गिल्बर्ट सिंड्रोम (Gilbert Syndrome) क्या है, लक्षण और उपचार | Daily Health Tip | Aayu App

gilbert syndrome

गिल्बर्ट सिंड्रोम नामक बीमारी में लिवर ठीक से काम नहीं कर पाता। इस बीमारी से बचने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए।

Gilbert syndrome disease can cause issues in proper functioning of Liver. To avoid this, one should drink good amount of water regularly.

Health Tips for Aayu App

गिल्बर्ट सिंड्रोम (Gilbert Syndrome) एक आनुवंशिक (Genetic) स्थिति है, जिसके कारण लिवर ठीक से काम नहीं कर पाता। कार्य प्रभावित होने के कारण लिवर, बिलीरुबिन नामक एक यौगिक (Compound) को सही ढंग से संसाधित (Process) नहीं कर पाता। सामान्य रूप से लिवर पुरानी लाल रक्त कोशिकाओं (Red Blood Cells) को बिलीरुबिन सहित और सारे यौगिकों में तोड़ता है, जो मल और मूत्र के माध्यम से शरीर से बाहर निकलते है। सरल शब्दों में यह शरीर में ब्रेक डाउन करने वाली लिवर एंजाइम की मात्रा कम होने के कारण होने वाली समस्या है। जिसके कारण रक्त में बिलीरुबिन की अतिरिक्त मात्रा बनने लगती है।

यदि आपको गिल्बर्ट सिंड्रोम (Gilbert Syndrome) है तो रक्त प्रवाह में बिलीरुबिन बनने लगता है जिससे हाइपरबिलीरुबिनमिया नामक स्थिति पैदा हो सकती है। सरल शब्दों में इसे शरीर में बिलीरुबिन की उच्च मात्रा के रूप में समझा जा सकता है। अगर आपके खून में बिलीरुबिन की मात्रा बढ़ी हुई है तो यह इस बात का संकेत है कि आपके लिवर के फंक्शन में कुछ समस्या है। विशेषज्ञों के मुताबिक यह हानिकारक स्थिति नहीं है और ज्यादातर मामलों में इसमें इलाज की भी आवश्यकता नहीं होती। हालांकि, कुछ लोगों में इस स्थिति के चलते शारीरिक समस्याएं हो सकती है।

गिल्बर्ट सिंड्रोम (Gilbert Syndrome) क्या है?

गिल्बर्ट सिंड्रोम (Gilbert Syndrome) एक हल्का यकृत (Liver) विकार है जिसमें यकृत (Liver) ठीक से बिलीरुबिन को संसाधित (Process) नहीं कर पाता।

गिल्बर्ट सिंड्रोम (Gilbert Syndrome) के लक्षण:

  • त्वचा और आँखों के सफेद हिस्से का पीला पड़ना
  • मतली और दस्त होना
  • पेट की समस्या होना
  • थकान होना

गिल्बर्ट सिंड्रोम (Gilbert Syndrome)से पीड़ित लोग क्या ना करें:

  • भावनात्मक या शारीरिक तनाव लेना
  • भारी व्यायाम करना
  • लंबे समय तक भूखा रहना
  • पर्याप्त मात्रा में पानी ना पीना
  • पर्याप्त नींद ना लेना
  • अल्कोहल का सेवन करना

गिल्बर्ट सिंड्रोम (Gilbert Syndrome)का कारण:

गिल्बर्ट सिंड्रोम एक आनुवंशिक (Genetic) स्थिति है जो माता-पिता से उनके बच्चों को मिलती है। यूजीटी1ए1 जीन में उत्परिवर्तन (Mutation) के कारण यह समस्या होती है। जीन में उत्परिवर्तन (Mutation) के कारण शरीर में बिलीरुबिन को तोड़ने वाला एंजाइम बनना कम हो जाता है। इस एंजाइम की अपर्याप्तता (Insufficiency) में शरीर बिलीरुबिन को सही ढंग से संसाधित (Process) नहीं कर सकता। हालांकि, गिल्बर्ट सिंड्रोम (Gilbert Syndrome) के जोखिम कारण नहीं है।

गिल्बर्ट सिंड्रोम (Gilbert Syndrome)का इलाज:

गिल्बर्ट सिंड्रोम के ज्यादातर मामलों में उपचार की आवश्यकता नहीं होती। हालांकि, अगर आपको थकान या मतली सहित महत्वपूर्ण लक्षण दिखाई देने लगे, तो बिलीरुबिन की बढ़ी हुई मात्रा को कम करने के लिए डॉक्टर कुछ दवाईयाँ दे सकते है।

  • पूरी नींद लें: रात में सात से आठ घंटे सोने की कोशिश करें। सोने के लिए नियमित दिनचर्या को एक बार फिर से याद करें।
  • तीव्र स्तर के व्यायाम से बचें: आप प्रतिदिन 30 मिनट तक हल्के स्तर के व्यायाम करें। भारी वर्कआउट पर 10 मिनट से अधिक का समय ना दें।
  • शरीर को हाइड्रेटेड रखें: दिन में खूब सारा पानी पीकर शरीर को हाइड्रेटेड रखने की कोशिश करें। व्यायाम, गर्मी के मौसम और बीमारी के दौरान यह महत्वपूर्ण होता है।
  • तनाव कम करें: संगीत सुनने, मेडिटेशन, योग और ऐसी अन्य गतिवि​धियों का पालन करें जो आपको तनाव मुक्त रखने में मदद करें।
  • संतुलित आहार लें: नियमित समय पर खाते रहें। खाने में उन चीजों को शामिल करें, जिससे शरीर को शक्ति मिलती है।
  • शराब का सेवन ना करें: यदि आपको लिवर की समस्या है तो शराब का सेवन करने से बचें। लेकिन, यदि आप ड्रिंक करते है तो महीने में इसके सेवन को सीमित करें।

गिल्बर्ट सिंड्रोम की रोकथाम:

ऊपर दी गई पंक्तियों में बताया गया है कि गिल्बर्ट सिंड्रोम एक आनुवंशिक (Genetic) विकार है, इसलिए इसकी रोकथाम नहीं की जा सकती। यदि आपको गिल्बर्ट सिंड्रोम की समस्या है तो डॉक्टर से सलाह लें। कई बार शरीर में बिलीरुबिन की अतिरिक्त मात्रा के कारण आपको कुछ दवाइयों का रिएक्शन हो सकता है। इस स्थिति में रोगियों को डॉक्टर की सलाह पर ही दवाईयों का सेवन करना चाहिए।

गिल्बर्ट सिंड्रोम को नियंत्रित करने के लिए आपको अपने जीवनशैली में बदलाव करना चाहिए। पौष्टिक भोजन और व्यायाम को अपनी गतिविधियों में शामिल कर आप इसके लक्षणों को नियंत्रित ​कर सकते है। व्यायाम के माध्यम से तनाव को प्रबंधित (Manage) करने में भी मदद मिलती है। इस बात का ध्यान रखें कि शराब से स्थिति ज्यादा खराब हो सकती है, इसलिए गिल्बर्ट सिंड्रोम से पीड़ित व्यक्ति शराब का सेवन नहीं करना चाहिए।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें  

Leave a Reply

Your email address will not be published.