गठिया में इमली के बीज कैसे है फायदेमंद जानें | Daily Health Tip | Aayu App

imli ke beej

अगर आप गठिया से परेशान है तो भुने हुए इमली के बीज का पाउडर, पानी के साथ दिन में दो बार लें। इससे आपको गठिया में राहत मिलेगी।

If you are suffering from arthritis, consume powder of roasted tamarind seed twice a day with water. This helps you get relief from arthritis.

Health Tips for Aayu App

इमली एक स्‍वादिष्‍ट खाद्य पदार्थ है। लेकिन क्‍या आप इमली के बीज के फायदों के बारे में जानते है। वैसे हम बहुत से स्‍वास्‍थ्‍य लाभ प्राप्‍त करने के लिए इमली का उपयोग करते है लेकिन इमली के बीज भी औषधीय गुणों से भरपूर होती है। इमली के बीजों को भूनकर उपयोग किया जाता है जो बहुत सी बीमारियों को दूर करने में मदद करता है।

इमली के बीज के फायदे:

डायबिटीज के रोगियों के लिए फायदेमंद: जो लोग डायबिटीज के रोगी है उनके लिए इमली के बीज औषधि से कम नहीं होती। इमली के बीज रक्‍त शुगर के स्‍तर को कम करने में मदद करते है। डायबिटीज रोगी के द्वारा इमली के बीजों का सेवन शरीर में इंसुलिन के उत्‍पादन को बढ़ाता है। शरीर में उच्‍च रक्‍त शुगर के कारण ही डायबिटीज होती है। इमली के बीज अल्‍फा-एमाइलेज गुणों से भरपूर होते है जो रक्‍त शुगर के उचित प्रबंधन में मदद करते है।

त्वचा के लिए फायदेमंद: आपको अपनी त्वचा की समस्याओं को दूर करने के लिए प्राकर्तिक उपायों को अपनाना चाहिए। इमली के बीज के फायदे त्‍वचा को स्‍वस्‍थ्‍य रखने में मदद करते है। इमली के बीज से बनाया हुआ अर्क (Extract) त्‍वचा की लोच (elasticity) को बढ़ाने, त्‍वचा को हाइड्रेट रखने और त्‍वचा को कोमल बनाने में मदद करता है। इमली बीज के अर्क में हयालूरोनिक नामक एसिड होता है जो त्वचा की झुर्रियों को दूर करने में मदद करता है। इमली के बीज पानी में घुलने वाले होते है इसलिए इनका उपयोग सीरम, जैल, फैशियल टोनर और मॉइश्‍चराइजर के रूप में किया जाता है। इमली के बीजों का उपयोग एंटी-एजिंग फॉमूर्ला की तरह काम करता है। किसी भी तरह की त्वचा संबंधित समस्या के लिए आप इमली के बीज के पाउडर का इस्तेमाल कर सकते है।

दिल के लिए फायदेमंद: मानव शरीर का एक महत्‍वपूर्ण अंग उनका हृदय है। यदि समय पर उपचार ना किया जाए तो यह गंभीर रूप ले सकती है लेकिन आप इसके लिए इमली के बीजों का उपयोग कर सकते है। इमली के बीज में पोटैशियम की मात्रा अच्छी होती है जो बीपी और अन्य ह्रदय रोगों से हमारी रक्षा करता है। इसके अलावा इमली के बीजों में फलेवोनोइड्स (flavonoids) भी होते है। इनकी उपस्थिति के कारण इमली के बीज शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने और अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में मदद कर सकते है। इसके अलावा यह ट्राइग्लिसराइड्स के संचय (Accumulation) को कम करता है जो कि हमारे खून में वसा या फैट का एक प्रकार है। इस तरह से आप अपने दिल को स्वस्थ रखने के लिए इमली के बीज के पाउडर का उपयोग कर सकते है।

गठिया के लिए फायदेमंद: एंटी-इंफ्लामेटरी गुणों के कारण इमली के बीज हमारे लिए लाभकारी होते है। इन्‍हीं गुणों के कारण प्राचीन समय से इमली बीज का उपयोग गठिया के दर्द और इससे जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है। नियमित रूप से इमली के बीज का सेवन जोड़ों में दर्द को कम करता है। इसके लिए भुने हुए इमली के बीज के पाउडर को पानी के साथ दिन में दो बार सेवन कर सकते है। यह गठिया के दर्द से राहत दिलाता है। यदि आप गठिया से प्रभावित है तो इमली बीज के पाउडर का सेवन करें।

इमली के बीज के नुकसान:

  • फाइबर की उच्‍च मात्रा होने के कारण अधिक मात्रा में इमली के बीज का सेवन पेट संबंधी समस्‍याओं को बढ़ा सकता है।
  • जो लोग रक्‍त पतला करने के लिए दवाओं का सेवन करते है उन्‍हें इमली के बीज का सेवन नहीं करना चाहिए क्‍योंकि यह दवाओं के प्रभाव को कम कर सकता है।
  • यदि आप तनाव को कम करने वाली दवाओं का सेवन कर रहे है तब भी आपको इमली के बीजों का सेवन करने से बचना चाहिए क्‍योंकि इमली के बीज में सेरोटोनिन विषाक्‍तता (serotonin toxicity) हो सकती है।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें  

Leave a Reply

Your email address will not be published.