High blood pressure: ब्लड प्रेशर की जांच कब और कितनी बार करानी चाहिए? जानें हाई ब्लड प्रेशर डाइट

High blood pressure ब्लड प्रेशर की जांच कब और कितनी बार करानी चाहिए जानें हाई ब्लड प्रेशर डाइट

High Blood Pressure Test:

  • हाई ब्लड प्रेशर एक साइलेंट किलर हैं।
  • आपको कब और कितनी बार ब्लड प्रेशर की जांच करवानी चाहिए?
  • बीपी चेक करने का सही समय और हाई ब्लड प्रेशर डाइट

आजकल हर 4 में से 1 व्यक्ति हाई ब्लड प्रेशर (High blood pressure) की समस्या से पीड़ित है। इसका सबसे बड़ा कारण हमारा खान-पान और जीवनशैली में बदलवा होना है। हाई ब्लड प्रेशर (High blood pressure) को एक साइलेंट किलर के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि यह शुरू में कोई लक्षण नहीं दिखाता है। यह आपको हृदय रोग के उच्च जोखिम में डालता है।

प्रारंभिक अवस्था में इस स्थिति को नियंत्रित करने के लिए आपको ब्लड प्रेशर की जांच करवानी चाहिए। नियमित रुप से ब्लड प्रेशर की जांच ब्लड प्रेशर के शुरुआती निदान में मदद कर सकता है। इस लेख में हम आपको बताएंगे आपको कब और कितनी बार ब्लड प्रेशर की जांच करवानी चाहिए ? बीपी चेक करने का सही समय और हाई ब्लड प्रेशर डाइट।

NOTE- किसी भी स्वास्थ्य समस्या के लिए ऑनलाइन डॉक्टर से बात करने और घर बैठे दवाईयां मंगवाने के लिए आयु डॉट ऐप पर क्लिक करें (Aayu.App)

1. हाई ब्लड प्रेशर की जांच कब करें?

ब्लड प्रेशर की जांच कब करें को लेकर आयु ऐप के हार्ट स्पेस्लिस्ट की सलाह है कि बच्चों को साल में कम से कम एक बार ब्लड प्रेशर की जांच करवानी चाहिए, जबकि महीने में एक बार वयस्कों के लिए यह सलाह दी जाती है।

जो लोग एंटीहाइपरटेन्सिव दवा का सेवन करते हैं, वे सप्ताह में एक बार अपना ब्लड प्रेशर की जांच कर सकते हैं। रक्तचाप की दवा शुरू कर दी है या हाई ब्लड प्रेशर का इलाज किया गया है, उनके बीपी को अधिक बार जांचना चाहिए लगभग दिन में दो बार 1 से 3 महीने तक जब तक रक्तचाप पूरी तरह से नियंत्रण में नहीं आता।”

डॉक्टरों का मानना है कि “किसी भी उम्र में और किसी भी समय, आपका ब्लड प्रेशर 120/80 mmHg के बराबर होना चाहिए।अगर कोई बड़ा उतार-चढ़ाव हो, तो तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें।”

2. ब्लड प्रेशर जांच कराने का सही समय क्या है?

शुरुआती चरण के दौरान हाई ब्लड प्रेशर वाले लोगों को एक दिन में 2 बार ब्लड प्रेशर जांच कराना चाहिए।

  1. सुबह जगने के तुरंत बाद
  2. शाम में (शाम/ रात का ब्लड प्रेशर सुबह की संख्या से थोड़ा ज्यादा हो सकता है)

3. ब्लड प्रेशर डाइट

ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के लिए क्या खाएं (Your Diet to Control Blood Pressure)

रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए आपका आहार में ये सब होना चाहिएः-

पुराना शाली चावल /गेहूं, मूंग, मसूर, तूर, परवल, सिंघाड़ा, टमाटर, जीरा, लौकी, तोरई, करेला, कददू, हरे पत्तेदार मौसमी सब्जियाँ का सेवन जरूर करें या इन चीज़ों को अपने भोजन में किसी न किसी रुप से शामिल करें।

4. लो ब्लड प्रेशर वाले लोगों को इन बातों का ध्यान रखना चाहिएः-

(A). भोजन करने के बाद, निम्न रक्तचाप रोकने के लिए दिन में थोड़े समय में थोड़ा–थोड़ा खाना और ज्यादा कार्बोहइड्रेट वाले आहार जैसे-–आलू ,चावल, पास्ता और ब्रेड को सीमित मात्रा से लें। डॉक्टर आपको रक्तचाप बढ़ाने के लिए चाय या कॉफी भोजन के साथ लेने की सलाह दे सकते हैं।

(B). सामान्यतः लोगों को भोजन में ज्यादा नमक नहीं लेने को कहा जा सकता है, लेकिन जो लोग निम्न रक्तचाप से पीड़ित होते हैं उनके लिए नमक फायदेमंद होता है। नमक वाले भोजन को लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें।

(C). ज़्यादा मात्रा में पानी पिएं, पानी शरीर के मूलभूत कारणों के लिए आवश्यक है l ये शरीर में शुष्कता को रोकता है। बेहोशी आने पर पानी की मात्रा को बढ़ा दें |

(D). घरेलू नुस्खा – दिन में दो बार 1 कप चुकंदर का जूस जरूर पिएं। यह लो ब्लड प्रेशर के लिए सबसे अच्छा नुस्खा है। रक्तचाप बढ़ाने के लिए चाय या कॉफी ले सकते हैं | बादाम के पेस्ट को गुनगुने दूध के साथ लें।पानी , नमक औऱ चीनी का घोल बार-बार लेते रहें।

5. ब्लड प्रेशर किस उम्र में हो सकता है।

  1. अगर आपके परिवार में पहले से किसी को ये बीमारी है , तो आम तौर से 40-60 साल की उम्र के बीच विकसित होता है।
  2. गैर-वंशानुगत मामलों में ये 40 साल से पहले या 60 साल की उम्र के बाद विकसित हो सकता है।
  3. अगर किसी को इस दौरान हाइपरटेंशन होता है, तो उसे एंडोक्राइनोलॉजिस्ट या हृदय रोग विशेषज्ञ के पास जाने की जरूरत है, जिससे पता चल सके कि हाई ब्लड प्रेशर का वास्तविक कारण क्या है। उसके बाद जरूरी उपाय स्थिति को नियंत्रित करने के लिए करना चाहिए।

नज़दीकी मेडिकल स्टोर से घर बैठे दवाईयाँ ऑर्डर करें। क्लिक करें

ये भी पढ़ें

डिस्क्लेमर-

हाई ब्लड प्रेशर या हाइपरटेंशन अस्वस्थ भोजन, सुस्त जीवनशैली और स्मोकिंग का नतीजा हो सकता है। अगर अनियंत्रित छोड़ दिया जाए तो ये स्थिति दिल की बीमारी के ज्यादा खतरे में आपको डाल सकती है। समय रहते रोकथाम इस स्थिति से जुड़े साइड-इफेक्ट्स को काबू करने के प्रभावी तरीकों में से एक है। कई एहतियाती उपाय आपको पालन करने की जरूरत है।

इस लेख में हमने आपको ब्लड प्रेशर के बारे में बताने का प्रयास किया है। उम्मीद है इससे आपको ब्लड प्रेशर का निदान करने में मदद मिलेगी। अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं। रोज़ाना अपने फोन पर स्वास्थ्य जानकारी पाने के लिए आयु डॉट ऐप (Aayu.App) पर क्लिक करें

Aayu App

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

(A) ब्लड प्रेशर क्या खाने से कम होता है?

फाइबर, प्रोटीन, विटामिन सी, जिंक, कॉपर, पोटैशियम, आयरन, कैल्शियम और कई तरह के आवश्यक लवणों से भरपूर पिस्ता सेहत के लिए काफी अच्छा होता है. पिस्ता हाई ब्लड प्रेशर और लो ब्लड प्रेशर दोनों को आसानी से बैलेंस कर सकता है.

(B) ब्लड प्रेशर क्यों बढ़ जाता है?

अक्‍सर लोग जब ठीक महसूस करने लगते हैं तो वे दवाएं बीच में छोड़ देते हैं यह भी अचानक से बीपी बढ़ने की एक वजह हो सकती है. 

(C) ब्लड प्रेशर बढ़ने पर क्या करे?

-वजन कम करें
-अल्कोहल का सेवन कम करें-
-योग, प्राणायाम और व्यायाम जैसे एक्सरसाइज को नियमित रूप से करें।
-कम सोडियम लें जो स्टेज 1 उच्च रक्तचाप में बेहद मददगार है।

(D) हाई ब्लड प्रेशर कितना होता है?

किसी भी उम्र में और किसी भी समय, आपका रक्तचाप 120/80 mmHg के बराबर होना चाहिए. अगर कोई बड़ा उतार-चढ़ाव हो, तो तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें.

(E) हाई ब्लड प्रेशर की आयुर्वेदिक दवा

A- नागफनी हाई बीपी की आयुर्वेदिक दवा है
B- उच्च रक्तचाप की रोकथाम के लिए त्रिफला आयुर्वेदिक दवा है
C- शंखपुष्पी उच्च रक्तचाप का आयुर्वेदिक उपचार है

(F) हाई ब्लड प्रेशर में कौन सा फल खाना चाहिए

नींबू, संतरा और अंगूर जैसे खट्टे फलों (Healthy foods) में ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने की अचूक क्षमता होती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.