जीभ में सूजन क्यों होती है, लक्षण, कारण और बचाव | Daily Health Tip | Aayu App

jeebh me sujan

जीभ में सूजन कई कारणों से हो सकती है जैसे विटामिन बी-12 की कमी आदि। इसके लिए आप अपनी डाइट में दूध और उससे बने पदार्थ शामिल करें।

Swelling in tongue can occur due to many reasons like deficiency of vitamin B-12. Include milk and milk products in your diet to avoid this issue.

Health Tips for Aayu App

जीभ में सूजन को ग्लोसाइटिस (Glossitis) कहा जाता है। जीभ में सूजन कई कारणों से हो सकती है, जैसे विटमिन बी 12 की कमी, व स्जोग्रेन सिंड्रोम आदि, इसके अलावा किसी कीमोथेरेपी व अन्य किसी प्रकार की दवा के साइड इफेक्ट के रूप में जीभ में सूजन आ सकती है। शरीर के किसी भाग में सूजन की तरह इस स्थिति में मरीज की जीभ में सूजन, लालिमा और जीभ का रंग बदलने जैसे लक्षण दिखते हैं।

जीभ की सूजन के लक्षण सौम्य या गंभीर हो सकते हैं। ऐसी स्थिति में मसालेदार व गर्म भोजन नहीं खाना चाहिए, तंबाकू व शराब आदि का सेवन नहीं करना चाहिए। जीभ में अधिक सूजन आने से रोकने और उसके लक्षणों को कम करने के लिए मुँह में अच्छी स्वच्छता बनाए रखना बहुत जरूरी है। 

कई बार जीभ में सूजन के लक्षणों के कंट्रोल करने और दर्द को कम करने के लिए इलाज करवाने की आवश्यकता पड़ती है। इसके इलाज में जीभ पर लगाने के लिए सुन्न करने वाली दवा या कोर्टिकोस्टेरॉयड दवाऐं दी जाती हैं। यदि इसका कारण बनने वाली समस्या का इलाज किया जाए तो जीभ की सूजन अपने आप ठीक हो जाती है।

जीभ की सूजन क्या है?

जीभ में सूजन, लालिमा व जलन जैसी स्थिति को ग्लोसाइटिस या जीभ की सूजन कहा जाता है। जीभ संबंधी ऐसी कई समस्याऐं हैं, जिनके कारण जीभ में सूजन आ सकती है। इस स्थिति में जीभ का रंग बदल जाता है और दर्द होने लगता है।

जीभ में सूजन के प्रकार:

जीभ में सूजन मुख्य रूप से तीन प्रकार की होती है।

  • एक्युट ग्लोसाइटिस (Acute glossitis): इस स्थिति में अचानक से जीभ में सूजन आती है और इसके लक्षण भी गंभीर होते हैं। जीभ की सूजन का यह प्रकार अक्सर एक्यूट ग्लोसाइटिस स्थिति में होता है।
  • क्रोनिक ग्लोसाइटिस (Chronic glossitis): लंबे समय तक जीभ में सूजन रहने या बार-बार सूजन आने की स्थिति को क्रोनिक ग्लोसाइटिस कहा जाता है। जीभ की सूजन का यह प्रकार अक्सर किसी अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्या के लक्षण के रूप में विकसित होता है। 
  • एट्रोफिक ग्लोसाइटिस (Atrophic glossitis): जब जीभ की छोटी-छोटी संरचना के भाग टूटने नष्ट होने लग जाते हैं, तब एट्रोफिक ग्लोसाइटिस होता है। इस स्थिति के परिणामस्वरूप जीभ की ऊपरी बनावट व रंग बदल जाता है। एट्रोफिक ग्लोसाइटिस में जीभ अधिक चमकदार दिखाई देने लग जाती है।

जीभ में सूजन के लक्षण:

ग्लोसाइटिस के आम लक्षण कुछ इस प्रकार हो सकते हैं :

  • जीभ में दर्द और सूजन होना।
  • जीभ के रंग में बदलाव।
  • खाने, बोलने और निगलने में परेशानी होना।
  • जीभ में जलन या खुजली होना।
  • जीभ के रंग में बदलाव होना।
  • बात करने में परेशानी होना।
  • खाना खाने में परेशानी होना और निगलने के दौरान गले में दर्द होना।

जीभ में सूजन के कारण:

कुछ रोग व स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हैं, जो जीभ में सूजन होने का कारण बनती हैं, जैसे:

  • शरीर में खून की कमी
  • एचआईवी एड्स
  • लगाने वाली या सूंघने वाली कोर्टिकोस्टेरॉयड दवाओं का उपयोग करना
  • एप्सटीन बार वायरस या कैंडिडिआसिस आदि से संक्रमण होना
  • मुँह में किसी प्रकार की चोट लगना जैसे दांतों या ब्रेसिस (दांतों को सीधा करने के लिए लगाए जाने वाले तार) आदि से कट लगना या गर्म भोजन से मुँह जल जाना आदि के कारण भी जीभ में सूजन, व जलन जैसी समस्याऐं हो सकती हैं। 
  • दांत ठीक से फिट ना होने, कुछ अधिक गर्म खाने या अचानक से दौरा आदि पड़ने के कारण जीभ क्षतिग्रस्त हो जाना
  • शराब, तंबाकू, गर्म भोजन या अधिक खट्टे फल खाने के कारण मुँह में जलन होना।
  • पोषक तत्वों की कमी होना।
  • एंटी-बायोटिक दवाओं को लंबे समय तक लेना।
  • किसी प्रकार के केमिकल से जीभ उत्तेजित होना जैसे डाई, माउथवॉश या टूथपेस्ट में पाए जाने वाले कुछ प्रकार के केमिकल
  • जीभ का कैंसर

जीभ में सूजन से बचाव:

  • स्वस्थ भोजन खाना
  • मुंह की स्वच्छता को बनाए रखना, जैसे नियमित रूप से ब्रश व फ्लोसिंग (धागे के साथ दांतों की सफाई) करना और माउथवॉश के साथ कुल्ला करना आदि (खासकर सोने से पहले)
  • दिन में कम से कम दो बार ब्रश करना और ब्रश करने के दौरान अपनी जीभ को साफ करना
  • तंबाकू चबाने से भी जीभ में सूजन आ जाती है। यदि आप तंबाकू छोड़ने के लिए मदद चाहते हैं, तो डॉक्टर आपको कुछ दवाऐं व कुछ तरीके बता सकते हैं जिनकी मदद से आपको तंबाकू छोड़ने में मदद मिल सकती है।
  • किसी भी प्रकार का खाद्य पदार्थ या दवा आदि जिससे आपको एलर्जी या जीभ में सूजन आ सकती है, तो उन्हें तुरंत छोड़ देना चाहिए।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाउनलोड करें । क्लिक करें  

Leave a Reply

Your email address will not be published.