat) खोलने के बाद एक साथ बहुत पानी पीना या चाय जैसी चीजों को बिलकुल न लें। ऑयली चीजों से व्रत खोलना आपके लिए सिर दर्द, बेचैनी और पेट दर्द का कारण बन सकता है।

3. करवा चौथ के व्रत में बताशे खा कर पींए थोड़ा सा पानी

करवाचौथ (Karwa Chauth vrat ) का व्रत पति के जल पिलाने के बाद ही खुलता है। पूजा के समय एक घूंट जल से व्रत खुल जाता है, लेकिन इसके बाद आप कभी एकाएक ढेर सारा पानी न पीएं। 

धार्मिक रूप से मान्यता है कि चांद की तरह नजर आने वाला साबूत एक बताशा खा कर थोड़ा सा पानी पीना चाहिए। ऐसा करने से माना जाता है कि करवाचौथ का फल पूरा मिल जाता है। स्वास्थ्य के लिहाज से भी यह माना जाता है कि कुछ खा कर थोड़ा पानी पीना चाहिए।

4.गर्भावस्‍था में व्रत रखने के नुकसान (Karwa Chauth vrat losses in pregnancy)

प्रेगनेंसी में लंबे समय तक भूखे रहने की वजह से पेट फूलने, एसिडिटी, मतली और असहज महसूस हो सकता है। यही वजह है कि गर्भवती महिलाओं को थोड़ी-थोड़ी देर में कुछ न कुछ खाते रहने की सलाह दी जाती है वरना उनकी तबियत खराब हो सकती है।

यदि आप बहुत कमजोर हैं तो व्रत न रखें और डॉक्‍टर से परामर्श करने के बाद ही व्रत रखने का फैसला लें।

डिस्क्लेमर: प्रस्तुत लेख में सुझाए गए टिप्स और सलाह केवल आम जानकारी के लिए हैं और इसे पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जा सकता। घर बैठे स्वास्थ्य सलाह और किसी भी बीमारी के लिए घर बैठे परामर्श लेने के लिए अभी “आयु ऐप डाउनलोड करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.