कच्चा पपीता खाने के फायदे | Daily Health Tip | Aayu App

kaccha papita khane ke fayde

ग्रीन-टी के साथ कच्चा पपीता आपको गठिया और जोड़ों की समस्या से छुटकारा दिलाता है।

Eat Raw papaya with green tea, it helps you get rid of arthritis and joint problems.

Health Tips for Aayu App

ज्यादातर लोग खाने के लिए कच्चा पपीता नहीं खरीदते और पके हुए पपीते को ही घर पर लाकर खाना पसंद करते है। इसका मतलब है कि आप कच्चे पपीते के फायदों के बारे में नहीं जानते।

आइये आपको कच्चे पपीते के कुछ फायदों के बारे में बताते है।

कच्चे पपीते के फायदे:

  • पके पपीते की तरह ही कच्चा पपीता भी पेट के रोगों में फायदेमंद है। यह गैस, पेटदर्द और पाचन की समस्याओं में फायदेमंद है और यह आपका पाचन तंत्र भी अच्छा करता है।
  • कच्चा पपीता गठिया और जोड़ों की समस्याओं में लाभदायक है। ग्रीन-टी के साथ उबालकर बनाई गई चाय सेवन गठिया को ठीक करने में मदद करता है।
  • कच्चा पपीता आपका वजन कम करने में मददगार है। इसका नियमित सेवन तेजी से फैट बर्न करने में मददगार है जिससे आपका वजन जल्दी कम होता है।
  • डायबिटीज के लिए भी कच्चे पपीते के फायदे बहुत हैं। यह खून में शुगर की मात्रा को कंट्रोल करने में मदद करता है और आपकी डायबिटीज कंट्रोल में रहती है।
  • इसका एक बेहतरीन फायदा यूरिन इंफेक्शन से बचाव है और उसे ठीक करने में फायदेमंद है। इसका नियमित इस्तेमाल करने से आपको इस समस्या से निजात मिल जाता है।
  • पीलिया हो या फिर लिवर संबंधी अन्य कोई समस्या, कच्चे पपीते का सेवन आपके लिए फायदेमंद है।
  • विटामिन ई, सी और ए के साथ एंटी-ऑक्सीडेंट, फीटोन्यूट्रिएंट्स और इसमें मौजूद अन्य पोषक तत्व, कैंसर से बचाव के साथ आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है।

कच्चे पपीते के नुकसान:

  • ज्यादातर हेल्‍थ एक्सपर्ट गर्भवती महिलाओं को पपीता खाने से बचने की सलाह देते हैं, क्योंकि पपीते के बीज और जड़ भ्रूण को नुकसान पहुँचा सकते हैं। पपीते में लेटेक्स की मात्रा ज्यादा होती है जो गर्भाश्य के सिकुड़ने का कारण बन सकती है। पपीते में मौजूद पपेन शरीर की झिल्ली को नुकसान पहुँचाते है जो भ्रूण के विकास के लिए आवश्यक है।
  • पपीते में भारी मात्रा में फाइबर पाया जाता है। कब्‍ज होने पर यह फायदा दे सकता है लेकिन इससे आपका पेट भी खराब हो सकता है। इसके अलावा, पपीते की बाहरी त्वचा में लेटेक्स होता है, जो पेट को अपसेट करता है और पेट दर्द का कारण बन सकता है।
  • पपीता ब्‍लड शुगर के लेवल को कम कर सकता है, जो डायबिटीज रोगियों के लिए खतरनाक हो सकता है। अगर आप मधुमेह के रोगी हैं, तो डॉक्टर से परामर्श लें।
  • पपीते में मौजूद पपेन से एलर्जी होने की संभावना है। इसके अधिक सेवन से रिएक्‍शन के तौर पर सूजन, चक्कर आना, सिरदर्द, चकत्ते और खुजली जैसी समस्याएँ हो सकती हैं।
  • पपीता में मौजूद एंजाइम पपेन को एलर्जी कहा जाता है। ज्यादा मात्रा में पपीते का सेवन अस्थमा, कंजेशन और जोर जोर से सांस लेने जैसी विभिन्न श्वसन संबंधी विकार पैदा कर सकते है।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाउनलोड करें । क्लिक करें  

Leave a Reply

Your email address will not be published.