इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के लक्षण और कारण

irritable bowel syndrome

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम एक आम डिसऑर्डर है जो बड़ी आंत को प्रभावित करता है। इनके लक्षणों में शामिल है ऐंठन, पेट में दर्द, सूजन, गैस या दस्त आदि शामिल है। यह एक दीर्घकालिक बीमारी (Chronic Disease) है।

इस बीमारी में कुछ ही लोगों को गंभीर लक्षण दिखते है। कुछ लोग आहार, जीवनशैली को बदलकर और तनाव को कम करके अपने लक्षणों को नियंत्रित कर सकते है। अगर आपको ज्यादा गंभीर लक्षण है तो इसका इलाज दवा और परामर्श से किया जाता है।

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के लक्षण:

  • पेट में दर्द, ऐंठन या सूजन जो आंत्र आंदोलन (Bowel Movement) को पारित (Passed) करने से संबंधित है।
  • आंत्र आंदोलन (Bowel Movement) की उपस्थिति में परिवर्तन।
  • कितनी बार आप मल त्याग कर रहे है।

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के कारण:

आंत में मांसपेशियों में सिकुड़न: आंतों की दीवार को मांसपेशियों की परतों के साथ पंक्तिबद्ध (Queued) किया जाता है जो आपके पाचन तंत्र (Digestive System) के माध्यम से भोजन को स्थानांतरित (Move) करते है। संकुचन (Contraction) जो सामान्य से अधिक मजबूत और लंबे समय तक होते है, वह गैस, सूजन और दस्त का कारण बन सकते है। कमजोर आंतों का संकुचन (Contraction) भोजन के मार्ग को धीमा कर सकता है और कठोर, शुष्क(Dry) मल को जन्म देता है।

तंत्रिका तंत्र (Nervous System): आपके पाचन तंत्र (Digestive System) में नसों में असामान्यताएं आपके पेट में गैस या मल से खिंचाव होने पर आपको सामान्य तकलीफ का अनुभव करवा सकती हैं। मस्तिष्क और आंतों के बीच खराब समन्वित (Integrated) संकेत आपके शरीर को सामान्य रूप से पाचन प्रक्रिया में होने वाले परिवर्तनों के कारण अतिरंजित (Exaggerate) कर सकते है, जिसके परिणामस्वरूप दर्द, दस्त या कब्ज हो सकता है।

गंभीर संक्रमण: बैक्टीरिया या वायरस की वजह से डायरिया (गैस्ट्रोएंटेराइटिस) की गंभीर चोट के बाद IBS विकसित हो सकता है। IBS आंतों में बैक्टीरिया के एक अधिशेष (बैक्टीरिया की बहुत ज्यादा वृद्धि) के साथ भी जुड़ा हो सकता है।

प्रारंभिक जीवन तनाव: तनावपूर्ण घटनाओं से अवगत (Aware) कराए गए लोग, मुख्यतः बचपन में, IBS के ज्यादा लक्षण होते है।

आंत रोगाणुओं (Microbes)में परिवर्तन: उदाहरण के लिए बैक्टीरिया और वायरस में परिवर्तन शामिल है, जो सामान्य रूप से आंतों में रहते है और स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है। रिसर्च बताते है कि IBS वाले लोगों में रोगाणु स्वस्थ (Microbes) लोगों में उन लोगों से भिन्न हो सकते है।

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम का परिक्षण:

IBS का निश्चित रूप से निदान करने के लिए कोई परीक्षण नहीं है। आपके चिकित्सक को पूरी तरह से चिकित्सा इतिहास, शारीरिक परीक्षा और अन्य स्थितियों, जैसे कि सीलिएक रोग के बारे में पता लगाने के लिए परीक्षण शुरू करने की संभावना होती है।

रोम मानदंड: इन मानदंडों में पिछले तीन महीनों में सप्ताह में कम से कम एक दिन पेट दर्द और बेचैनी शामिल है, इनमें से कम से कम दो कारण जुड़े है दर्द और असुविधा शौच से संबंधित है, शौच की आवृत्ति बदल जाती है, या मल की स्थिरता बदल जाती है।

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के रिस्क फैक्टर:

युवाओं में रिस्की: IBS 50 वर्ष से कम आयु के लोगों में अधिक बार होता है।

औरतों के लिए रिस्की: IBS महिलाओं में अधिक आम है। रजोनिवृत्ति (Menopause) से पहले या बाद में एस्ट्रोजेन थेरेपी भी IBS के लिए जोखिम भरा है।

फैमिली हिस्ट्री हो: जीन एक भूमिका निभा सकते है, जैसा कि एक परिवार के वातावरण या जीन और पर्यावरण के संयोजन (Combination) में कारकों को साझा कर सकते है।

चिंता, अवसाद या अन्य मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हों: यौन, शारीरिक या भावनात्मक शोषण का इतिहास भी एक जोखिम कारक हो सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित इस लेख में सामान्य जानकारी दी गई है। अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐपडाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.