Health Benefits of Urad Dal in Hindi: उड़द दाल के लाभकारी गुण

urad dal in hindi

उड़द दाल (Urad Dal in Hindi) की तासीर ठंडी होती है इसलिए उड़द दाल को घी में हींग का छौंक डालकर बनाते है। इसके गुण ना केवल खाने को स्वाद से भर देता है साथ ही साथ कई बिमारियों में वरदान की तरह साबित होता है। उड़द दाल में मिलने वाले पौष्टिक तत्व की वजह से यह सिरदर्द, नकसीर, सूजन जैसी कई बिमारियों के इलाज में काम आता है।

उड़द की दाल में भरपूर मात्रा में आयरन पाया जाता है। यह आपके शरीर में एनर्जी के लेवल को बढ़ाने में मदद करता है और आपको एक्टिव रखता है।

“Urad dal is rich in iron. It helps in increasing the energy level in your body and keeps you active.

Health Tip for Aayu App

आइये जानते है उड़द दाल के फायदे:

उड़द दाल के लाभकारी गुण: Health Benefits of Urad Dal in Hindi:

सिरदर्द में मददगार: अगर आपको काम की वजह से तनाव और भागदौड़ भरी जिंदगी होने की वजह से सिरदर्द की शिकायत रहती है तो उड़द (Urad Dal in Hindi) का घरेलू उपाय आपके लिए बहुत लाभकारी होगा।  इसके लिए आप 50 ग्राम उड़द को 100 मिली दूध में पकाकर उसमें घी डालकर खाएं। इससे आपको सिरदर्द में आराम मिलेगा।

रुसी से छुटकारा दिलाएं: उड़द (Urad Dal in Hindi) को जलाकर उसकी भस्म बनाकर, उसमें चतुर्थांश अर्कदूध तथा सरसों का तेल मिलाकर लेप बना लें। इसको सिर पर लगाने से सिर के कई तरह के रोग, जैसे गंजापन, बालों की सफेदी आदि कम होती है।

नकसीर में फायदेमंद: कुछ लोगों के ज्यादा गर्मी या ठंड के कारण नाक से खून बहने की समस्या होती है। अगर आप इससे राहत पाना चाहते है तो उड़द (Urad Dal in Hindi) के आटे का तालू पर लेप लेप करें। इससे आपके नकसीर की समस्या कम होती है।

लिवर की सूजन कम करने में फायदेमंद: उड़द (Urad Dal in Hindi) का जूस बनाकर 10-20 मिली की मात्रा में सेवन करवाने से लिवर की बिमारी से राहत मिलती है। 

लकवे में उड़द दाल के फायदे: उड़द, बला, केवाँच, कत्तृण, रास्ना, अश्वगंधा तथा एरण्ड को समान मात्रा में लेकर उसका काढ़ा बनाएं फिर 25-30 मिली काढ़े में हींग तथा सेंधानमक मिलाकर पिएँ तथा भोजन करने के 12 घण्टे बाद जिस तरफ दर्द है उस तरफ के नाक के छेद द्वारा 5-10 मिली की मात्रा में ग्रहण करने से लकवा, गर्दन की जकड़ाहट, कान में दर्द एवं अर्दित रोग (Facial paralysis) में 1 सप्ताह में आराम मिलने लगता है।

मुँह के लकवे में मदद करें: उड़द (Urad Dal in Hindi) के आटे से बने हुए खाने को मक्खन के साथ खाकर, दशमूल काढ़े का सेवन करने से अर्दित रोग या मुँह के लकवे में फायदा होता है।

अल्सर में फायदेमंद: कभी-कभी अल्सर का घाव सूखने में बहुत देर लगता है या फिर सूखने पर पास ही दूसरा घाव निकल आता है, ऐसे में उड़द की दाल का प्रयोग करना फायदेमंद होता है। उड़द को पीसकर घाव/ व्रण के ऊपर बांधने से पीब निकल जाता है तथा घाव ठीक हो जाता है।

बुखार से राहत दिलाएं: अगर मौसम के बदलने की वजह से या किसी संक्रमण के कारण बुखार हुआ है तो उसके लक्षणों से राहत दिलाने में उड़द की दाल मददगार होती है। इसके लिए आप उड़द का जूस बनाकर 10-20 मिली मात्रा में इसका सेवन करें। (यह भी पढ़ें: बुखार का घरेलू इलाज)

यह लेख केवल आपको सामान्य जानकारी देता है।अगर आपको किसी तरह की तकलीफ है तो हमारे प्लेटफार्म पर कई विशिष्ट डॉक्टर उपलब्ध है जिनसे आप ऑनलाइन परामर्श लें सकते है। आप हमारे टोल फ्री नंबर 781-681-11-11 पर भी कॉल करके इसके बारे में जानकारी लें सकते है।

अगर आप इसी तरह की सामान्य स्वास्थ्य संबंधी जानकारी जानना चाहते है तो अभी अपने फोन पर आयु ऐप डाउनलोड कर सकते है। यह आपको इसी तरह की स्वास्थ्य संबंधी जानकारी देता है जिसे आप कही भी किसी भी समय पढ़ सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.