INTERNATIONAL YOGA DAY | सूर्य नमस्कार – विश्व योग दिवस पर जानें इस महायोगासन के फ़ायदे

शेयर करें

इस विश्व योग दिवस (International Yoga Day) पर मेडकॉर्ड्स (MedCords) लाया है आपके लिए महायोगासन – सूर्य नमस्कार के फ़ायदे। सम्पूर्ण विश्व 21 जून को विश्व योग दिवस (International Yoga Day) के रूप में मनाता है। भारत को योग गुरु माना जाता है और देश के सतत प्रयासों से आज योग विश्वपटल पर समग्र स्वास्थ्य विकास के लिए एक अचूक माध्यम बन गया है।

भारत के साथ सम्पूर्ण विश्व योग दिवस को पूरे उत्साह से मना रहा है। क्या आपने अपने जीवन में योग को शामिल किया है?

योगासनों में महायोगासन सूर्य नमस्कार का एक विशेष महत्व है। आइये जानें क्या है सूर्य नमस्कार के फ़ायदे?

सूर्य नमस्कार 12 योगासनों को मिलाकर बनाया गया है। इसमें किये जाने वाले हर आसन का अपना एक अलग महत्व है। सूर्य नमस्कार रोज़ करने वालों में कार्डियोवस्कुलर समस्याएं नहीं होती है साथ ही यह शरीर में खून के संचार को बढ़ाने व तनाव को कम करने में बहुत लाभदायक है।

नियमित रूप से सूर्य नमस्कार करने वाले लोगों का मानसिक व शारीरिक स्वास्थ्य बहुत मज़बूत होता है। आइये जानें इस महायोगासन सूर्य नमस्कार के 10 फ़ायदे:

1. सम्पूर्ण स्वास्थ्य के लिए आवश्यक:

महायोगासन सूर्य नमस्कार में उपयोग की जाने वाली श्वास-प्रश्वास द्वारा आपके शरीर में सकारात्मक ऊर्जा संचारित होती है जो आपके शरीर के समग्र विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

2. पाचन तंत्र को सुधारे

चूंकि सूर्य नमस्कार को प्रातः खाली पेट किया जाता है अतः इस क्रिया के दौरान आपके पेट के सभी भागों की अच्छे से स्ट्रेचिंग या खिंचाव होता है जो आपके पाचन तंत्र को मज़बूत बनाता है। यह कई उदार विकार जैसे अपच, कब्ज़ व गैस की समस्या से छुटकारा दिलाता है।

3. मोटापे को कम करे

महायोगासन सूर्य नमस्कार में आपके शरीर के ज़्यादातर अंग प्रयुक्त होने से उनमें जमा अतिरिक्त चर्बी ख़त्म होने लगती है जिससे आपका मोटापा नियंत्रित होता है। ख़ासकर पेट की चर्बी को कम करने का यह कारगर उपाय है।

4. तनाव कम करे

सूर्य नमस्कार आपके तंत्रिका तंत्र को आराम देती है जिससे आप चिंता व तनाव से मुक्ति पाते है। इस आसन द्वारा स्मरण शक्ति भी बढ़ती है। सूर्य नमस्कार की मुद्राएं आपको तनावमुक्त होने में सहायक है।

5. मासिक-धर्म को रेगुलर करे

सूर्य नमस्कार के अचूक फ़ायदों में से एक है कि ये महिलाओं में मासिक धर्म को नियमित करने में मदद करता है। इस आसन को करने पर महिलाओं में बच्चे के जन्म के समय कम दर्द होता है।

6. रीढ़ की हड्डी को करे मज़बूत

सूर्य नमस्कार की 12 मुद्राओं में अधिकतर कमर व रीढ़ के उपयोग की वजह से वो मज़बूत व लचीली बनती है। ये मांसपेशियों व लिगामेंट्स को सशक्त बनाता है।

Read Next: Yoga Cures Cold / सर्दी-जुकाम से छुटकारा पाने के लिए 5 योगासन

7. शरीर को करे डिटॉक्स

शारीरिक सफाई या डीटॉक्स के लिए महायोगासन सूर्य नमस्कार एक महत्वपूर्ण आसन है। इस आसन में सांस खींचने व छोड़ने से स्वच्छ हवा आपके फेंफडों तक पहुँचने से शरीर के सभी अंगों तक ऑक्सीजन का सुचारू रूप से संचार होता है। इस आसन से शरीर में मौजूद कार्बन डाइऑक्साइड और बाकी जहरीली गैस से छुटकारा मिलता है।  

8. ह्रदय के लिए लाभकारी

सूर्य नमस्कार से आपका अच्छे तरीके से कार्डियो होता है जिससे ह्रदय मज़बूत बनता है। इस महायोगासन से कार्डियोवस्कुलर परेशानियों से निजात मिलती हैकार्डियोवस्कुलर

9. शरीर को लचीला बनाए

सूर्य नमस्कार की 12 मुद्राएं शरीर के ज़्यादातर हिस्सों को लचीला बनाती है जिससे आपके शरीर की अकड़न दूर होती है व लचीलापन आता है।

10. रखे आपको युवा

सूर्य नमस्कार में रक्त संचार अच्चा होने से आपकी त्वचा में हमेशा निखार व चमक रहती है। इससे आपके चेहरे पर झुर्रियां जल्दी नहीं आती है।

सूर्य नमस्कार किन्हें नहीं करना चाहिए:

  • गर्भवती महिला तीसरे महीने के गर्भ के बाद से इसे करना बंद कर दें
  • जिन लोगों को पीठ दर्द की समस्या हो वो सलाह ले कर ही इस आसन को करें
  • मासिक धर्म के दौरान सूर्य नमस्कार ना करें   
  • उच्च रक्तचाप व हर्निया के मरीज़ ना करें

आइये इस विश्व योग दिवस (International Yoga Day) पर सूर्य नमस्कार करने की शुरुआत करें व अपने शरीर का सम्पूर्ण विकास करें। यह आपको हमेशा स्वस्थ रखने में मदद करता है। मेडकॉर्ड्स (MedCords) परिवार आपको इस विश्व योग दिवस (International Yoga Day) की शुभकामनाएं देने के साथ आपके स्वस्थ जीवन की कामना करता है ।

स्वास्थ्य से सम्बंधित अन्य जानकारी के लिए आज ही हमारे टोल फ्री नंबर +91-781-681-1111 पर कॉल करें। इसी तरह के जानकारी भरे लेख पढ़ने के लिए मेडकॉर्ड्स (MedCords) के ब्लॉग पढ़ें।

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.