मुँह के छालों से रहें सावधान कई कैंसर का कारण ना बनें | Daily Health Tip | 21 May 2020 | AAYU App

Ways of Prevention from Mouth Ulcer

मुँह में छाले होना वैसे तो आम बात है पर इनसे बचा जा सकता है। ऐसा खाना खाने से बचे जिससे आपके मुँह में जलन हो, हेल्दी आहार लें, तनाव कम लें, और अच्छी ओरल हाइजीन बनाए रखें।

Mouth ulcers are common but they can be prevented. Avoid spicy food, eat healthy diet, don’t stress and maintain good oral hygiene.

Health Tips for Aayu App

मुंह में छाले होना ऐसे तो सामान्य है। लेकिन कई बार यह समस्या इस कदर बढ़ जाती है कि कैंसर जैसी घातक बीमारी का कारण बन जाती है।

मुंह के छाले यानि माउथ अल्सर ऐसे तो एक सामान्य परेशानी है, लेकिन इसे नजरअंदाज करना जानलेवा साबित हो सकता है, क्योंकि यह किसी गंभीर बीमारी का लक्षण हो सकता है। इसके कई कारण हो सकते है, जिनका सही उपचार इससे मुक्ति दिला सकता है।

मुँह के अलसर के लक्षण:

  • मुँह में अलसर होने से खाने पीने में तकलीफ होती है।
  • व्यवहार में चिड़चिड़ापन
  • थकान महसूस होना
  • मुँह के घाव में लालिमा नज़र आना

मुँह के अलसर के कारण:

  • कई बार पेट में गर्मी से भी छाले हो सकते है।
  • अधिक मिर्च-मसालों का सेवन करने पर पेट की क्रिया सही नहीं रहती तो उसकी प्रतिक्रिया में मुँह के छालें होते है।
  • कई बार किसी चीज़ को खाते समय जीभ या गाल का हिस्सा आ जाता है जिसकी वजह से छालें उत्पन्न हो जाते है। ऐसे छालें आमतौर पर मुँह की लार से ठीक हो जाते है।
  • एलोपैथिक दवाओं के दुष्प्रभाव से मुँह में छाले हो सकते है। अधिक मात्रा में एंटीबायोटिक का इस्तेमाल करने से हमारी आँतों में अच्छे जीवाणुओं की संख्या घट जाती है जिसकी वजह से मुँह में छाले पैदा हो जाते है।
  • मानसिक तनाव से भी छाले होते है।

छालो का निदान:

  • छालों पर लगने वाले दर्द निवारक लोशन भी बाजार में मिलते है। इनके प्रयोग से तुरंत राहत मिलती है। इसके अलावा बोरो ग्लिसरीन भी लगाई जा सकती है या पोटैशियम परमैग्नेट के घोल से कुल्ले करना चाहिए।
  • यदि छालों की वजह से कब्ज हो, तो ईसबगोल की एक चम्मच भूसी रात को लेनी चाहिए।
  • यदि दांतों के तीखेपन की वजह से छाले होते हों, तो उन्हें घिसवा लेना चाहिए। यदि डॉक्टर उस दांत को निकालने का परामर्श दे, तो निकलवाने में कोई हर्ज नहीं है।
  • छाले होने पर गर्म चाय-कॉफी तथा मिर्च-मसालों का सेवन न करें, क्योंकि इनसे तकलीफ बढ़ सकती है।
  • छालों से बचने के लिए मुंह और पेट की स्वच्छता का ध्यान रखें। मौसम के प्रभाव से भी मुंह में छाले हो जाते है।

छालो का उपचार:

  • माउथ अल्सर के मरीजों को खाने में विटामिन-सी का प्रयोग करना चाहिए। इसके लिए आप दो-तीन गिलास संतरे का जूस प्रतिदिन पिएं। आप टमाटर से भी विटामिन-सी प्राप्त कर सकते है।
  • जितना हो सके, ज्यादा मसालेदार और तले-भुने खाद्य पदार्थों से परहेज करें।
  • ज्यादा फलों का सेवन करें, खूब पानी पिएं।
  • दिन में दो से तीन बार गरारे करें।
  • तुलसी के कुछ पत्ते चबाएं, राहत मिलेगी।
  • छालों की जलन कम करने के लिए ग्लिसरीन में हल्दी का पाउडर मिलाकर अल्सर वाली जगह पर मालिश करें।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.